पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

परेशानी:कोरोना के चलते इस साल रामलीला के मंचन को लेकर संशय की स्थिति

कालका4 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

कोरोना वायरस को लेकर जहां सरकार द्वारा मार्च में देश में पूर्ण तरह से लॉकडाउन लगा दिया गया था। वहीं अब धीरे-धीरे अनलॉक के तहत गतिविधियों में छूट प्रदान की जा रही है। इसके तहत लोगों ने बाजारों में आना-जाना व सामान्य जीवन जीना शुरू कर दिया है। लेकिन इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है कि कालका में रामलीला का मंचन होने न होने पर संशय की स्थिति है।

कई जगह होता है मंचन: कालका में चार जगह पर रामलीला का मंचन किया जाता था जिनमें एक सिया राम नाटक क्लब द्वारा खेड़ा सीताराम दूसरा भारत नाटक क्लब द्वारा भी मंचन किया जाता था। इसके साथ-साथ एनजी ड्रामाटिक क्लब द्वारा भी रामलीला का मंचन किया जाता था।

प्रशाशन से अभी नहीं मिली अनुमति: कालका में आयोजित की जाने वाली रामलीला उनके प्रबंधकों द्वारा बताया गया कि प्रशासन से अनुमति अभी तक न मिलने के चलते इस बार रामलीला का मंचन नहीं हो पा रहा है। लोगों का मानना है कि सरकार द्वारा दी गई हिदायतों के साथ ही कम से कम रामलीला का मंचन करवाया जा सकता था।

^इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है कि शहर में रामलीला का मंचन नहीं हो पा रहा। कोरोना काल को लेकर ऐसा करना ठीक भी है। लेकिन कुछ लोगों का मानना है कि रामलीला का मंचन होना चाहिए। 100 साल से ज्यादा चली आ रही रामलीला का मंचन अभी तक अनुमति न मिलने के चलते नहीं हो पा रहा। यह कुछ हद तक ठीक भी है कि कोरोना काल के समय में कहीं संक्रमण और ज्यादा न बढ़ जाए। -नवल किशोर मित्तल, प्रधान भारत नाटक क्लब।

^रामलीला मंचन हमारे द्वारा इसीलिए किया जाता है कि भगवान राम के आदर्श जीवन के बारे में आज की पीढ़ी को पता चले और वह उस से प्रेरित होकर अपना जीवन जिए। कोरोना संक्रमण के चलते फिलहाल रामलीला का मंचन होने की उम्मीद नहीं है। हमारे क्लब में करीब 40 कलाकार रामलीला मंचन में भाग लेते थे। कोरोना के चलते कमेटी सदस्यों ने मंचन न करने का सुझाव दिया था । धर्म सिंह, प्रधान एनजी ड्रामाटिक क्लब।

^एक संस्था के अनुमति के बारे प्रार्थना पत्र आया हुआ है। जिस पर डीसी साहब ने रिपोर्ट मांगी है। जिसके ऊपर रिपोर्ट बनाई जा रही है। -राकेश संधू, एसडीएम कालका

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज परिवार के साथ किसी धार्मिक स्थल पर जाने का प्रोग्राम बन सकता है। साथ ही आराम तथा आमोद-प्रमोद संबंधी कार्यक्रमों में भी समय व्यतीत होगा। संतान को कोई उपलब्धि मिलने से घर में खुशी भरा माहौल ...

और पढ़ें