एनएच प्रोजेक्ट:35 साल पहले बिछी डामर की परत हटाकर अगस्त तक 21 मी. चौड़ी करेंगे 3 किमी सड़क

बालाेद‎14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

एनएच 930 प्रोजेक्ट के तहत बालोद शहर के अंदर 3 किमी सड़क को डामरीकरण व चौड़ीकरण करने वर्तमान में बिजली पोल, ट्रांसफार्मर की शिफ्टिंग के बाद जेसीबी की खुदाई से पाइप बिछाने का काम भी शुरू हो गया है। यह काम एक माह में पूरा होने का अनुमान है। जिसके बाद 35 साल पहले मुख्य मार्ग में बिछे डामर को उखाड़ा जाएगा। जिसके बाद दोनों किनारे चरणवार नए सिरे से डामरीकरण किया जाएगा।

एनएच विभाग ने शहर के अंदर काम पूरा कराने अगस्त 2023 डेडलाइन तय किया है। एनएच विभाग के अनुसार झलमला-बालोद मुख्य मार्ग में ट्रांसपोर्ट नगर से लेकर शासकीय कॉलेज के सामने उपजेल मोड़ तक 3 किलोमीटर सड़क 21 मीटर चौड़ी होगी।

इसके लिए केंद्रीय सड़क व परिवहन मंत्रालय की ओर से मंजूरी मिल चुकी है। 35 साल पहले पीडब्ल्यूडी की निगरानी में मुख्य मार्ग का डामरीकरण हुआ था। अब यह सड़क एनएच विभाग के अधीन है। पाइप की शिफ्टिंग के लिए एनएच विभाग ने नगर पालिका, पीएचई को पत्र भेजा है।

पाइप को दोबारा शिफ्ट करने की नौबत इसलिए क्योंकि जल आवर्धन योजना में हुई देरी

शहर मंे 2012-13 से स्वीकृत जल आवर्धन योजना के तहत सभी काम पूरा होने में लगभग 9 साल लग गए। वहीं 5 साल पहले घोषित एनएच 930 प्रोजेक्ट के तहत राशि मिलने में देरी हुई। दोनों काम में लेटलतीफी का खामियाजा शहरवासियों को भुगतना पड़ रहा है। अगर जल आवर्धन योजना के तहत पाइप बिछाने के दौरान ही एनएच 930 प्रोजेक्ट के तहत शहर के अंदर सड़क चौड़ीकरण कार्य होता तो दोबारा पाइप को शिफ्टिंग करने की नौबत ही नहीं आती। विभागीय अफसर सामंजस्य बनाकर यह काम कराते लेकिन शासन स्तर से ही प्रशासकीय स्वीकृति मिलने में देरी के चलते ऐसा नहीं हो पाया। एनएच विभाग के एसडीओ टीकम ठाकुर, इंजीनियर वसीम शेख ने बताया कि एक-दो माह में बिजली पोल, ट्रांसफार्मर शिफ्टिंग व पाइपलाइन विस्तार होने का अनुमान है। यह पूरा होने के बाद ड्रेनेज संबंधित काम शुरू होगा।

जल आवर्धन योजना की पाइप की शिफ्टिंग हो रही
वर्तमान में जल आवर्धन योजना के तहत बिछे पाइपलाइन की शिफ्टिंग की जा रही है। इस दौरान पाइप फूटने की वजह से शहरवासियों को पेयजल संकट का भी सामना करना पड़ रहा है। दरअसल मुख्य पाइप फूटने से डिस्ट्रीब्यूटर पाइप से कनेक्ट नलों में पानी सप्लाई प्रभावित हो रही है। चार साल पहले जल आवर्धन योजना के तहत पाइप बिछाया गया था।

दो चरण में काम पूरा कराने एग्रीमेंट

पहला चरण- जिले के झलमला से राजनांदगांव के शेरपार गांव तक कुल तक 37.28 किलोमीटर सड़क का चौड़ीकरण किया जाएगा।
दूसरा चरण- शेरपार से कोहका तक कुल 46.98 किलोमीटर सड़क का चौड़ीकरण कार्य होगा। इसके लिए 278.97 करोड़ रुपए की मंजूरी मिली है।

खबरें और भी हैं...