पिंजौर-नालागढ़ हाईवे / आरओबी के बाद दुकानों के आगे रोड की चौड़ाई कम होने से कारोबार की चिंता

X

  • पिंजौर-नालागढ़ रेलवे फाटक के आरओबी को पिलरों पर बनाने की मांग

दैनिक भास्कर

Jul 01, 2020, 04:00 AM IST

पिंजौर. पिंजौर-नालागढ़ हाईवे पर ट्रैफिक जाम की समस्या को देखते हुए सरकार द्वारा रेलवे फाटक पर आरओबी (रेलवे ओवर ब्रिज) को मंजूरी देकर उसका काम भी शुरू करवा दिया गया है। करीब 29 करोड़ की लागत से बन रहा आरओबी जहां एक ओर रेलवे फाटक पर ट्रैफिक की समस्या को दूर करेगा। वहीं यह आरओबी हाईवे के दोनों ओर बनी सैकड़ों दुकानों के मालिकों के लिए भी चिंता बन गया है।

आरओबी बनने के बाद दुकानदारों को अपने कारोबार ठप होने की चिंता सताने लगी है। मगंलवार को दुकानदारों ने आरओबी पिलरों पर न बनने पर रोष प्रकट किया और हाथ खड़े करके विरोध जताया। लोहगढ़ मार्केट वेल्फेयर एसोसिएशन के प्रधान विजय जोशी ने कहा कि लंबे अरसे से पिंजौर-नालागढ़ हाईवे के दोनों ओर लोहगढ़ व माडल टाउन के पास सैकड़ों दुकानें बनी हुई है।

 लोगों ने अपनी पूंजी अपनी इन दुकानों पर लगाकर पूरी जिंदगी का रोजगार चला रखा है, परंतु सरकार द्वारा रेलवे फाटक पर बनाए जा रहे आरओबी के कारण दुकानदारों को कारोबार ठप होने की चिंता सताने लगी है क्योंकि हाईवे की रोड पहले से ही टू लेन है, सड़क और दुकानों के बीच में पहले ही जगह कम होने के कारण दुकानदारों को परेशानी हो रही थी परंतु अब आरओबी बनने के बाद दुकानों के आगे कई जगह तो करीब 4 फीट जगह ही रह गई है उसके बाद आरओबी के लिए ड्रेनेज बनाया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि इससे जहां एक ओर दुकानदारों का कारोबार ठप होगा, वहीं रोड किनारे दुकानों व मकानों की वेल्यू भी कम हो जाएगी। कहा कि उनकी आरओबी को स्पेन व पिलरों पर बनाने की मांग थी ताकि रोड किनारे दुकानों की आपस में कनेक्टिविटी बनी रही और ब्रिज के नीचे खाली जगह पर दुकानों में आने वालों के लिए वाहनों की पार्किंग भी बन सके।  

नाले के ऊपर रोड बनता है तो दुकानें नीचे हो जाएंगी
रणदीप दीपी, प्रदीप ने कहा कि आरओबी के लिए बन रहे पानी निकासी वाले नाले का कई जगह पर लेवल दुकानों से काफी ऊंचा है, अगर नाले के ऊपर से भी वाहनों के लिए रोड बनता है तो उनकी दुकानें रोड से काफी नीचे हो जाएगीं जिससे बरसात में उनमें पानी घुसेगा। दुकानदारों ने कहा कि एक तो पहले से ही कारोबार कम है ऊपर से अगर आरओबी योजना के मुताबिक आरओबी मिट्टी वाला रिटर्निंग वाल पर बना तो कारोबार बिल्कुल ही खत्म हो जाएगा, ऐसे में प्रॉपटी की भी वेल्यू कम होने से उसे भी बेच नहीं सकते।

इस आरओबी से दुकानदारों पर दोहरी मार पड़ रही है। दुकानदार जरनैल सिंह जैली, अशोक कुमार, संजय, अमित, जसपाल, प्रवीन कुमार, रामकिशन, रामकरण और दर्शन ने कहा कि इस समय जो आरओबी बन रहा है उसमें हमारा तो नुकसान है ही, इसके अलावा लोगों को भी सड़क के दूसरी जाने के लिए दूर तक घूमकर आना पड़ेगा और दुकानों के आगे पार्किंग के लिए जगह भी कम रह जाएगी। अभी तो इसकी ड्राइंग बदलकर पिलरों पर बनाया जा सकता है परंतु काम ओर ज्यादा हो गया तो इसे बदलना भी मुश्किल होगा।     

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना