बस्तर में थी बड़े ब्लास्ट की तैयारी, 9 गिरफ्तार:नक्सलियों के लीडर्स ने पश्चिम बंगाल से मंगवाया था भारी विस्फोटक, पुलिस ने धरदबोचा

जगदलपुर5 महीने पहले
बस्तर पुलिस ने नक्सलियों के सप्लाई चेन के 9 सदस्यों को गिरफ्तार किया है।

छत्तीसगढ़ के बस्तर में पुलिस ने नक्सलियों के एक बड़े सप्लाई चेन को तोड़ा है। बस्तर जिले में पुलिस ने भारी मात्रा में विस्फोटक सामान के साथ माओवादियों के सप्लाई चेन के 9 सदस्यों को गिरफ्तार किया है। इनमें से 1 पश्चिम बंगाल का, 5 बीजापुर और 3 बस्तर जिले के ही रहने वाले हैं। विस्फोटक सामान का लेन देन करते हुए पुलिस ने सभी को रंगे हाथ गिरफ्तार किया है। सभी को न्यायालय में पेश किया गया है। बताया जा रहा है कि नक्सली बस्तर में किसी बड़ी घटना को अंजाम देने के फिराक में थे। हालांकि, जवानों ने माओवादियों के मंसूबों को नाकाम कर दिया है। मामला जिले के कोड़ेनार थाना क्षेत्र का है।

विस्फोटक सामान नक्सलियों तक पहुंचाने वाले थे।
विस्फोटक सामान नक्सलियों तक पहुंचाने वाले थे।

जानकारी के मुताबिक, बस्तर पुलिस को सूचना मिली थी कि कोड़ेनार थाना इलाके में नक्सलियों के सामान का लेन देन होने वाला है। मुखबिर की इसी सूचना के आधार पर पुलिस ने एक टीम बनाई और उस टीम को कोड़ेनार के बास्तानार-काकलूर मार्ग पर भेजा गया। पुलिस ने यहां कुछ संदिग्ध लोगों को देखा। उनकी गतिविधि पर संदेह हुआ। जिसके बाद सभी को पकड़ा गया। एक-एक कर सभी से पुछताछ की गई। जिन्होंने अपना नाम कोसा कवासी (32), रामेश्वर पुजारी (40), अनंतराम जायसवाल (31), बालसिंह तामू (27) ,बबलू मरकाम (22), मंगलू राम कुहरामी (35), मनीराम (30), कृष्णा प्रसाद साव (51) और उजोर बेड़ता (25) बताया।

ये सारा सामान नक्सलियों तक पहुंचाने वाले थे।
ये सारा सामान नक्सलियों तक पहुंचाने वाले थे।

जवानों ने जब इनकी तलाशी ली तो इनके पास से बूस्टर 83 एम.एम. 9 नग, कोर्डेक्स वायर 2 बंडल, डेटोनेटर 13 नग, सेफ्टी फ्यूज 3.5 मीटर एक्सल वायर 31 नग बरामद किया गया। ये सारा सामान नक्सलियों तक पहुंचाने वाले थे। लेकिन, पुलिस ने कार्रवाई करते हुए सभी को पकड़ लिया। आरोपियों ने पूछताछ में बताया कि, बीजापुर के जांगला क्षेत्र में सक्रिय माओवादी सदस्यों का संपर्क उजोर बेड़ता और पश्चिम बंगाल का रहने वाला कृष्णा प्रसाद साव से हुआ था। जिनके बीच विस्फोटक सामग्री उपलब्ध कराने की बात तय हुई थी। जिसके बाद उजोर बेड़ता और कृष्णा प्रसाद साव ने विस्फोटक सामग्री काकलूर मार्ग पर देना निश्चित किए थे। हालांकि, जवानों ने सभी को दबोच लिया।

खबरें और भी हैं...