पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

प्रस्ताव पारित:नए सिरे से नहीं बना सेक्टर-10 कम्युनिटी सेंटर, 3 साल पहले पारित हुआ था प्रस्ताव

पंचकूला7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • जर्जर हाल में हैं कम्युनिटी सेंटर, लोग बोले- बाहर बैक्वेंट हाल बुक कराने पर मोटी रकम चुकानी पड़ती है

सेक्टर 10 के जंज घर का नाम बदल कर कम्युनिटी सेंटर तो रख दिया गया है लेकिन इसके हालात आज तक नहीं बदले हैं। यह सामुदायिक केंद्र जर्जर हाल में हैं। दीवारों में दरारें आ चुकी है। बारिश होने पर छत टपकने लगती है। इस सामुदायिक केंद्र को गिराकर नए डिजाइन के आधार पर दोबारा बनाया जाना है। लेकिन पिछले कई माह से लगातार विभिन्न कारणों से इसका निर्माण कार्य टलता आ रहा है।

पंचकूला नगर निगम की 14 दिसंबर, 2017 को हुई हाउस मीटिंग में सर्वसम्मति से सेक्टर-10 के जंज घर का नाम बदल कर सामुदायिक केंद्र करने और इसे गिराकर नए सिरे से बनाने का प्रस्ताव पारित किया गया था।

अगले माह इस प्रस्ताव को पारित हुए तीन साल बीत जाएंगे लेकिन सामुदायिक केंद्र की हालत ज्यों की त्यों बरकरार है। सामुदायिक केंद्र जर्जर होने के कारण शहरवासी अपने सार्वजनिक कार्यक्रम जैसे ब्याह-शादी का आयोजन नहीं कर पाते हैं।

लोगों को अपने सार्वजनिक कार्यक्रमों के आयोजन के लिए लाखों रुपये खर्च कर जीरकपुर के बैंक्वेट हाल बुक कराने पड़ते हैं। सामुदायिक केंद्र की बुकिंग के लिए लाेगाें काे 10,000 से 15,000 रुपए प्रतिदिन के हिसाब से किराया देना पड़ता है। इसके अलावा 3500 से 5,000 रुपए तक की सिक्याेरिटी ली जाती है जाेकि कार्यक्रम के आयोजन के बाद लौटा दी जाती है।

वहीं, जीरकपुर के बैंक्वेट हाल का किराया एक लाख रुपये से लेकर दस लाख रुपये तक हैं। इसके अलावा वहां टैंट, डेकोरेशन और कैटरिंग पर अलग से खर्च करना पड़ता है। जीरकपुर में ब्याह-शादी के कार्यक्रमों के आयोजन से जहां लोगों का काफी खर्चा होता हैं, वहीं सरकार को भी इससे रेवेन्यू का नुकसान होता है।

अगर यही सार्वजनिक कार्यक्रम जीरकपुर की बजाय पंचकूला में हो तो रेवेन्यू भी हरियाणा सरकार को मिलता है। जीरकपुर में सार्वजनिक समारोह के आयोजन का रेवेन्यू पंजाब सरकार को जाता है। सेक्टर-10 के आसपास के सेक्टरों में भी लोगों को सामुदायिक केंद्र का फायदा नहीं मिल पा रहा है। सेक्टर-9 के सामुदायिक केंद्र में हेल्थ डिपार्टमेंट का ऑफिस शिफ्ट किया जा रहा है।

सेक्टर-15 का सामुदायिक केंद्र तोड़कर नए सिरे से बनाया जा रहा है जिसका निर्माण कार्य पूरा होने में अभी समय लगेगा। सेक्टर-4 के सामुदायिक केंद्र में पंचकूला नगर निगम का कब्जा है। यहां एमसी का सिटीजंस फेसिलिटेशन सेंटर और इंजीनियरिंग विंग का ऑफिस चल रहा है। शहर में कोई बड़ा मैरिज पैलेस, बैंक्वेट हाल भी नहीं है।

