पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सांसों को मिली राहत:सेक्टर -6 जनरल हॉस्पिटल में अब एक और ऑक्सीजन जेनरेशन प्लांट हाेगा तैयार

पंचकूलाएक महीने पहलेलेखक: संदीप काैशिक
  • कॉपी लिंक
से.-6 जनरल हॉस्पिटल में इस जगह तैयार होगा प्लांट। - Dainik Bhaskar
से.-6 जनरल हॉस्पिटल में इस जगह तैयार होगा प्लांट।
  • एक मिनट में 1 हजार लीटर ऑक्सीजन की होगी सप्लाई

जनरल अस्पताल में अब एक और नया ऑक्सीजन जेनरेशन प्लांट बनाने के लिए काम शुरू कर दिया गया है। ये प्लांट हर एक मिनट में 1 हजार लीटर ऑक्सीजन तैयार करेगा, जिस हिसाब से एक घंटे में 60 हजार लीटर ऑक्सीजन जेनरेट हाेगी। अगर 12 घंटे की बात करें ताे 7 लाख 20 हजार लीटर ऑक्सीजन जेनरेट हाेगी। इस प्लांट काे अब स्वास्थ्य विभाग जल्द से जल्द शुरू करवाने के लिए काम करवा रहा है। इस प्लांट काे बनाने के लिए एनएचएआई की ओर से काम किया जा रहा है।

एनएचएआई के पास ही इसका सिविल और इलेक्ट्रिकल वर्क है। जिसके साथ-साथ मशीनरी इंस्टाॅल करने के लिए दिल्ली की कंपनी काे टेंडर दिया गया है। एनएचएआई की ओर से टीम पिछले दाे दिनाें से जनरल अस्पताल में साइट विजिट कर रही है।

अभी यह फैसला लिया गया है कि इस प्लांट काे ठीक उस प्लांट के साथ बनाने का काम किया जाएगा, जाे एक दिन पहले ही शुरू किया गया है। विभाग की ओर से टीम काे सिविल और इलेक्ट्रिकल वर्क पूरा करने के लिए 7 दिन का वक्त दिया गया है और अगले 15 दिन के अंदर इस प्लांट काे शुरू करने के लिए काम किया जा रहा है।

एक ब्लाॅक के कई वार्ड में 100 मरीजाें काे हाेगी सप्लाई

अस्पताल में बने रहे ऑक्सीजन जेनरेशन प्लांट से 80 से 100 मरीजाें काे ऑक्सीजन सप्लाई दी जा सकेगी। वीरवार शाम काे जाे ऑक्सीजन जैनरेशन प्लांट जनरल अस्पताल में शुरू किया गया है, उससे महज 25 से 30 मरीजाें काे ही ऑक्सीजन की सप्लाई दी जा रही है। जिस हिसाब से जनरल अस्पताल में ऑक्सीजन सपाेर्ट के मरीजाें काे एडमिट किया जा रहा है, ऐसे में ये सप्लाई बेहद कम है।

अगर एनएचएआई की ओर से अब नया प्लांट न बनाया जाता ताे वीरवार काे जाे प्लांट शुरू किया है, उससे अस्पताल की जरूरत पूरी नहीं हाेती। नए प्लांट से ब्लाॅक ए की दूसरी और तीसरी मंजिल के वार्ड के अलावा ब्लाॅक डी की तीसरी बिल्डिंग पर कुल 80 से 100 मरीजाें काे ऑक्सीजन सप्लाई करने की प्लानिंग है।

150 के बजाय अब 200 से 250 मरीजाें काे हाे रही सप्लाई

जनरल अस्पताल में लगे 6 टन के ऑक्सीजन टैंक से महज 150 मरीजाें काे ही ऑक्सीजन सपाेर्ट पर रखा जा सकता है। इसके लिए कंपनी की ओर से भी कई बार बताया गया कि इससे ज्यादा मरीजाें काे इस टैंक के जरिये ऑक्सीजन देना खतरनाक साबित हाे सकता है।

जिसके बाद अभी भी जनरल अस्पताल में 200 से 250 मरीजाें काे ऑक्सीजन सपाेर्ट पर रखा जा रहा है। पिछले दाे महीने से ऑक्सीजन की खपत तेजी से हाे रही है। कुछ दिन पहले इस कारण फाॅल्ट भी आ गया था, जिससे टैंक के पास बर्फ जमने से सप्लाई के दाैरान फ्लाे कम हाे गया था। अब यहां पर 24 घंटे एक कर्मचारी काे इसकी निगरानी के लिए रखा गया है।

एनएचएआई काे सिविल और इलेक्ट्रिकल वर्क पूरा करने के लिए दिया 7 दिन का समय, 15 दिन के अंदर प्लांट शुरू करने का टारगेट, 6 टन का टैंक 150 मरीजाें काे दे सकता है ऑक्सीजन

पंचकूला में बन रहे ऑक्सीजन जेनरेशन प्लांट का अभी एस्टीमेट नहीं बताया जा सकता। हमें स्वास्थ्य विभाग की ओर से सिविल और इलेक्ट्रिकल वर्क खत्म करने के लिए 7 दिन दिए गए है। हमने अपना काम शुरू कर दिया है और इसमें मशीनरी इंस्टाॅल करने के लिए दिल्ली की कंपनी काे मंजूरी दी गई है। जिसके बाद उनकी टीम भी या ताे साथ के साथ काम करेगी और या फिर हमारा काम कंप्लीट हाेने के बाद काम शुरू करेगी।
- गगन कुमार, साइट इंचार्ज, एनएचएआई

पंचकूला में अब एक और ऑक्सीजन जेनरेशन प्लांट बनाने का काम शुरू करवा दिया है। इस प्लांट काे एनएचएआई की ओर से बनाया जा रहा है। हम काेशिश कर रहे है कि इस प्लांट काे अगल 10 से 15 दिन के अंदर शुरू करवा दिया जाए। इस टैंक के शुरू हाेने के बाद जनरल अस्पताल में ऑक्सीजन सप्लाई काे लेकर काफी हद तक समस्या दूर हाे जाएगी। हमारी काेशिश रहेगी कि इस टैंक से एक ब्लाॅक काे ऑक्सीजन की सप्लाई दी जा सके। -डाॅ. जसजीत काैर, सीएमओ, पंचकूला

खबरें और भी हैं...