5 महीने बाद खुली मां दंतेश्वरी मंदिर की दान पेटी:भक्तों ने माता को चढ़ाए 13 लाख रुपए समेत सोने-चांदी के आभूषण, पत्र लिख मांगी मन्नत

दंतेवाड़ा3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मां दंतेश्वरी मंदिर की दान पेटी खोली गई। - Dainik Bhaskar
मां दंतेश्वरी मंदिर की दान पेटी खोली गई।

छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में स्थित बस्तर की आराध्य देवी मां दंतेश्वरी मंदिर की दान पेटी शुक्रवार को खोली गई। करीब 5 महीने बाद खुली दानपेटी में से भक्तों के चढ़ाए कुल 12 लाख 95 हजार 74 रुपए नगद निकले हैं। भक्तों ने देवी मां को कई सोने-चांदी के आभूषण भी चढ़ाए हैं। इसके अलावा दान पेटी से मन्नतों का पत्र भी निकला है। किसी ने नौकरी के लिए तो किसी ने तबादले के लिए माता से मन्नत मांगी है।

दरअसल, साल 2022 में दूसरी बार मंदिर की दान पेटी खोली गई है। इससे पहले 5 महीने पहले जनवरी में मंदिर समिति और प्रशासन की टीम ने दान पेटी खोली थी। उस समय भी करीब 10 लाख से ज्यादा का चढ़ावा निकाला था। समिति के सदस्यों की माने तो कोरोना के बाद से मंदिर में नगद दान की राशि थोड़ी कम हुई है। हालांकि, भक्त अपनी मन्नतों के अनुसार ऑनलाइन माध्यम से भी दान करने लगे हैं। कोरोना काल में प्रशासन ने क्यूआर कोर्ड जारी किया था। इससे विदेशों में भी बैठे भक्त आसानी से चढ़ावा करते हैं।

पेटी से पैसा निकालते समिति के सदस्य।
पेटी से पैसा निकालते समिति के सदस्य।

पत्र में लिखी यह बात

मां दंतेश्वरी के प्रति भक्तों की एक बड़ी आस्था है और मान्यता यह भी है कि मां दंतेश्वरी को अपनी समस्याएं पत्र के माध्यम से बताने से ही भक्तों की मुरादें पूरी करती हैं। दान पेटी से कुछ पत्र भी निकले हैं। जिनमें एक भक्त ने माता से मन्नत मांगी है कि वह नौकरी में है। एक जिले से दूसरे जिले में तबादला चाहता है। दूसरे पत्र में किसी ने नौकरी दिलाने की मांग की है तो वहीं किसी ने स्वास्थ्य ठीक रखने की मन्नत मांगी है।

जगदलपुर में स्थित मंदिर की भी खुली थी दान पेटी

महज 15 दिन पहले जगदलपुर में स्थित मां दंतेश्वरी मंदिर की 3 दान पेटियां खोली गईं हैं। इन दान पेटियों में से करीब 7 लाख 31 हजार 787 रुपए नगद निकले। साथ ही सोने-चांदी के कई आभूषण समेत श्रृंगार के सामान भी निकले थे। जिसे भक्तों ने माता को चढ़ाया था। इसके अलावा भक्तों ने मान्यताओं के अनुसार माता को कई पत्र भी लिखे थे। किसी ने जॉब तो किसी ने पारिवारिक समस्या को दूर करने की मन्नत मांगी थी।

खबरें और भी हैं...