समस्या / 8 साल बाद भी नहीं मिल पाए आवासी योजना के मकान

Residential scheme houses could not be found even after 8 years
X
Residential scheme houses could not be found even after 8 years

  • मंच के अध्यक्ष 5 साल से गरीबों को मकान अलाॅट करवाने के लिए कर रहा प्रयास

दैनिक भास्कर

May 24, 2020, 05:00 AM IST

पिंजौर. आवास एंव शहरी उन्मूलन मंत्रालय भारत सरकार द्वारा निर्माण सामग्री एवं प्रौद्योगिक संवर्धन परिषद के तहत नगर निगम पिंजौर जोन वार्ड न 3  के अंतर्गत पड़ने वाली पीरमसाला काॅलोनी के पास गरीबों के लिए कम लागत तकनीकों पर आधारित 24 मकानों का निर्माण करवाया था। जिसका शिलान्यास अंबाला लोकसभा से तत्कालीन सांसद कुमारी शैलजा ने 28 फरवरी 2009 में किया था। करीब 5 वर्षों बाद यह मकान बनकर तैयार हो गए जिसका उद्घाटन करने भी 8 दिसंबर 2012 को कुमारी शैलजा ही पहुंची। यह 24 मकान 2 तल पर है, एक सामुदायिक केंद्र व एक बहुउद्देशीय साधना कक्ष भी निर्मित है। यह मकान नगर निगम के कार्यालय में बनकर तैयार हो गए थे।
बड़ी हैरानी की बात है कि 8 साल हो गए इन मकानों को बने हुए इस दौरान कांग्रेस और भाजपा सरकार का कार्यकाल रहा फिर भी इसे गरीबों को अलाट तक नहीं किया गया। इससे जहां एक ओर दोनों सरकारों पर सवाल उठते है वहीं इस लापरवाही के लिए प्रशासन पर भी सवाल खड़े होते है। 8 साल तक इन मकानों की जर्जर हालत भी हो चुकी थी जिसे नगर निगम ने लाखों खर्च करके फिर से मरम्मत करवाई। मकान बनने के 8 साल बाद इन मकानों के लिए आवेदन मांगे गए। 24 गरीब परिवारों को सरकार की यह सुविधा मिलने में 8 साल लग गए परंतु अभी भी मकान गरीबों को अलाट तक नहीं हुए।
शिवालिक विकास मंच के अध्यक्ष विजय बंसल ने बताया कि उन्होंने 11 फरवरी 2015 को जिलाधीश पंचकुला को भी ज्ञापन दिया था जिसमें उन्होंने बताया था कि 31 जुलाई 2015 को सूचित किया कि 7 मई 2012 को एक बैठक की गई थी जिसमे आदर्श आवासीय योजना के अंतर्गत बने 24 मकानों गरीबो को प्रदान करने हेतु नीति बनाई गई, परंतु उस पर आगे कोई कार्रवाई नहीं हुई।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना