पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

लापरवाही:आरयूबी निर्माण के दूसरे चरण में पीडब्ल्यूडी ने शुरू नहीं किया काम

पिंजौर6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
आरयूबी निर्माण के दौरान सड़क किनारे खोदा गड्‌ढा।
  • वाहनों के आगमन के लिए जो सर्विस रोड बनाई गई है उसकी चौड़ाई कम होने के कारण ट्रैफिक प्रभावित हो रहा

पिछले करीब दो साल से कई अड़चनों के बाद शुरू हुए पिंजौर-कालका आरयूबी निर्माण के पहले चरण का काम रेलवे द्वारा किया गया जो लगभग पूरा होने के कगार पर है, रेलवे द्वारा करीब दो सप्ताह से ज्यादा हो गए रेलवे लाइन के नीचे बाक्स रख दिए गए थे जिसके ऊपर से ट्रेनें निकलने भी लगी है।

आरयूबी के दूसरे चरण का काम पीडब्ल्यूडी द्वारा किया जाना है जिसे अभी विभाग ने शुरू भी नहीं किया। इसको लेकर स्थानीय लोगों में रोष भी है। आरयूबी निर्माण के दौरान वाहनों के आगमन के लिए जो सर्विस रोड बनाई गई है उसकी चौड़ाई कम होने के कारण प्रतिदिन वहां पर ट्रैफिक प्रभावित हो रहा है, ऊपर से ट्रेनें निकलने के समय जब फाटक बंद होता है।

उस समय फाटक के दोनों ओर वाहनों की लंबी कतारें लग जाती है । मौके पर कोई भी पुलिस तैनात न होने के कारण वाहन चालक मनमर्जी से एक ही तरफ वाहनों की दो-दो लाइनें लगा देते हंै। एक तो पहले ही सड़क की चौड़ाई कम है। ऊपर से वाहनों की दो-दो लाइनें, जिससे फाटक खुलने के बाद काफी देर तक ट्रैफिक प्रभावित रहता है। कई बार तो जाम भी लग जाता है।

आरयूबी निर्माण में देरी के कारण जहां प्रतिदिन यहां से निकलने वाले वाहनों के लिए परेशानी हो रही है। वहीं आसपास बने शोरूम के आगे सही ढंग से वाहनों की पार्किंग न होने के कारण उनका कारोबार भी ठप पड़ा है। स्थानीय शोरूम मालिकों ने कहा कि उनका कारोबार पिछले करीब एक साल से पूरी तरह से प्रभावित हो रखा है।

पहले तो सड़क को खोदकर काम रोक दिया, अब रेलवे द्वारा काम करके आगे का काम शुरू नहीं किया जा रहा। सभी का कारोबार प्रभावित होने के कारा बैंकों की किस्तें तक निकालना मुश्किल हो गया। शोरूम बचाने के लिए भी करना पड़ा संघर्ष: पीडब्ल्यूडी विभाग द्वारा करीब दो साल पूर्व पिंजौर-कालका रेलवे फाटक पर लगभग 700 मीटर लंबा आरयूबी का सर्वे करवाकर उसे बनवा रहे थे जिसमें इस 700 मीटर में करीब 400 से ज्यादा दुकानें प्रभावित हो रही थी। उनके आगे भी पार्किंग स्थल न के बराबर ही बच रहा था।

पिंजौर-कालका वेलफेयर एसोसिएशन के अध्यक्ष के नेतृत्व में दुकानदारों ने इसके लिए दुकानदारों को बचाने के लिए संघर्ष की लड़ाई शुरू करते हुए विभाग के इस प्रोजेक्ट के विरोध में विगत 26 सितंबर को धरने पर बैठ गए थे। लगातार 21 दिन धरने पर बैठने के बाद एसोसिएशन व दुकानदारों की मेहनत रंग लाई और सरकार ने करीब 700 मीटर वाले आरयूबी की जगह छोटे आरयूबी करीब 350 मीटर वाले आरयूबी को मंजूरी दे दी। रोड किनारे खोदे गड्ढे में गिर रहे वाहन: करीब 6 महीने पूर्व पुराने सर्वे के मुताबिक जब आरयूबी का काम शुरू किया गया था। उस समय पिंजौर-कालका मेन रोड किनारे काफी जमीन के हिस्से को काफी ज्यादा खोद दिया गया था उसके बाद पिंजौर-कालका वेलफेयर एसोसिएशन और दुकानदारों द्वारा नए सर्वे वाले आरयूबी की मांग को लेकर रोष प्रकट करने पर काम को वहीं रोक दिया गया था।

जिसके बाद आज तक उस गड्ढे को ही भरा नहीं गया, गड्ढा रोड किनारे होने के कारण रात के समय सामने से आने वाले वाहनों की लाइटों से गड्‌ढा और सड़क दिखाई न देने से अकसर वाहन गड्ढे में ही चले जाते है। लोगों ने संबंधित विभाग से गड्ढा भरवाने के लिए भी मांग की।

आरयूबी के काम में देरी का मुख्य कारण आरयूबी को लम्बे से छोटा करने की कार्रवाई है, बाकी काम में कोई देरी नहीं होगी, पहले रेलवे द्वारा काम किया जाना था अब हम जल्द ही अपना काम शुरू करवा देगें। बाकी मेन रोड किनारे जो गड्‌ढा है वो हमने नहीं खोदा फिर भी उसे चैक करवाकर बंद करवा देगें। -अभिषेक, एक्सईएन पीडब्ल्यूडी।

आरयूबी के पहले चरण का काम रेलवे द्वारा किया जाना था जो कि ज्यादातर हो चुका है अब केवल साइडों की थोड़ी सी अपरोच रोड बनानी है, फिर भी ऐसे में पीडब्ल्यूडी अपना काम शुरू कर सकता है उन्हें कोई अड़चन नहीं होगी। हमने भी पीडब्ल्यूडी को पत्र लिखकर जल्दी काम शुरू करने के लिए कहा है क्योंकि उनके शुरू न करने से हमें अपने काम में दिक्कत हो रही है। एमपी सिंह, एक्सईएन रेलवे।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- इस समय ग्रह स्थितियां आपके स्वाभिमान और आत्म बल को बढ़ाने में भरपूर योगदान दे रहे हैं। काम के प्रति समर्पण आपको नई उपलब्धियां हासिल करवाएगा। तथा कर्म और पुरुषार्थ के माध्यम से आप बेहतरीन सफलता...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...

  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser