पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

2 अगस्त से स्कूल अनलॉक:1.24 लाख बच्चों को पढ़ाने 1200 शिक्षक दुर्ग-भिलाई से आते हैं, संक्रमण का खतरा

बालोद4 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
अभी स्कूल बंद है, सफाई नहीं होने से प्राथमिक शाला मेड़की के परिसर में खरपतवार उग गए हैं। - Dainik Bhaskar
अभी स्कूल बंद है, सफाई नहीं होने से प्राथमिक शाला मेड़की के परिसर में खरपतवार उग गए हैं।
  • एपीसी ने कहा- सर्दी, खांसी व बुखार से जूझ रहे बच्चे व शिक्षक की नो एंट्री
  • कोविड गाइडलाइन का पालन करना जरूरी

नया शैक्षणिक सत्र शुरू होने के 45 दिन बाद 2 अगस्त से कक्षा 9वीं से 12वीं तक के विद्यार्थियों के लिए हाईस्कूल, हायर सेकेण्डरी स्कूल अनलॉक हो जाएंगे। फिर ऑफलाइन पढ़ाई होगी। जो अब तक ऑनलाइन क्लास के जरिए हो रही है। वहीं अधिकांश प्राइमरी व मिडिल स्कूल भी खुलेंगे। ऐसा विभागीय अफसर कह रहे हैं। तर्क यह दे रहे है कि शासन ने भी सहमति दे दी है। वहीं अब जिले में कोरोना के एक्टिव केस 50 से कम हो गए हैं। आने वाले 10 दिन में स्थिति और सुधर जाएगी।

जहां कोरोना का एक भी केस नहीं है, वहां प्रबंधन समिति स्कूल खोलने निर्णय ले सकती है। ऐसे में अधिकांश स्कूल सुबह 10 से शाम 4 बजे तक खुलेंगे। हालांकि संक्रमण का खतरा अब भी बरकरार है क्योंकि पहली से 12वीं तक सरकारी स्कूलों में एक लाख 24 हजार बच्चों को पढ़ाने 6239 में से लगभग 1200 शिक्षक दुर्ग-भिलाई व आसपास के अन्य क्षेत्र से अप-डाऊन करते हैं।

दूसरी लहर में दुर्ग जिला कोरोना को लेकर संवेदनशील बना था। ऐसे में संक्रमण का खतरा बरकरार है। क्योंकि शिक्षकों का आना-जाना सोमवार से शनिवार तक सुबह से शाम तक रहता है। ऐसे में विशेष सावधानी बरतने की जरूरत है।

काेरोनाकाल में 35 शिक्षकों व संकुल समन्वयक की मौत हुई

शिक्षा विभाग के अनुसार इस साल कोरोना व अन्य बीमारियों से जूझ रहे बच्चों को पढ़ाने वाले 35 शिक्षक, संकुल समन्वयक की मौत हुई है। ऐसे में शिक्षक भी सुरक्षा के लिहाज से अपने स्तर पर बच्चों को संक्रमण से बचाने पहल करेंगे, क्योंकि तीसरी लहर में बच्चों को ही ज्यादा खतरा होने की बात कही जा रही है। इधर कोरोना वायरस से बचाव के लिए 18 साल से कम उम्र वाले बच्चों के लिए टीका उपलब्ध नहीं है।

स्कूलों में खरपतवार उग आए हैं सफाई के बाद ही लगेगी क्लास

प्राइमरी व मिडिल स्कूल के बच्चों की ऑफलाइन क्लास पिछले साल से अब तक स्कूलों में नहीं लगी है। बुधवार सुबह जब हम जिला मुख्यालय से 3 किमी दूर मेड़की के प्राथमिक स्कूल में पहुंचे ताे यहां देखा कि परिसर में खरपतवार उग आए है। मध्यान्ह भोजन कक्ष के आसपास भी यह स्थिति है। जहां बच्चे प्रार्थना में शामिल होते है, सामूहिक रूप से खेलते है, वहां घासफूस उग गए हैं। सफाई के बाद ही क्लास लगाने की तैयारी चल रही है।

