पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बालोद जिले में जंगली हाथियों का दल:रजोलीडीह के जंगली क्षेत्रों में अलर्ट, वन विभाग का अमला कर रहा गश्त; अब तक एक व्यक्ति की जा चुकी है जान, फसलों को भी नुकसान

बालोद24 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

छत्तीसगढ़ के बालोद जिले में इन दिनों जंगली हाथियों का दल घूम रहा है। हाथियों की वजह से एक व्यक्ति की मौत हो चुकी है। हाथियों का दल गांव के भीतर जाकर कच्चे मकानों को तोड़ने से लेकर खेतों में फसलों को भी नुकसान पहुंचा रहे हैं। वन विभाग के अधिकारियों से मिली जानकारी के अनुसार अभी हाथियों का दल रजोलीडीह के जंगलों में है। जिसके चलते आसपास के कई गांव को अलर्ट कर दिया गया है।

21 हाथियों का है दल

जानकारी के मुताबिक, जंगली हाथियों के दल में 21 हाथी शामिल हैं। इनमें दो बच्चे भी हैं। चंदा नाम की हथिनी इस दल का नेतृत्व करती है। जानकारों का कहना है कि हाथियों का दल दिनभर जंगलों में आराम करता है और रात के अंधेरे में रिहायशी इलाकों के साथ साथ खेते में फसलों को नुकसान पहुंचाता है।

रिहायशी क्षेत्र में कुछ इस तरह से हाथियों का दल नुकसान कर रहा है।
रिहायशी क्षेत्र में कुछ इस तरह से हाथियों का दल नुकसान कर रहा है।

हाथियों का दल जानलेवा
जिले में हाथियों के दल ने डौंडी ब्लॉक के अरजगुंडरा गांव में पिछले दिनों एक किसान को पटक-पटक कर मार दिया था। एहतियात के तौर पर वन विभाग लोगों की सुरक्षा को लेकर अलर्ट है। वन विभाग से मिली जानकारी के मुताबिक, लोगों को हाथियों के दल से दूर रहने के लिए मुनादी के साथ-साथ अन्य तरीकों से जागरूक किया जा रहा है।

बालोद जिले के जंगलों में हाथियों का दल भ्रमण करते हुए।
बालोद जिले के जंगलों में हाथियों का दल भ्रमण करते हुए।

हाथियों का दल कांकेर पहुंचने की कर रहा कोशिश
वन विभाग के मुताबिक, अभी हाथियों का लोकेशन रजोलीडीह के पीछे रिजर्व फॉरेस्ट क्रमांक 134,135 और 136 के कंपार्टमेंट में है, जो भानुप्रतापपुर फॉरेस्ट डिवीजन का बार्डर क्षेत्र है। अगर वो 200 से 400 मीटर इस क्षेत्र को पार कर जाएंगे तो भानुप्रतापपुर डिवीजन में पहुंच जाएंगे। लेकिन यह कई दिनों से वहां जाने का प्रयास कर रहा है, लेकिन जा नहीं पा रहे हैं।

खबरें और भी हैं...