पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

जांच:दाे दिन पहले जब्त 324 किलाे पनीर के सैंपल फेल

पंचकूलाएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • रायपुररानी, बरवाला के अलावा पंचकूला की कुछ दुकानें और पिंजाैर, कालका में भी हाेता था सप्लाई

नरवाना से राेजाना पंचकूला में कईं क्विंटल पनीर सप्लाई हाेता था, जिसे ठीक दाे दिन पहले सीएम फ्लाइंग स्कवायड की टीम के अलावा सीआईडी और फूड सेफ्टी ऑफिसर डाॅ. गाैरव शर्मा की टीम ने सीज किया था। टीम ने बरवाला में सुबह करीब साढ़े 5 से 6 बजे के करीब ही रेड डाल दी थी। जिसमें उन्हाेंने करीब 324 किलाे पनीर सीज किया था। जिसके सैंपल वीरवार काे फेल हाे गए है।

लैब ने सीज किए इस पनीर के सैंपलाें काे सब स्टेंडर्ड बताया है और यह भी बताया है कि इस पनीर काे बेच भी नहीं सकते। जिसके बाद अब टीम इस पनीर काे नष्ट किया जाएगा। साथ ही अब इस पनीर की सप्लाई करने वालाें पर अब मुकदमा भी दर्ज किया जाएगा। वहीं, अगर इस पनीर के दाम की बात करें ताे वह रेट्स भी चाैंकाने वाले है। टीम काे इस लिए भी इन लाेगाें पर शक हुआ कि आम ताैर पर पनीर 280 के करीब किलाे बिक रहा है, लेकिन इस पनीर काे 140 से लेकर 180 रुपए किलाे तक बेचा जाता था।

अब नकली घी बनाने वालाें पर कसा जाएगा शिकंजा
हाल ही में पंचकूला फूड सेफ्टी विभाग के डेजिग्नेटिड ऑफिसर डाॅ. सुभाष चंद ने स्टेट टीम में शामिल हाेकर जींद में नकली देसी घी बनाने वालाें पर रेड डाली थी। इस दाैरान कईं क्विंटल नकली फूड प्राेडक्ट जब्त किया था और उनके सैंपल लेकर जांच के लिए लैब भेजा गया था। वहीं, इस पूरे मामले की रिपाेर्ट तैयार कर स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज काे भी भेजी जाएगी।

डाॅ. सुभाष चंद ने बताया कि अब पंचकूला में ऐसे मिलावटी फूड प्राेडक्ट बनाने वालाें पर शिकंजा कसने के लिए काम किया जा रहा है। इसके अलावा दूसरे जिले और आसपास के राज्याें से राेजाना आने वाले फूड प्राेडक्टाें पर भी नजर रखी जा रही है और अब जल्द ही रेड कर मिलावटी प्राेडक्ट सप्लाई करने वालाें पर कार्रवाई की जाएगी। उन्हाेंने बताया कि जींद में वनस्पति घी में बटर मिलाकर देसी घी बनाया जा रहा था। अब इस तर्ज पर पंचकूला में भी जांच की जाएगी।

पनीर सप्लाई करने वालाें पर मुकदमा दर्ज किया जाएगा
^दाे दिन पहले बरवाला में 324 क्विंटल के करीब पनीर काे सीज किया था। राेजाना सुबह नरवाना से ये पनीर बरवाला में आता था और उसके बाद सप्लायर इसे काफी कम दाम में रायपुररानी, बरवाला, पिंजाैर, कालका के अलावा आसपास के कई एरिया में सप्लाई करता था। लैब ने इस पनीर के सैंपल काे सब स्टैंडर्ड बताया है।

साथ ही इस पनीर काे बेच भी नहीं सकते थे। जिसके बाद अब इसे नष्ट किया जाएगा। इसके अलावा पनीर सप्लाई करने वालाें पर मुकदमा दर्ज किया जाएगा और अब नरवाना तक भी जांच की जाएगी। इसके अलावा इस पनीर काे पंचकूला में किन दुकानाें या हाेटेल, रेस्टाेरेंट में सप्लाई किया जाता था, इस पर भी पूरी जांच की जाएगी।
डाॅ. गौरव शर्मा, फूड सेफ्टी ऑफिसर, पंचकूला

खबरें और भी हैं...