पिछले डेढ़ साल से निगम अफसर आश्वासन दे रहे हैं
सेक्टर-10 के निवासी पिछले तीन साल से सामुदायिक केंद्र का नए सिरे से निर्माण होने का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं। पिछले डेढ़ साल से नगर निगम के अफसर आश्वासन दे रहे हैं कि हरियाणा सरकार से सामुदायिक केंद्र के निर्माण की इजाजत मिल गई हैं। जल्द ही नए सिरे से बनाने का काम शुरू होगा। भारत हितैषी, चेयरमैन, हाउस ऑनर्स वेलफेयर एसोसिएशन, सेक्टर-10

आज तक जमीन पर कोई कार्रवाई नहीं हुई
एसोसिएशन जून, 2009 से लगातार पंचकूला के विधायक, उपायुक्त, एचएसवीपी के प्रशासक मुख्य प्रशासक, नगर निगम आयुक्त, पूर्व वार्ड पार्षद के साथ निरंतर इस मांग को उठा रही है। मंजूरी मिलने के बाद आज तक जमीन पर कोई कार्रवाई नहीं हुई।
संजय आहुजा, संरक्षक, हाउस ऑनर्स वेलफेयर एसोसिएशन

तीन साल बाद भी काम शुरू नहीं किया जा रहा है
सीनियर सिटीजंस के बैठने के लिए यहां व्यवस्था की गई थी जबकि काउंसिल का ऑफिस सेक्टर-8 के आर्य समाज मंदिर में बनाया गया था। अब सीनियर सिटीजंस काउंसिल का ऑफिस अगस्त माह से वापस सेक्टर-15 में शिफ्ट हो चुका है। इसके बावजूद काम शुरू नहीं किया जा रहा है।
बी.एम. कौशिक, अध्यक्ष, हाउस ऑनर्स वेलफेयर एसोसिएशन

विधानसभा अध्यक्ष ने आश्वासन दिया था
एसोसिएशन का एक प्रतिनिधिमंडल फरवरी में विधानसभा स्पीकर से उनके निवास पर मिला था। उन्होंने एक महीने में सारी आधिकारिक प्रक्रिया पूरी कर निर्माण कार्य आरंभ कराने का आश्वासन दिया था, जिस पर अभी तक अमल नहीं हुआ है।
एन. के. खोसला, महासचिव, हाउस ऑनर्स वेलफेयर एसोसिएशन

एसोसिएशन पिछले कई वर्षों से संघर्ष कर रही है
हाउस ओनर्स वेलफेयर एसोसिएशन, सेक्टर-10 की ओर से पिछले लंबे समय से सामुदायिक केंद्र के नवनिर्माण के लिए आवाज बुलंद की जा रही है। हरियाणा विधानसभा के स्पीकर और पंचकूला नगर निगम के अफसरों को सामुदायिक केंद्र का निर्माण तुरंत शुरू करवाना चाहिए।
एन.सी. स्वामी, संस्थापक, हाउस आॅनर्स वेलफेयर एसोसिएशन

यह योजना केवल कागजों तक ही सीमित है
अफसरों ने बताया था कि सरकार से मंजूरी मिलने के बाद पुराने जंजघर को गिरा कर नए सिरे से बनाया जाएगा। नए सामुदायिक केंद्र में ग्राउंड फ्लोर पर दो बैंक्वेट हॉल बनाए जाएंगे। यह योजना केवल कागजों तक ही है। कागजों से बाहर आने में पता नहीं कितने साल लगेंगे।
सुभाष शर्मा, वरिष्ठ उप प्रधान, हाउस ऑनर्स वेलफेयर एसोसिएशन

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- कुछ महत्वपूर्ण नए संपर्क स्थापित होंगे जो कि बहुत ही लाभदायक रहेंगे। अपने भविष्य संबंधी योजनाओं को मूर्तरूप देने का उचित समय है। कोई शुभ कार्य भी संपन्न होगा। इस समय आपको अपनी काबिलियत प्रदर्...

और पढ़ें