बस्तर में खुलेंगे 2 इंग्लिश मीडियम कॉलेज:CM भूपेश का ऐलान, टाइगर बॉय चेंदरू के नाम से जाना जाएगा हायर सेकंडरी स्कूल नारायणपुर

जगदलपुर14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

बस्तर प्रवास पर रहे छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल जगदलपुर में छात्रों के संभाग स्तरीय सम्मेलन में शामिल हुए। इस दौरान उन्होंने कहा कि युवा शक्ति ही भारतीय गणतंत्र की असली ताकत है। बस्तर में बदलाव लाने का काम केवल बस्तर की युवा शक्ति ही कर सकती है। बस्तर के विकास का एक ही मूल मंत्र है शिक्षा और सिर्फ शिक्षा। उन्होंने कहा कि, जितनी तेजी से बस्तर के युवा शिक्षित होंगे, उतनी ही तेजी से संवैधानिक अधिकार बस्तर के लोगों तक पहुंचेगा।

दरअसल, मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आज धरमपुरा स्थित पोस्ट मैट्रिक बालक छात्रावास परिसर में आयोजित छात्रावासी छात्रों के संभाग स्तरीय सम्मेलन में पहुंचे थे। इस सम्मेलन में उन्होंने कहा कि, बस्तर ने दशकों तक अशांति झेली है। अंदरूनी क्षेत्रों के स्कूल नक्सलियों ने बंद करा दिए थे। छात्रावासों ने ही बस्तर में शिक्षा की अलख को जगाए रखा। बस्तर के विकास में सरकार ने शिक्षा और स्वास्थ्य को प्राथमिकता दी है।

बंद स्कूलों को खोला गया

विकास, विश्वास और सुरक्षा की नीति पर चलते हुए बस्तर में बंद पड़े सैकड़ों स्कूलों को दोबारा शुरू किया गया है। स्वामी आत्मानन्द उत्कृष्ट स्कूल योजना के माध्यम से अंग्रेजी और हिंदी माध्यम के छात्रों के लिए निःशुल्क उत्कृष्ट शिक्षा की व्यवस्था की है। आगामी सत्र से बस्तर और सरगुजा संभाग में 252 और उत्कृष्ट स्कूल संचालित किए जाएंगे। दंतेवाड़ा जिले के सभी स्कूलों का उत्कृष्ट स्कूलों के रूप में उन्नयन किया जाएगा।

बस्तर में खुलेगा इंग्लिश मीडियम कॉलेज

CM ने कहा कि, आगामी सत्र से ही प्रदेश में अंग्रेजी माध्यम के कॉलेज भी शुरू किए जाएंगे। इनमें से दो कॉलेज बस्तर में खोले जाएंगे। प्रदेश में स्कूली शिक्षा को व्यावसायिक शिक्षा से जोड़ा गया है। हायर सेकंडरी स्तर के विद्यार्थियों के लिए संयुक्त पाठ्यक्रम शुरू किया गया है ताकि जब वे पढ़ाई पूरी कर निकलें तो उनके सामने रोजगार के विकल्पों की कमी न हों।

जल-जंगल-जमीन बस्तर के लोगों का अधिकार- CM

मुख्यमंत्री ने कहा कि, यहां के जल, जंगल और जमीन पर बस्तर के लोगों का अधिकार है। हमने यहां के आदिवासियों की ली हुई जमीन को उनके मालिकों को वापस दिलाया है। वन अधिकार कानून के तहत लोगों को जमीन का पट्टा दिया है। सरकार वनवासियों से समर्थन मूल्य पर अब 65 तरह के लघु वनोपजों की खरीदी कर रही है। कोदो, कुटकी और रागी की भी समर्थन मूल्य पर खरीदी की व्यवस्था की गई है। सरकार के इन सब कदमों से लोगों की आय में लगातार वृद्धि हो रही है।

सम्मेलन में की ये घोषणाएं

  • नवीन शा. महाविद्यालय बस्तर का नामकरण मां गंगादई शा. महाविद्यालय बस्तर के नाम से किया गया।
  • शा. बालक उ.मा.वि. नारायणपुर, जिला- नारायणपुर का नामकरण टायगर ब्वॉय चेंदरू मंडावी शासकीय बालक उच्चतर माध्यमिक विद्यालय नारायणपुर किया गया।
  • शासकीय महाविद्यालय आवापल्ली जिला- बीजापुर का नामकरण आदिवासी कोई आंदोलन के नेतृत्वकर्ता वीर नांगूल दोरला शासकीय महाविद्यालय आवापल्ली किया गया।
  • शा. कन्या उ.मा.वि, लोहंडीगुड़ा जिला- बस्तर का नामकरण वीरांगना राजकुमारी चमेली नाग शासकीय कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय किया गया।
  • शा. कन्या उ.मा.वि. बारसूर, जिला दंतेवाड़ा का नामकरण वीरांगना राजकुमारी मासकदेवी नाग शासकीय कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय किया गया।
खबरें और भी हैं...