'हिंदू-मुस्लिम दोनों एक-दूसरे की सोच को समझें':BJP की राष्ट्रीय महामंत्री डी पुरंदेश्वरी बोलीं- एक भारत श्रेष्ठ भारत के तहत हम इसी ओर बढ़ रहे

जगदलपुर3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
BJP की राष्ट्रीय महामंत्री डी पुरंदेश्वरी। - Dainik Bhaskar
BJP की राष्ट्रीय महामंत्री डी पुरंदेश्वरी।

छत्तीसगढ़ के जगदलपुर पहुंचीं भाजपा की राष्ट्रीय महामंत्री डी पुरंदेश्वरी ने कहा कि, धर्म को बचाने के लिए सड़क पर उतरने की हमारी तरफ से कोई गुंजाइश नहीं है। हम चाहते हैं कि, मुसलमान हमारी सोच को समझे और हम हिंदू उनकी सोच को समझे। उन्होंने कहा कि, एक भारत श्रेष्ठ भारत के तहत हम इसी ओर बढ़ रहे हैं। हालांकि, जब उनसे धर्मांतरण के संबंध में सवाल किया गया तो वे जवाब देने से बचती हुईं नजर आईं। उन्होंने कहा कि मैं राजनीति के अंतर्गत यहां नहीं आई हूं। इसका जवाब प्रदेश अध्यक्ष देंगे।

दरअसल, डी पुरंदेश्वरी से मीडिया ने सवाल किया कि बागेश्वर धाम वाले पं. धीरेंद्र शास्त्री ने लोगों से कहा है कि सनातन को बचाने बाहर आएं। तो क्या भाजपा भी उनके साथ सड़क पर उतरेगी? इस सवाल का जवाब देते हुए उन्होंने इसे भाजपा की मुहिम एक भारत श्रेष्ठ भारत से जोड़ दिया। उन्होंने कहा कि, इस कार्यक्रम के तहत हम इस विषय पर भी ध्यान देंगे। जब एक दूसरे में समझ बढ़ती है तो तनाव दूर हो जाता है। इसी उद्देश्य को लेकर हम आगे आए हैं।

ये भी पढ़िए- CG के लोगों ने देखी आंध्र प्रदेश की संस्कृति:डी पुरंदेश्वरी ने तेलगु में दिया भाषण, आंध्र के कलाकारों ने दी शानदार परफॉर्मेंस

इसलिए आईं थीं जगदलपुर

मंगलवार को भाजपा का एक भारत श्रेष्ठ भारत कार्यक्रम का आयोजन किया गया था। इस कार्यक्रम में शिरकत करने के लिए भाजपा की राष्ट्रीय महामंत्री डी पुरंदेश्वरी जगदलपुर आईं थीं। उनके साथ भाजपा के छ्त्तीसगढ़ प्रदेश अध्यक्ष अरुण साव, बस्तर प्रभारी संतोष पांडेय, पूर्व मंत्री केदार कश्यप, महेश गागड़ा समेत अन्य भाजपा के दिग्गज नेताओं ने शिरकत की।

पं. धीरेंद्र शास्त्री ने दिया था यह बयान

रायपुर में बागेश्वर धाम वाले पंडित धीरेंद्र शास्त्री ने बयान दिया है कि वह भारत को हिंदू राष्ट्र बना देंगे। भारत के लोगों चूड़ियां पहनकर घर में मत बैठो। अगर अपने घरों से नहीं निकलते हो तो हम तुम्हें बुजदिल मानेंगे। पंडित धीरेंद्र शास्त्री ने कहा कि, भारत में ऐसा कोई व्यक्ति नहीं है जिस पर उंगली नहीं उठती हो। सभी लोगों को कसौटी पर खरा उतरना है।