पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

आरोप:एचएसवीपी का इंजीनियरिंग विंग सेक्टरों में बैठा है, बिल्डिंग का थर्ड फ्लोर किराये पर दिया

पंचकूला2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • एमएसएमई डिपार्टमेंट को 3 साल के लिए देने पर अब अधिकारियों की कार्यप्रणाली पर उठ रहे सवाल
  • सेक्टरों में बैठे स्टाफ को इस्टेट आॅफिस में लाते तो लोगों के काम आसान होते

हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण ने पंचकूला इस्टेट ऑफिस की बिल्डिंग का थर्ड फ्लोर एमएसएमई डिपार्टमेंट को 3 साल के लिए किराये पर दे दिया है। अब, एचएसवीपी की बिल्डिंग में एमएसएमई का हेड ऑफिस भी होगा, लेकिन इस शिफ्टिंग के बाद एचएसवीपी के अधिकारियों पर सवाल खड़े हो गए हैं।

क्योंकि एचएसवीपी के खुद अपने अधिकारी अलग-अलग सेक्टरों में शोरूम, बूथ, या फील्ड ऑफिस में बैठे हैं, जिन्हें यहां शिफ्ट किया जा सकता था। एमएसएमई को बिल्डिंग किराये पर देने के पीछे किराये की मंथली कमाई का तर्क देने वाले अधिकारियों ने यह भी नहीं सोचा कि अगर सभी फील्ड स्टॉफ को शोरूमों, बूथों, फील्ड ऑफिस से यहां शिफ्ट करते तो उस प्रॉपर्टी को बेचकर करोड़ों रुपयों की कमाई हो सकती थी।

वहीं दूसरी ओर एचएसवीपी के ऑफिस में आने वाली लोगों की फाइलों में देरी न लगती। क्योंकि अभी तक किसी भी प्रॉपर्टी की फाइल इस्टेट ऑफिस में जमा होने के बाद इंजीनियरिंग विंग में सर्वे के लिए अलग-अलग जगहाें पर जाती है। लिहाजा लोगों की फाइलों को कई दिन पास होने में लगते हैं। अगर सही तरीके से निर्णय लिया जाता तो सभी अधिकारी एक ही छत के नीचे बैठ सकते थे।

सेक्टर-6 स्थित इस्टेट ऑफिस की बिल्डिंग का थर्ड फ्लोर एमएसएमई को रेंट पर दिया गया है। इसके लिए कॉन्ट्रेक्ट किया गया है। यह काम हेड ऑफिस की ओर से किया गया है। एके दून, इस्टेट ऑफिसर पंचकूला
इस बिल्डिंग के एक फ्लोर पर तीन साल के लिए दिया गया है। एमएसएमई की ओर से एचएसवीपी को हर महीने साढ़े चार लाख रुपए किराया दिया जाएगा। एके राणा, एक्सईएन

लोगों की सहूलियत के बारे में नहीं सोचते अधिकारी
शहर में डेवलपमेंट की प्लानिंग सेक्टर-6 में की जाती है, जबकि उस पर काम सेक्टर-8 में इंजीनियरिंग विंग के ऑफिस से होता है। अगर यह अधिकारी एक ही छत के नीचे होंगे तो बजट से लेकर अन्य प्लानिंग और उसकी फाइलों को कई-कई दिनों तक इधर से उधर नहीं घुमाया जा सकेगा।

वहीं दूसरी बड़ी बात यह है कि शहर के किसी भी प्लॉट से जुड़ी फाइल की किसी भी परमिशन, बनावट या अन्य काम के लिए जब इस्टेट ऑफिस में डॉक्यूमेंट्स को जमा करवाया जाता है तो उसके बाद ये फाइल फिजिकल सर्वे के लिए इंजीनियरिंग विंग के पास आती है।

यहां से सर्वे रिपोर्ट जाने के बाद ही आगे बात बनती है। ऐसे में ये ऑफिस दूर-दूर होने के कारण कई कई दिनों तक लोगों के काम अटके रहते हैं। जनता की सहूलियत के बारे में यदि अधिकारी सोचते तो वह अपने स्टाफ को यहां पर बुलाकर काम करते।

यहां बैठता है इंजीनियरिंग विंग...

पंचकूला में इंजीनियरिंग विंग के अधिकारियों को सेक्टर-8 की मार्केट में कई शोरूमों को दिया गया है। यहां पिछले कई सालों से इंजीनियरिंग विंग के अधिकारी बैठते हैं, जिसमें इंजीनियरिंग विंग की दो डिवीजन के एक्सइएन, एसडीओ, इलेक्ट्रिकल्स विंग का स्टॉफ, एलएओ, हॉर्टिकल्चर विंग के अधिकारी यहां बैठते हैं।

इसके अलावा जेई, एसडीओ के बैठने, पानी के बिल जमा करने के लिए सेक्टर-10 मार्केट के कई बूथों का इस्तेमाल किया जाता है, जबकि सेक्टर-5 में होटल साइट की जगह पर और इंडस्ट्रियल एरिया में करोड़ों की साइट पर ऑफिस को बनाया गया है। इन साइट की अभी मार्केट में करोड़ों की कीमत है, जिसमें सेक्टर-8 के शोरूमों की प्रति शोरूम के हिसाब से 8 से 7 करोड़ रुपए है।

जबकि सेक्टर-10 के बूथ 1 करोड़ रुपए प्रति बूथ के हिसाब से जा सकते हैं। वहीं सेक्टर-5 में होटल साइट और इंडस्ट्रियल एरिया में करोड़ों की साइट ऐसे ही पड़ी हैं। लिहाजा इन साइट काे खाली कर और सेक्टर-6 में स्टॉफ को शिफ्ट करने से करोड़ों रुपए का फायदा होता।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- जिस काम के लिए आप पिछले कुछ समय से प्रयासरत थे, उस कार्य के लिए कोई उचित संपर्क मिल जाएगा। बातचीत के माध्यम से आप कई मसलों का हल व समाधान खोज लेंगे। किसी जरूरतमंद मित्र की सहायता करने से आपको...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser