रील लाइफ में विलन रियल लाइफ में बना हीरो:अभिनेता साेनू सूद ने अब पूनम का उठाया किडनी ट्रांसप्लांट करवाने का खर्चा

पंचकूला9 महीने पहलेलेखक: संदीप काैशिक
  • कॉपी लिंक
पूनम - Dainik Bhaskar
पूनम
  • दाे साल से जम्मू में हाे रहा था डायलिसिस, क्राउड फंडिंग से रुपए इकट्‌ठे कर करवा रहे थे डायलिसिस
  • लाॅकडाउन में घर के इकलाैते कमाने वाले पिता की चली गई थी नाैकरी

रील लाइफ में बेशक बाॅलीवुड एक्टर साेनू सूद विलन का राेल करते रहे हाें, लेकिन रियल लाइफ में वे असली हीराे का राेल अदा कर रहे है। इस बार वह इसलिए सुर्खियाें में है, क्याेंकि उन्हाेंने 26 साल की लड़की के किडनी ट्रांसप्लांट करवाने में अहम राेल अदा किया है।

जम्मू निवासी 26 साल की पूनम का किडनी ट्रांसप्लांट पंचकूला सेक्टर-21 के एक अस्पताल में हुआ है। पूनम काे उनके पिता सुभाष ने किडनी डाेनेट की है, जबकि उसके इलाज का खर्च एक्टर साेनू सूद की टीम ने उठाया है। वहीं, जब पूनम का इलाज करने वाले डाॅक्टराें काे भी उनकी फाइनेंशियल कंडीशन का पता चला ताे अल्केमिस्ट अस्पताल प्रबंधन ने भी इलाज खर्च में सहयाेग किया। अब पूनम काे छुट्टी मिल गई है और वह बिल्कुल ठीक है।

क्राउड फंडिंग से डायलिसिस करवाई गई

26 साल की पूनम चिब की बहन प्रिया ने बताया कि एक समय ऐसा था कि डायलिसिस के लिए खर्च उठाना मुश्किल हाे गया था। लाॅकडाउन के बाद पिता सुभाष की नाैकरी चली गई थी। तीन महीने तक घर में कमाने वाला काेई नहीं था। दाे साल पहले ही हमें पूनम की बीमारी का पता चला, उससे पहले वाे पढ़ाई भी करती थी और पढ़ाती भी थी। हमने अपनी सेविंग से इलाज करवाया, जब रुपए खत्म हाेने लगे ताे क्राउड फंडिंग भी की।

तीन महीने पहले साेनू सूद काे किया था मैसेज...

पूनम की दाेनाें किडनी खराब थी। डायलिसिस चल रहा था और जीने के लिए सिर्फ किडनी ट्रांसप्लांट ही उम्मीद बची थी। पिता तैयार हुए तो ट्रांसप्लांट के लिए खर्चा कहां से किया जाए, इस बात की चिंता सता रही थी। प्रिया ने बताया कि जब कुछ नहीं सूझा ताे आस लगाई कि शायद साेनू सूद ही इसमें हमारी मदद कर सकें।

इसी के चलते करीब 3 महीने पहले हमने अभिनेता साेनू सूद काे ट्वीट किया और उन्हें पूनम की स्थिति के बारे में बताया। जिसके बाद उनकी टीम ने संपर्क किया और पूरी डिटेल जानी। इसके बाद ही पंचकूला में पूनम का ट्रांसप्लांट हाे सका।

15 से ज्यादा डाॅक्टर, स्टाफ टीम ने किया ट्रांसप्लांट

किडनी ट्रांसप्लांट में करीब 15 सीनियर डाॅक्टर और अन्य मेडिकल स्टाफ की टीम ने काम किया है। जब ये अल्केमिस्ट अस्पताल आए थे ताे फाइनेंशियल कंडीशन ठीक नहीं थी। क्राउड फंडिंग से डायलिसिस करवाया जा रहा था ताे अस्पताल ने भी अपनी ओर से जितना हाे सकता था। इनकी मदद की है। एक्टर साेनू सूद की टीम से इन्हाेंने संपर्क किया था, जिन्हाेंने किडनी ट्रांसप्लांट का खर्च उठाया है। जिस कारण अब दाेबारा से पूनम अपनी पहले जैसी जिंदगी जीने लगी है।
- डाॅ. नीरज गाेयल, किडनी ट्रांसप्लांट सर्जन, अल्केमिस्ट

परिवार से करीब दाे महीने से लगातार संपर्क में थे

पूनम का पहले पीजीआई चंडीगढ़ में भी इलाज चल रहा था ताे इन्हाेंने कहा था कि हम पंचकूला आ जाएंगे। इसके बाद जब किडनी ट्रांसप्लांट की बात हुई ताे अल्केमिस्ट अस्पताल में सर्जरी की गई। इनके पास डेढ़ से दाे लाख रुपए थे, इसमें वह डायलिसिस भी करवा रहे थे।

इसके अलावा जाे खर्च हुआ है वह उठाया गया है। पिछले करीब दाे महीने से लगातार संपर्क में थे और किडनी ट्रांसप्लांट करवाने के लिए लीगल डाॅक्यूमेंट्स तैयार करवाने हाेते हैं, जिसके बाद ही यह सर्जरी की गई।
- गाेविंद अग्रवाल, साेनू सूद की टीम मेंबर

खबरें और भी हैं...