पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

आरोप:नगर निगम की ऑनलाइन सर्विसेज के नाम पर बेवजह तंग किया जा रहा है: रेजिडेंट्स

पंचकूला6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • लोग बोले- एमसी आफिस के कई चक्कर काटने के बाद नहीं हो रहे हैं काम

सेक्टर-19 निवासी नरेश नारंग अपने घर के एड्रेस पर गलत मालिक का नाम ठीक कराने के लिए नगर निगम ऑफिस गए। उन्हें कहा गया कि कोविड के कारण इन दिनों डायरेक्टर एप्लिकेशन नहीं ली जा रही है। उन्हें ऑनलाइन आवेदन करने के लिए कहा गया। उन्होंने ऑनलाइन आवेदन कर दिया। उन्हें नाम ठीक करने के लिए 15 दिन का समय दिया गया।

यह समयावधि खत्म हो चुकी है लेकिन अभी तक उनकी प्रॉपर्टी के रिकॉर्ड में मालिक का नाम ठीक नहीं किया गया है। इसकी शिकायत उन्होंने सोशल मीडिया के माध्यम से मुख्यमंत्री एवं पंचकूला नगर निगम के अफसरों को दी है। यह शिकायत दिए भी कई दिन बीत चुके है लेकिन उनकी समस्या का समाधान अभी तक नहीं हुआ है।

पंचकूला नगर निगम में प्रॉपर्टी टैक्स को सही करवाना हो या अपना नाम सही करवाना हो। किसी भी समस्या का हल आसान नही है। एमसी ऑफिस के कई चक्कर काटने के बाद भी समस्या का समाधान नहीं होता है। लोगों का आरोप है कि शहरवासियों को स्मार्ट सिटी के ख्वाब दिखाए जा रहे है लेकिन जमीनी हकीकत कुछ और ही बयान कर रही है।

राजेश वालिया ने कहा कि उनकी तरफ से जमा कराए प्रॉपर्टी टैक्स की कुछ रसीदें नगर निगम के रिकॉर्ड में नही चढ़ी थी। इसके लिए उन्होंने ऑनलाइन आवेदन किया परन्तु आज तक उनकी शिकायत पर कोई कार्रवाई नही हुई है। लोगों का कहना है कि तरह के ऑनलाइन प्रोसेस का क्या फायदा, जब लोगों को ही किसी सर्विस का फायदा न मिले। उनकी मांग है कि काम में लापरवाही बरतने वाले कर्मचारियों पर कार्रवाई होनी चाहिए। उन्हें चार्जशीट करने के साथ अनुशासनात्मक कार्रवाई हो।

आज तक पुराने मालिक का नाम ही साइट पर चल रहा है

सेक्टर 19 निवासी नीलम रानी का कहना है कि उन्होंने अपना मकान बेचना था। उन्होंने जब नगर निगम से एनओसी के लिए एप्लाई किया तो पता चला कि मकान अभी भी पुराने मालिक के नाम ही चल रहा है। इसे ठीक करवाने के लिए आवेदन दिया और बकाया राशि भी जमा करा दी। उनका कहना है कि नगर निगम की साइट पर तो नया नाम चढ़ा दिया गया परन्तु यूएलबी की साइट पर महीनों बीतने पर भी आज तक पुराने मालिक का नाम ही चल रहा है।

खबरें और भी हैं...