पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

परिषद नाकाम:एन्क्रोचमेंट हटाने में जीरकपुर नगर परिषद नाकाम

जीरकपुर12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • दिखावे के लिए एन्क्रोचमेंट हटाने की कार्रवाई होती है, अगले दिन फिर कब्जा हो जाता है

जीरकपुर में इन दिनों एन्क्रोचमेंट की वजह से बुरा हाल है। नगर परिषद यहां एन्क्रोचमेंट हटा पाने में पूरी तरह नाकाम साबित हो रही है। जहां देखो वहां एन्क्रोचमेंट की भरमार है। पूरे शहर की सड़कें रेहड़ियों और फड़ियों से अटी पड़ी हैं। अब तो हालात ये हैं कि एमसी एन्क्रोचमेंट को कंट्रोल भी नहीं कर पा रही है।

कभी दिखावे के लिए एन्क्रोचमेंट हटाने की कार्रवाई होती है तो अगले ही दिन उसी जगह फिर एन्क्रोचमेंट हो जाता है। ऐसे में कार्रवाई का कोई नतीजा नहीं निकलता। जीरकपुर एमसी का कोई अधिकारी या कर्मचारी एन्क्रोचमेंट हटवाने के लिए फील्ड में नहीं जाता। पिछले काफी समय से यह काम प्राइवेट हाथों में सौंप दिया गया है।

बिना किसी नियम-कायदे के एन्क्रोचमेंट हटाने के नाम पर सड़कों पर लगा थोड़ा बहुत सामान उठा भी लिया जाता है तो उसका कोई रिकॉर्ड मेंटेन नहीं किया जाता। जिन लोगों को एन्क्रोचमेंट हटाने की कार्रवाई में लगाया जाता है वे दुकानदार और उसके उठाए गए सामान के बारे में कुछ भी नोट नहीं करते। ऐसे में यह भी स्पष्ट नहीं होता कि किस दुकानदार का चालान किया गया और उसका क्या सामान उठाया गया।

इसी तरह सामान को दुकानदारों को वापस भी कर दिया जाता है। इसका भी कोई रिकॉर्ड मेंटेन नहीं होता। दिखावे के लिए की गई इस तरह की कार्रवाई का एन्क्रोचमेंट करने वालों पर कोई असर नहीं होता। इनमें एन्क्रोचमेंट हटाने वालों का कोई डर नहीं है। यही वजह है कि अगले ही दिन एन्क्रोचमेंट फिर से कायम हो जाते हैं।

एन्क्रोचमेंट हटाने वाली टीम के साथ कोई जिम्मेदार अफसर नहीं होता, जो नियमों के हिसाब से काम करवा सके। शहर में कई जगह तो एन्क्रोचमेंट बहुत ज्यादा है। मार्केट्स में लोगों के चलने के लिए जगह नहीं बचती। सड़कों पर दुकानों का सामान सजा होता है। लोगों का कहना है कि सरकारी मशीनरी पूरी तरह से फेल हो चुकी है।

लोगों में गुस्सा है कि एन्क्रोचर्स के खिलाफ सख्त कार्रवाई क्यों नहीं की जा रही है। यहां फर्नीचर मार्केट में दुकानों के आगे सड़क पर फर्नीचर सजा रहता है। सड़क लोगों के आने-जाने के लिए है न कि सामान रखने के लिए। सड़क पर सामान रखा होने की वजह से न तो पैदल चलने वाले यहां सुरक्षित चल सकते हैं और न ही कोई व्हीकल आराम से निकल सकता है। अक्सर दिन में थोड़ा सा ट्रैफिक बढ़ते ही यहां जाम जैसी स्थित बन जाती है।

बलटाना मार्केट में नहीं होती सड़क पर चलने की जगह...

बलटाना की मेन मार्केट में दिनभर रेहड़ी-फड़ियों की वजह से मेले जैसा माहौल बना रहता है। रेहड़ियों के आसपास लोगों की भीड़ लगी रहती है। सुबह से शाम तक सड़क पर चलना भी मुश्किल होता है। लोगों के वाहनों के साथ सड़क पर चलना पड़ता है क्योंकि सड़क के दोनों ओर चलने के लिए जगह नहीं बचती।

अक्सर दोपहिया सवार पैदल चलते लोगों के साथ टकरा भी जाते हैं जिसकी वजह से यहां झगड़े भी आम हो गए हैं। कई दुकानदारांे ने अपनी दुकानों के सामने या बरामदों में रेहड़ियां लगवा रखी हैं और उनसे किराया वसूल रहे हैं। सुबह और शाम के समय तो यहां ट्रैफिक जाम होना हर रोज की बात हो गई है।

वहीं, कुछ दुकानदार इसलिए भी परेशान हैं कि रेहड़ियों की वजह से उनकी दुकानदारी नहीं चल रही है। इसके अलावा शहर के अन्य हिस्सों में भी एन्क्रोचमेंट से ऐसे ही हालात हैं। वीआईपी रोड पर भी रेहड़ी-फड़ी वालों ने काफी एन्क्रोचमेंट कर रखी है। शहर से एन्क्रोचमेंट हटाने की मांग करने पर एमसी अधिकारियों का जवाब होता है कि उनके पास एन्क्रोचमेंट हटाने के लिए अलग से टीम नहीं है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आप अपनी दिनचर्या को संतुलित तथा व्यवस्थित बनाकर रखें, जिससे अधिकतर काम समय पर पूरे होते जाएंगे। विद्यार्थियों तथा युवाओं को इंटरव्यू व करियर संबंधी परीक्षा में सफलता की पूरी संभावना है। इसलिए...

और पढ़ें