शहर को सुंदर बनाने की योजना:रोजाना 20 वार्डों में डोर-टू-डोर कचरा कलेक्शन करने नपा खरीदेगी 10 ई-रिक्शा

बालोदएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

शहर के 20 वार्ड के सभी घरों में रोजाना डोर-टू-डोर कचरा कलेक्शन हो सकें। इसके लिए नगर पालिका 10 ई-रिक्शा खरीदेगी। जिसका उपयोग स्वसहायता समूह की महिलाएं कचरा उठाने के लिए करेंगी। इससे सार्वजनिक स्थानों में गंदगी बिखरी नहीं रहेगी। शहर को सुंदर बनाने के उद्देश्य से नपा ने प्लान तैयार किया है।

जिसके तहत ई-रिक्शा के लिए नपा की ओर से शासन को प्रस्ताव भेजा जा चुका है। जिस पर जल्द स्वीकृति मिलने वाली है। दैनिक भास्कर के रोजाना डोर टू डोर कचरा कलेक्शन न होने के सवाल पर यह जानकारी रविवार को संस्कार शाला परिसर में आयोजित रूबरू कार्यक्रम में नगर पालिका अध्यक्ष विकास चाेपड़ा ने दी।

वर्तमान में नगर पालिका अंतर्गत 20 वार्ड में स्वसहायता समूह की महिलाएं रिक्शा से डोर टू डोर कचरा कलेक्शन कर रही है, लेकिन खरखरा केनाल क्षेत्र, आमापारा व आसपास के कई वार्ड ऐसे हैं, जिन घरों में एक दिन के अंतराल में कचरा उठाने के लिए महिलाएं पहुंचती है। नियमित डोर-टू-डोर कचरा कलेक्शन न होने से लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ता है।

मजबूरी में बाहर कचरा फेंकने की नौबत आती है। इसी को ध्यान में रखकर 10 ई- रिक्शा खरीदने का प्लान नपा ने बनाया है, ताकि कचरा कलेक्शन करने के लिए रोजाना महिलाएं हर वार्ड के घरों में पहुंच सकें। रोजाना सफाई होने से स्वच्छता रैंकिंग में भी सुधार आने की उम्मीद है। हर साल जनसंख्या के आधार पर शहरों का सफाई को लेकर मूल्यांकन किया जाता है।

जल्द शुरू होगा कोर्ट का निर्माण: पालिका अध्यक्ष
शहर के खिलाड़ियों के लिए महत्वपूर्ण इंडोर स्टेडियम गंजपारा में घास बिछेगी। बाॅलीवाल, बास्केट बाॅल कोर्ट बनेगा। जिसके बाद रोजाना खिलाड़ी खेल अभ्यास करने पहुंचेंगे। लंबे समय से खिलाड़ी व खेलप्रेमी वालीबॉल, बास्केट बाॅल कोर्ट बनाने की मांग करते आ रहे थे। जिसे ध्यान में रखते हुए नगर पालिका ने जल्द यह सौगात देने का निर्णय लिया है। नपाध्यक्ष ने बताया कि जल्द ही बाॅलीवाल, बास्केट बाॅल कोर्ट बनाने की शुरुआत हो जाएगी।

खरखरा केनाल की सफाई के लिए भेजा गया प्रस्ताव
भास्कर के सवाल पर नपाध्यक्ष विकास चोपड़ा ने बताया कि खरखरा केनाल की सफाई के लिए 60 लाख रुपए का प्रस्ताव शासन को भेजा जा चुका है। मंत्री रविन्द्र चौबे से भी चर्चा हो चुकी है। उन्होंने कहा है कि अगर संबंधित विभाग की ओर से कभी कभार सफाई की जाती है, और बाद में ध्यान नहीं दिया जाता है तो स्थाई समाधान के लिए प्रस्ताव भेजें। सिंचाई विभाग की ओर से डैम से पानी छोड़ने के पहले कभी कभार ही नहर की सफाई करवाई जाती है।

खबरें और भी हैं...