ग्रामीणाें में नाराजगी:नहीं मिल रहा शिक्षा, स्वास्थ्य की सुविधा का लाभ

भैयाथान8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

एसईसीएल पांडवपारा एवं झिलिमिली खदान कई वर्षों से संचालित है। इसके आश्रित ग्राम सुरजपुर जिले के बड़सरा, बसकर, करौंदा मुड़ा है। सरकार के गाइडलाइन अनुसार एसईसीएल क्षेत्र के प्रभावित ग्रामों के ग्रामीणों को एसईसीएल द्वारा शिक्षा, स्वास्थ्य एवं बुनियादी सुविधाएं प्रदान किया जाना है लेकिन ये सब कागज़ों तक ही सीमित है।

शिक्षा के क्षेत्र में प्रभावित ग्रामों के बच्चो के प्रवेश में कोई प्राथमिकता नहीं दी जा रही है। शिक्षा के नाम पर एसईसीएल झिलमिली पांडव पारा द्वारा डीएव्ही पब्लिक स्कूल भी खोला गया है, जहां प्रभावित ग्रामों के विद्यार्थियों का प्रवेश भी दूभर है। प्रवेश देने के नाम पर ग्रामीणों को प्राचार्य द्वारा घुमाया जाता है। जहां एसईसीएल कर्मियों के बच्चों को तो डीएव्ही विद्यालय में आसानी से प्रवेश मिल जाता है लेकिन इन ग्रामों के गैर कॉलरी कर्मी बच्चो के प्रवेश काफी मिन्नतों के बाद मिल पाता है।

खबरें और भी हैं...