प्रदर्शन:बिमला ने कहा -बेटी 2 घरों को संभालती है बेटियों को बचाएं

बरवालाएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

गांव बतौड़ में आंगनवाड़ी वर्करों द्वारा अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस धूमधाम के साथ मनाया गया। गांव बतौड़ की आंगनवाड़ी व आशा वर्करों की तरफ से कार्यक्रम का आयोजन किया गया। जिसमें सरपंच लक्ष्मण बतौड़ मुख्य अतिथि के तौर पर उपस्थित रहे। बच्चियों के प्रति जागरूक रैली निकालने के साथ-साथ बच्चियों को उपहार भी भेंट किए गए।

सुपरवाईजर बिमला ने कहा कि पूरा विश्व बालिका दिवस मना रहा है। सभी को मिलकर उन लोगों की पहचान करनी होगी जो लोग बेटियों को इस दुनियां में आने से पहले ही मार देते है। बेटियों को बचाने के साथ साथ उन्हें बेहतर शिक्षा दिलवाने का भी प्रयास करना होगा। आज के युग में बेटा बेटी में कोई अंतर नहीं है। बेटी भी वहीं कार्य करती है जो कार्य बेटा कर सकता है।

उन्होंने कहा कि कुछ लोग बेटे को ही सब कुछ मानते है, पर बेटी को कुछ नहीं। इन लोगों को यह पता नहीं कि बेटी अगर शिक्षित होगी तो पूरा वंश शिक्षित होगा बेटी एक घर नहीं दो घर संभालती है। मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित सरपंच लक्ष्मण के द्वारा मौके पर मौजूद बेटियों को उपहार भी दिए।

बतौड़ में आंगनबाड़ी वर्करों द्वारा रविवार को अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस मनाया गया

खंड बरवाला के गांव बतौड में आंगनवाड़ी वर्करों द्वारा रविवार को अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस धूमधाम से मनाया गया। गांव बतौड की आंगनवाड़ी व आशा वर्करों की तरफ से कार्यक्रम का आयोजन किया गया जिसमें सरपंच लक्ष्मण बतौड मुख्य अतिथि के तौर पर उपस्थित रहे। बच्चियों के प्रति जागरूकता रैली निकालने के साथ-साथ बच्चियों को उपहार भी भेंट किए गए।

सुपरवाईजर बिमला ने कहा कि पूरा विश्व बालिका दिवस मना रहा है। सभी को मिलकर उन लोगों की पहचान करनी होगी जो लोग बेटियों को इस दुनियां में आने से पहले ही मार देते है। बेटियों को बचाने के साथ साथ उन्हें बेहतर शिक्षा दिलवाने का भी प्रयास करना होगा।

खबरें और भी हैं...