स्कूल आने वाले बच्चों के लिए मध्याह्न भोजन पर अभी संशय

जिले में 817 प्राथमिक व 410 मिडिल, 173 हाईस्कूल व हायर सेकेण्डरी स्कूल है। एक लाख 24 हजार अध्ययनरत है। जिस हिसाब से अभी कोरोना संक्रमण की रफ्तार धीमी हुई है, उसके अनुरूप शिक्षा विभाग के अफसर अनुमान लगा रहे हैं कि इसमें से अधिकांश स्कूल खुलेंगे। लेकिन मध्याह्न भोजन को लेकर अभी संशय की स्थिति है, क्योंकि सोशल डिस्टेंस सहित कोविड गाइडलाइन का पालन करना हर हाल में जरूरी है।

शाला प्रबंधन समिति चाहेगी तभी बच्चों के लिए स्कूल खुलेगा

शिक्षा विभाग के अफसरों का कहना है कि हर माह 15 तारीख को शाला प्रबंधन समिति की बैठक हाेना प्रस्तावित है। हालांकि समिति अपने हिसाब से माह में एक दिन कभी भी बैठक लेती है। शासन की ओर से स्कूल खोलने को लेकर प्लानिंग की जा चुकी है। सिर्फ लिखित आदेश आने का इंतजार है। आपातकाल में जल्द ही समिति स्कूल विकास से संबंधित गतिविधियों के लिए बैठक आयोजित कर निर्णय लेगी, कि आगे क्या करना है।

बच्चों को संक्रमण से बचाने के लिए पहल करेंगे: गैंदलाल

​​​​​​​सहायक जिला परियोजना समन्वयक गैंदलाल खुरश्याम ने बताया कि जहां कोरोना का एक भी केस नहीं है, वहां प्रबंधन समिति निर्णय लेकर बच्चों की पढ़ाई के लिए स्कूल खुलवा सकती है। मास्क, सैनिटाइजर, सोशल डिस्टेंस सहित अन्य कोविड गाइडलाइन का पालन करना अनिवार्य होगा। हाईस्कूल, हायर सेकेण्डरी स्कूल के ही शिक्षक दुर्ग, भिलाई से आना-जाना करते हैं। सभी समझदार है, बच्चों को संक्रमण से बचाने पहल करेंगे।

एक ही परिवार के 2 लेगों को भी कोरोना

गुरुर ब्लॉक में मुड़खुसरा के 15 साल के बच्चे की कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजिटिव

गुरूर ब्लॉक के ग्राम मुड़खुसरा में 15 साल के बच्चे की कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आने की पुष्टि जिला स्वास्थ्य विभाग ने की है। 19 जुलाई को सैंपल जांच हुई थी। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार मंगलवार को फीवर क्लीनिक बालोद में कोरोना जांच कराने के बाद रोशन नगर वार्ड 20 बालोद में निवासरत एक परिवार के 2 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई। जिसकी उम्र 32 व 60 साल है। पीएचसी पुरुर में सैंपल जांच के बाद गुरूर ब्लॉक के आनंदपुर निवासी 52 वर्षीय महिला की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है।

सोमवार को मुड़खुसरा के बच्चे के अलावा गुंडरदेही निवासी 40 वर्षीय महिला व बालोद ब्लॉक के सोहपुर निपानी निवासी 42 वर्षीय महिला की रिपोर्ट पॉजिटिव आने की पुष्टि की गई है। दो दिन में 18 साल से कम के एक व इससे ज्यादा उम्र के 5 संक्रमित मिले है। विभाग की ओर से अपील की गई है कि पालक वर्ग विशेष सावधानी बरतें, क्योंकि बाहर में माता-पिता या परिवार के कोई भी सदस्य संक्रमित होकर जब घर जा रहे है तो बच्चे भी चपेट में आ रहे है।

खबरें और भी हैं...