पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

आस्था:परिवार में से एक का टेस्ट 1060 में से दो पॉजिटिव

पंचकूला13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
मंदिर में पहले दिन दोपहर बाद दिखी श्रद्धालुओं की ज्यादा भीड़।
  • मंदिर में बरते एहतियात, त्योहारी सीजन में एक बार फिर जिले में बढ़ सकती है संक्रमितों की संख्या
  • मंदिर में हर 5 से 10 मीटर की दूरी पर पुलिस, सेवादार मौजूद

शनिवार से नवरात्र मेला शुरू हुआ और मेला के पहले दिन दोपहर बाद श्रद्धालुओं की भीड़ देखी गई। बोर्ड के मुताबिक वीकेंड की वजह से सुबह 5 बजे से ही श्रद्धालु मंदिर के बाहर लाइन में लगे थे। श्रद्धालुओं काे कोरोना टेस्ट और सैनिटाइज्ड करने के बाद ही मंदिर में प्रवेश करने दिया जा रहा था।

साथ ही मंदिर की लाइन में हरेक 5 से 10 मीटर की दूरी पर पुलिस व सेवादार मौजूद थे। जो श्रद्धालुओं को जिगजैग ग्रिल व किसी सामान को छूने से मना कर रहे थे। सोशल डिस्टेंसिंग को ध्यान में रखते हुए श्रद्धालुओं को मंदिर में भीतर जाने दिया जा रहा था लेकिन माता के दर्शन की जल्दबाजी में श्रद्धालु सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं कर रहे थे। जिगजैग ग्रिल पार करने के बाद श्रद्धालुओं को दो लाइनों में माता के मंदिर तक दर्शन के लिए भेजा जा रहा था।

सतर्कता: दोनों संक्रमित श्रद्धालुओं को अस्पताल भेजा...

माता के दर्शन करने जा रहे श्रद्धालुओं के परिवार में से एक सदस्य का मौके पर ही रैपिड कोरोना टेस्ट करवाया जा रहा था। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने पहले दिन 1060 श्रद्धालुओं का रैपिड टेस्ट किया गया। जिसमें दो श्रद्धालु पॉजिटिव मिलने पर उन्हें इलाज के लिए अस्पताल भेजा गया। बाकी श्रद्धालुओं का टेस्ट नेगेटिव पाया गया। हालांकि वीआईपी एंट्री गेट पर इस तरह की कोई व्यवस्था नहीं थी।

लचर व्यवस्था: हजारों श्रद्धालुओं पर एक डॉक्टर...

जिला प्रशासन की ओर से स्वास्थ्य विभाग को रोजाना आने वाले हजारों श्रद्धालुओं के लिए डॉक्टरों की व्यवस्था करने को कहा गया था। हैरानी की बात यह है कि रोजाना आने वाले हजारों श्रद्धालुओं के लिए स्वास्थ्य विभाग की ओर से एक ही डॉक्टर की ड्यूटी मेले में लगाई गई है।

ऐसे में सवाल यह उठता है कि अगर कोई आपातकालीन परिस्थिति होती है या फिर एक समय में एक से ज्यादा श्रद्धालु बीमार होते हैं तो क्या एक डॉक्टर उसे संभाल पाएगा। स्वास्थ्य विभाग की इस लापरवाह रवैये की वजह से आपातकालीन परिस्थिति में श्रद्धालुओं की जान आफत में आ सकती है।

चढ़ावा: 23,79,887 का दान श्रद्धालुओं ने दिया...

श्रीमाता मनसा देवी और कालका काली माता मंदिर के चरणों में श्रद्धालुओं ने 23,79,887 रुपए का नकद चढ़ावा चढ़ाया। माता मनसा देवी के चरणों में 18,54,572 रुपए और कालका काली माता के चरणों में 5,25,315 रुपए श्रद्धालुओं ने चढ़ावा चढ़ाया। माता मनसा देवी मंदिर के चरणों में 1 सोना का नग और 17 चांदी के नग चढ़ाया।

वहीं, कालका काली मंदिर में श्रद्धालुओं ने 4 सोने के नग और 44 चांदी के नग चढ़ाया। प्रसाद कलेक्शन में माता मनसा देवी मंदिर में 37,500 रुपए का प्रसाद श्रद्धालुओं ने खरीदा। प्रसाद 100 ग्राम और 200 ग्राम के पैकेट में मिल रहा था। इस दाैरान श्रद्धालुओं ने 100 ग्राम में कुल 19 हजार रुपए का और 200 ग्राम में 18,500 रुपए का प्रसाद खरीदा। वहीं, कालका काली माता मंदिर में 2400 रुपए का प्रसाद श्रद्धालुओं ने खरीदा।

लापरवाही: रेलिंग क्रॉस कर लाइनों में घुसते दिखे श्रद्धालु...

लाइन में घुसने और जल्द से जल्द माता का दर्शन करने के लिए श्रद्धालुओं में इतनी जल्दबाजी देखी गई कि वे मंदिर की रेलिंग पार कर लाइनों में घुसने की कोशिश कर रहे थे। हालांकि 10 मीटर की दूरी पर मौजूद मंदिर के सेवक व होमगार्ड के जवानों ने ऐसे श्रद्धालुओं को रोकने की कोशिश भी की ताकि श्रद्धालु चोटिल न हो सकें।

कमाई: वीआईपी गेट की बुकिंग से बोर्ड को मिला रेवेन्यु...

शनिवार नवरात्र मेले के पहले दिन 11,100 श्रद्धालुओं ने ऑनलाइन बुकिंग कर माता के दर्शन किए। इसमें 8800 श्रद्धालुओं ने स्लॉट वाइज फ्री बुकिंग करवाकर माता का दर्शन अलग-अलग समय पर किया। 2300 के करीब श्रद्धालुओं ने वीआईपी दर्शन के लिए स्लॉट बुक करवाया और उससे करीब एक लाख रुपए का रेवेन्यू श्राइन बोर्ड के लिए इकट्‌ठा हुआ।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आप अपनी दिनचर्या को संतुलित तथा व्यवस्थित बनाकर रखें, जिससे अधिकतर काम समय पर पूरे होते जाएंगे। विद्यार्थियों तथा युवाओं को इंटरव्यू व करियर संबंधी परीक्षा में सफलता की पूरी संभावना है। इसलिए...

और पढ़ें