पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कार्रवाई:विरोध के बावजूद एनएचएआई की टीम ने दुकानों को जेसीबी से हटाया

पिंजौर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
एनएचएआई की जेसीबी मशीन दुकानों को तोड़ते हुए, दुकानदारों ने सीएम से भी लगाई थी गुहार - Dainik Bhaskar
एनएचएआई की जेसीबी मशीन दुकानों को तोड़ते हुए, दुकानदारों ने सीएम से भी लगाई थी गुहार
  • भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण ने नोटिस देकर एक सप्ताह में जगह खाली करने के लिए कहा था

पंचकूला-शिमला हाईवे 5 पर सूरजपुर रोड किनारे भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण द्वारा दुकानदारों को भारी विरोध के बावजूद दुकानों को हटा दिया। एनएचएआई द्वारा कुछ दिन पहले ही जब दुकानों को हटाने के नोटिस दिए थे तब दुकानदारों व दुकानों के नीचे बने मकानों में रहने वाले लोगों में हड़कंप मच गया था।

यह दुकानदार पिछले करीब 50 सालों से यहां पर अपनी दुकानदारी कर रहे थे। भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण ने गत 23 सितंबर को नोटिस देकर एक सप्ताह में जगह खाली करने के लिए कहा था।जीरकपुर-शिमला हाईवे 5 पर सूरजपुर रोड किनारे में 30 से ज्यादा दुकानों व उनके नीचे बने घरों को हटाने की तैयारी शुरू हो गई थी। जिसको लेकर भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण द्वारा हिमालयन एक्सप्रेस के महाप्रबंधक को पत्र लिखकर आदेश करते हुए हाईवे किनारे से अतिक्रमण हटाने के लिए कहा गया था।

वहीं जिन दुकानदारों की दुकान व घर इस सड़क के लिए उजड़ रहे है। उन्होंने इसके खिलाफ सीएम विंडो में अपनी दुकानें और घर को न तोड़कर वहीं रहने के लिए गुहार लगाई थी। क्या कहना है दुकानदारों का: जानकारी देते हुए स्थानीय लोग जिनमें सुशील राणा, कमल, प्रेम चंद, रामकुमार, सुनील, रमेश, जोगिंदर, सतीश, लाला राम, हरि, मदन आदि ने बताया कि वो पिछले करीब 50 साल से यहां पर काबिज है। उन्होंने बताया कि उनकी यह जमीन पंचायत की मलकियत है।

जिसका खसरा नंबर 551/524/466 वा 526/469 वा 473 में लेबर कॉलोनी की आबादी है। उक्त जगह का प्रस्ताव पंचायत द्वारा 9 अगस्त 1983 को किया था। उन्होंने बताया कि तब से ही यहां पर रहने वाले सभी लोगों के वोटर कार्ड, आधार कार्ड, राशन कार्ड, पानी और बिजली के पक्के बिल मौजूद है।

इनके अनुसार जब निगम बना यब इसके चूल्हा टैक्स भी आये थे जिन्हें इनके द्वारा भरा भी गया है। लोगों ने कहा कि इन दुकानों से करीब 60 परिवार पल रहे है। लोगों ने बताया कि पहले तो प्रशाशन ने उनसे कहा था कि सड़क से केवल 7 मीटर भूमि ही एक्वायर की जाएगी परंतु अभी कुछ दिन पहले ही प्रशासन के अधिकारी आकर बोल गए की सड़क से 16 मीटर भूमि को एक्वायर किया जाएगा।

जिसमे उनकी पूरी की पूरी दुकानें ही सड़क के बीच मे आ जाएगी। लोगों ने बताया कि कुछ दिन पहले ही मौखिक रूप से कुछ कर्मचारी उन्हें बिना नोटिस दिए दुकानदारों को कह कर गए थे कि 7 दिन के अंदर अपनी दुकानों और मकानों को खाली कर दें वरना 7 दिन के बाद यहां की दुकान और घरों को वह स्वयं गिरा देंगे और कोई मुआवजा भी नहीं देंगे।

वाहन अंडरपास की सर्विस रोड बनेगी: जीरकपुर-शिमला हाईवे पर सूरजपुर में मेन रोड किनारे दर्जनों दुकानों के भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण की जमीन पर कब्जा किया हुआ है। जिसे हटाने के लिए विभाग द्वारा आदेश आए है। जानकारी देते हुए हिमालयन एक्सप्रेस के महाप्रबंधक गगन शर्मा ने बताया कि जीरकपुर-शिमला हाईवे पर अमरावती के सामने रोड कट के लिए वाहन अंडरपास का काम शुरू जिसमें हाईवे पर सिगंल स्पेन वाला ओवर ब्रिज बन रहा है।

खबरें और भी हैं...