पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

धोखाधड़ी का मामला:88 लोगों के खातों में 264 किस्तों के भेजे 4.40 लाख; गर्भवती महिलाओं के पैसों का किया गबन

पंचकूला22 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • महिला बाल विकास के मोरनी ब्लॉक की दो आईडी हैक कर गर्भवती महिलाओं के पैसों का किया गबन
  • चाइल्ड डेवलपमेंट ऑफिसर की शिकायत पर सेक्टर-5 थाने में 420 के तहत मामला दर्ज

पहले स्वास्थ्य विभाग और अब महिला बाल विकास विभाग की दो ईमेल आईडी हैक होने का मामला सामने आया है। इन दोनों अाईडी का इस्तेमाल योजना के तहत मिलने वाले पैसों की अप्रूवल के लिए किया जाता था।, जिसमें गर्भवती महिलाओं को केंद्र सरकार की ओर से प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के तहत दिए जाने वाले लाखों रुपए दूसरे राज्यों के लोगों के खाते में फर्जी तौर पर ट्रांसफर किए गए। यह पैसा मोरनी ब्लॉक की गर्भवती महिलाओं को दिया जाना था।

महिला बाल विकास विभाग की ओर से की गई जांच में विभाग की चाइल्ड डेवलपमेंट प्रोजेक्ट ऑफिसर की शिकायत पर चंडीमंदिर थाना में धारा 420 के तहत मामला दर्ज किया गया है। फर्जीवाड़ा सामने आने के बाद अब महिला बाल विकास विभाग की ओर से राज्य के सभी जिलों के अधिकारियों को अपने स्तर पर योजना के तहत की गई पेमेंट की जांच करने को कहा गया है।

264 किस्तों के 4.40 लाख रुपए ट्रांसफर किए

महिला बाल विकास विभाग के मोरनी ब्लॉक की चाइल्ड डेवलपमेंट प्रोजेक्ट ऑफिसर डॉ. सविता ने बताया कि अभी तक की जांच में सामने आया है कि ईमेल आईडी हैक कर अप्रैल 2021 में बिहार, यूपी सहित अन्य राज्यों के 88 लोगों के खाते में 264 किस्तों के 4.40 लाख रुपए ट्रांसफर किए गए है।

इसके अलावा अभी जांच की जा रही है कि इससे पहले किसी भी तरह का फर्जीवाड़ा हुआ है या नहीं। दरअसल केंद्रीय महिला बाल विकास विभाग की ओर से जून महीने में हरियाणा के महिला बाल विकास विभाग को योजना के तहत की गई पेमेंट की जांच करने को कहा गया। केंद्र ने कहा कि इस योजना के तहत पंचकूला जिले का पैसा दूसरे राज्यों के लोगों के खातों में जमा करवाया गया है और उसकी जांच रिपोर्ट भी सौंपने को कहा गया।

ये है योजना

प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के तहत गर्भवती महिलाओं को पहला बच्चा होने पर तीन अलग-अलग किस्तों में 5 हजार रुपए दिए जाते हैं। इसके लिए आशा वर्कर के माध्यम से गर्भवती महिलाएं अपना रजिस्ट्रेशन करवाती हैं। डिलीवरी के बाद उन्हें तीन फेज में 1000, 2000 और 2000 रुपए खाते में ट्रांसफर किया जाता है। यह केंद्र सरकार की योजना है।

अमूमन तीन किस्तों में पैसा होता है ट्रांसफर

हैरानी की बात यह है कि दो ईमेल आईडी हैक करने के दौरान 88 लोगों के खाते में तीनों किस्तों का पैसा एक बार में ही जमा किया जाता है जो कि विभाग की ओर से ऐसा नहीं किया जाता है। सामान्य तौर पर इस योजना के तहत तीन किस्तों में पैसा आवेदक के खाते में जमा किया जाता है।

इसके लिए आंगनबाड़ी वर्कर, सुपर वाइजर, डाटा एंट्री ऑपरेटर और सेक्शन ऑफिसर तीनों से अप्रूवल के बाद फाइल चाइल्ड डेवलपमेंट प्रोजेक्ट ऑफिसर के पास भेजी जाती है। सीडीपीओ की अप्रूवल के बाद ही आवेदक के खाते में तीन किस्तों में पैसा जमा होता है।

खबरें और भी हैं...