निरीक्षण:किसानों की प्रदर्शनी देख कृषि विवि के कुलपति बोले- तैयार करें बिजनेस मॉडल

गीदमएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
किसानों को कोदो, कुटकी और मक्का बीजा का वितरण करते कुलपति। - Dainik Bhaskar
किसानों को कोदो, कुटकी और मक्का बीजा का वितरण करते कुलपति।

इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति डाॅ. गिरीश चंदेल ने कृषि विज्ञान केंद्र गीदम, दंतेवाड़ा का शुक्रवार को निरीक्षण किया। अनुसंधान सेवाओं के संचालक डाॅ. विवेक कुमार त्रिपाठी भी उनके साथ मौजूद थे। भ्रमण के दौरान टीएसपी योजना के तहत स्थापित बायो फ्लॉक मछली पालन इकाई, कड़कनाथ कुक्कुट और बटेर पालन इकाई का लोकार्पण किया। उन्होंने आधुनिक तरीके से मछली पालन और कुक्कुट पालन तकनीक की सराहना की और इसे कृषकों की आमदनी बढ़ाने में लाभकारी बताया।

कुलपति ने इस दौरान किसानों द्वारा लगाई गई प्रदर्शनी का भी अवलोकन किया। प्रदर्शनी में प्रदर्शित उत्पादों के बारे में महिला कृषक रामबती पोडयाम, चंपा अटामी, शर्मीली नाग, सोना राम कुंजाम, रामप्रसाद वेको, जयलाल यादव, हरसिंग ओयामी, मेहत्तर बघेल, शांति कश्यप, पूजा कश्यप, पार्वती मौर्य से विस्तार से चर्चा की और उनके उत्पादों से प्रभावित होकर उन्हें बिजनेस माॅडल बनाने के लिए कहा।

भ्रमण के दौरान केंद्र पर संचालित सभी गतिविधियों की जानकारी केंद्र के वरिष्ठ वैज्ञानिक व प्रमुख डाॅ. नारायण साहू ने दिया। कार्यक्रम को सफल बनाने में संतोष कुमार ध्रुव, डिप्रोशन बंजारा, अनिल कुमार ठाकुर, डाॅ भूजेन्द्र कोठारी, मधु माली, वंदना चड़ार, सुरेन्द्र पोडयाम, पूनम कश्यप, जी परमेश्वरी एवं लेखेश कुमार श्रीवास्तव ने विशेष सहयोग दिया।

इन इकाइयों का किया भ्रमण
मशरूम स्पान उत्पादन इकाई, वर्मी कंपोस्ट परीक्षण प्रयोगशाला, कड़कनाथ ब्रीडिंग इकाई, बतख ब्रीडिंग इकाई, बकरी ब्रीडिंग इकाई, साहीवाल दुग्ध उत्पादन इकाई, अमरूद मदर आर्चेड, मैंगो मदर आर्चेड, हल्दी बीज उत्पादन प्रक्षेत्र, धान बीज उत्पादन प्रक्षेत्र, पोल्ट्री वेस्ट प्रबंधन इकाई और वर्मी कंपोस्ट उत्पादन इकाई का भ्रमण किया।

भ्रमण के दौरान शहीद गुंडाधुर कृषि महाविद्यालय, जगदलपुर के अधिष्ठाता डाॅ आर एस नेताम, उद्यानिकी महाविद्यालय जगदलपुर के अधिष्ठाता डाॅ अश्विनी ठाकुर, तथा अनिल श्रीवास्तव, अभियंता भौतिक सयंत्र और रवि श्रेय निज सहायक कुलपति भी थे।

प्रशिक्षण छात्रावास का लिया जायजा
कुलपति डाॅ. गिरीश चंदेल ने किसानों के आवासीय प्रशिक्षण के लिए बने छात्रावास और उसमें उपलब्ध सुविधा की भी जानकारी ली। भ्रमण के दौरान मौसम वेधशाला से डाटा संकलन की तकनीक, इंदिरा सीड उत्पादन की प्रक्रिया में प्रयुक्त ग्रेडर मशीन की जानकारी ली। वहीं आर्या परियोजना से संचालित चिरौंजी प्रसंस्करण इकाई की भी जांच की।

भ्रमण के बाद केंद्र पर आयोजित कृषक प्रशिक्षण सह बीज वितरण कार्यक्रम में कुलपति ने किसानों को संबंधित किया। उन्होंने कहा कि किसानों को बीज के लिए आत्मनिर्भर होना पड़ेगा। इसके लिए ज्यादा से ज्यादा बीज उत्पादन कार्यक्रम में किसानों को भाग लेने का आग्रह किया। इस दौरान उन्होंने किसानों को कोदो, कुटकी और मक्का बीज का भी वितरण किया।

खबरें और भी हैं...