विद्युत समस्या:एक साल से बंद था मकान, दो यूनिट ही जली, बिल भेज दिया 77 लाख का

पंचकूला8 महीने पहलेलेखक: संजीव रामपाल
  • कॉपी लिंक
सेक्टर-26 में मकान नंबर 927 पी, जिसका बिजली बिल 77 लाख आया है। - Dainik Bhaskar
सेक्टर-26 में मकान नंबर 927 पी, जिसका बिजली बिल 77 लाख आया है।
  • सेक्टर-7 निवासी को मकान की कीमत से ज्यादा का बिल भेजा

सेक्टर-7 निवासी संजीव सिंगला का सेक्टर-26 में भी मकान है। 10 मरला यह मकान एक साल से बंद पड़ा है। फिर भी उत्तर हरियाणा बिजली वितरण निगम ने उन्हें 77 लाख 20210 रुपए का बिजली बिल थमा दिया है। भारी भरकम बिल ने उनकी नींद उड़ा दी है। घग्गर पार के सेक्टरों में 8 मरले का प्लॉट 80 से 90 लाख में मिल जाता है जितना कि यूएचबीवीएन एक माह का उनसे बिजली का बिल मांग रहा है।

उन्हें यह बिल 29 जनवरी से 21 फरवरी, 2021 तक का भेजा गया है। बिल में लिखा है कि पहले मीटर रीडिंग 12 यूनिट थी जोकि अब बढ़कर 14 यूनिट हो गई है। यानि 23 दिनों की इस अवधि में 2 यूनिट बिजली कंज्यूम की गई है। इस दो यूनिट का 77 लाख रुपए से ज्यादा बिल बना दिया गया है।

हालांकि, यूएचबीवीएन बिल में मान रहा है कि दो यूनिट बिजली इस्तेमाल की गई है। वहीं, बिल में 71 लाख रुपए एनर्जी चार्जेज, 3.70 लाख फ्यूल सरचार्ज एडजस्टमेंट, एक लाख रुपए इलेक्ट्रिसिटी ड्यूटी, 149400 रुपए म्युनिसिपल टैक्स, 776.92 रुपए एरियर्स या आउटस्टैंडिंग ड्यूज के जोड़े हैं। सिंगला का कहना है कि वे सेक्टर 7 में रहते हैं। एक साल पहले ही उन्होंने यह मकान खरीदा है, तब से ही यह मकान बंद ही रहता है।

2.25 लाख लेट फीस के मांगे...

उनके मुताबिक कई जगह शिकायतें करने के बाद आखिर यूएचबीवीएन ने अपनी गलती मान ली है लेकिन अब 2,25,623.64 रुपए का बिल बना दिया गया है। कहा जा रहा है कि पहले भेजा गया बिल 31 मार्च से पहले जमा कराना था।

यह बिल समय पर जमा न कराने पर अब 2.25 लाख रुपए की लेट फीस जमा करानी होगी। उनका कहना है कि जब यूएचबीवीएन अपनी गलती मान चुका है कि पहले गलत बिल भेज दिया गया था तो लेट फीस किस वजह से मांगी जा रही है।

सेक्टर-26 में मकान नंबर 927 पी का बिल गलत बनने की शिकायत आई थी। वेरिफाई कराने के बाद बिल ठीक कर रहे हैं। उन्हें वही बिल जमा कराना होगा जोकि बनता है।-निर्मल सिंह, एसडीओ यूएचबीवीएन

खबरें और भी हैं...