पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

खामोशी:पिंजौर यादविंद्रा गार्डन में कोरोना के चलते नहीं पहुंच रहे सैलानी

पिंजौर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • नुकसान से ठेकेदारों में रोष, सरकार से हालात ठीक होने तक बंद रखने की मांग

कोरोना वायरस के चलते लॉकडाउन के दौरान हरियाणा सरकार द्वारा पिंजौर यादविंद्रा गार्डन को 22 मार्च को बंद कर दिया गया था। उसके बाद 89 दिन बाद विगत 19 जून को दुबारा से सैलानियों के लिए खोल दिया गया। 11 दिन से खुले गार्डन में कोरोना के डर से सैलानियों की संख्या काफी कम है। जिस कारण गार्डन के ठेकेदारों ने अपनी दुकानें ही नहीं खोली। अपने नुकसान को लेकर मंगलवार को ठेकेदारों ने रोष प्रकट किया।     गार्डन के प्रागंण में काफी समय से पर्यटकों के लिए खाने-पीने के व्यंजनों की दुकानें, हस्त शिल्पकारी की दुकानंे, कैमल व हाॅर्स राइडिंग, वाटर एम्यूजमेंट इत्यादि का प्रबंध किया हुआ है, टूरिज्म विभाग द्वारा सभी दुकानें व साइड आउटसोर्स (ठेके) पर दी हुई है। विभाग यह ठेके सबसे ऊंची कीमत देने वाले को ही देता है।   मगंलवार को ठेकेदारों ज्ञानचंद, अमरजीत सिंह, हरीश कुमार, राहुल शर्मा, राकेश कुमार आदि ने विभाग और सरकार के प्रति रोष जताते हुए कहा कि मार्च से पूरी दुनिया कोरोना वायरस के प्रकोप से प्रभावित है, इसके बचाव के लिए गार्डन को बंद कर दिया गया था उस समय कहा गया था कि प्राण बचे तो सभी एक दूसरे के काम आएंगे परंतु अब इस पर कोई ध्यान नहीं दे रहा।        पहले तो करीब तीन महीने गार्डन बंद रहा उसके बाद अब गार्डन में पर्यटक न के बराबर आ रहे है, ऐसे में हमें अपनी दुकानें व काम खोलना ओर ज्यादा नुकसान करवाना होगा। इसलिए 11 दिनों से दुबारा खुले गार्डन के दौरान किसी भी ठेकेदार ने दुकान नहीं खोली, ठेकेदारों ने विभाग के पास कुछ एडवांस पैसा भी जमा करवा दिया गया था जबकि काम खुला ही नहीं। इसके लिए ठेकेदारों ने विभाग के उच्चाधिकारियों को भी एडवांस पैसे को वापस करने व ठेके का बकाया समय रद्द करने की मांग भी की गई थी परंतु अभी तक कोई सुनवाई नहीं हुई।        ठेकेदारों ने कहा कि सरकार ने गार्डन को खोलकर उनके लिए बड़ी समस्या खड़ी कर दी है, प्रदेश में कई पर्यटक स्थल अभी तक बंद पड़े है। उधर हिमाचल प्रदेश में जाने वाले पर्यटकों की एंट्री पर भी रोक है, ऐसे हालात में नीचे से आने वाले पर्यटक केवल पिंजौर गार्डन के लिए यहां नहीं आने वाले, इसलिए सरकार गार्डन को भी बंद करके लोगों की सुरक्षा के साथ ठेकेदारों को हो रहे नुकसान से भी बचा ले। ठेकेदारों ने कहा कि विभाग द्वारा पार्किंग व कोल्ड ड्रिंक वाले ठेकेदार को ठेके की जुलाई में जो किस्त आती है उसे जमा करवाने के लिए 15 अगस्त तक का समय दिया है।     

सरकार के आदेश पर ही मिलेगी सुविधाएं
इस बारे में बात करने पर गार्डन के डीएम सुनित शर्मा ने बताया कि लॉकडाउन के दौरान जो भी इन लोगों को बैनिफिट देना वो सरकार के आदेश पर ही होगा। हरियाणा के सभी काॅम्प्लैक्स में जो बैनिफिट सरकार देगी। वहीं इन्हंे भी मिलेगा। गार्डन के ठेकेदार कल उच्चाधिकारियों को भी मिलकर आए थे। बाकी जून में गार्डन को पर्यटकों के लिए खोल दिया गया था।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज किसी समाज सेवी संस्था अथवा किसी प्रिय मित्र की सहायता में समय व्यतीत होगा। धार्मिक तथा आध्यात्मिक कामों में भी आपकी रुचि रहेगी। युवा वर्ग अपनी मेहनत के अनुरूप शुभ परिणाम हासिल करेंगे। तथा ...

और पढ़ें