CG के 24 बंधक मजदूरों को छुड़ाया गया:कंपनी मालिक ने बनाया था बंधक, पैसे नहीं दिए, ATM भी छीना; विधायक की मदद से लौटे

जगदलपुर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बस्तर के मजदूरों को तेलंगाना से छुड़वाकर जगदलपुर लाया गया है। - Dainik Bhaskar
बस्तर के मजदूरों को तेलंगाना से छुड़वाकर जगदलपुर लाया गया है।

छत्तीसगढ़ के 24 मजदूरों को तेलंगाना में हैदराबाद प्लाईवुड कंपनी के मालिक ने बंधक बना लिया। उनके आधार कार्ड, ATM समेत अन्य दस्तावेज भी अपने पास रख लिए थे। कई महीनों से मेहनताना भी नहीं दिया जा रहा था। जब इस मामले की जानकारी बस्तर जिला प्रशासन को मिली तो फौरन टीम भेजकर तेलंगाना से 24 मजदूरों को छुड़वाकर बस्तर लाया गया है। प्लाईवुड कंपनी के मालिक से इन मजदूरों का करीब करीब 2 लाख 63 हजार रुपए मेहनताना भी वसूला गया है, जिसे मजदूरों को दे दिया गया है।

जानकारी के मुताबिक, जगदलपुर के नेतानार ग्राम के रहने वाले संजय नाग ने बस्तर के मजदूरों को तेलंगाना में बंधक बनाए जाने की जानकारी जगदलपुर विधायक रेखचंद जैन को दी थी। संजय ने बताया था कि, बस्तर के कुछ मजदूर विकाराबाद में हैदराबाद प्लाईवुड कंपनी में काम कर रहे हैं। जिनका ATM, आधार कार्ड समेत अन्य दस्तावेज मालिक ने अपने पास रख लिया है। घर जाने नहीं दिया जा रहा है और न ही मजदूरी का भुगतान कर रहे। इस मामले की जानकारी मिलते ही रेखचंद जैन ने बस्तर कलेक्टर चंदन कुमार को मजदूरों को छुड़वाकर लाने को कहा।

प्रशासन ने बनाई टीम, तेलंगाना प्रशासन से भी मिली मदद

बस्तर कलेक्टर चंदन कुमार ने एक टीम का गठन किया। मजदूरों को छुड़वाने के लिए कुछ दिन पहले तेलंगाना भेजा गया था। इस दल के सदस्यों ने तेलंगाना के विकाराबाद के कलेक्टर से संपर्क किया। फिर वहां हैदराबाद प्लाईवुड कंपनी में कार्यरत बस्तर के 24 मजदूरों को छुड़वाकर 17 सितंबर को बस्तर लाया गया।

बताया जा रहा है कि, इनमें बस्तर और कोंडागांव के पांच-पांच, दंतेवाड़ा और नारायणपुर के चार-चार मजदूर शामिल हैं। बीजापुर और कांकेर के भी तीन-तीन मजदूर बंधक बनाए गए थे। जगदलपुर लाने के बाद सभी को उनके घर भेज दिया गया है। साथ ही मजदूरों को समझाइश दी गई है कि वे भविष्य में ग्राम सचिव को बिना सूचना दिए अन्य प्रदेशों में काम के लिए न जाएं।

खबरें और भी हैं...