पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

यह लापरवाही जानलेवा है:बालोद जिले के कंटेनमेंट जोन में बेधड़क आवागमन जारी, करीब 20 गावों को किया गया है सील; पिछले 7 दिनों में 2924 लोग संक्रमित मिले, 64 की मौत

बालोद2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बालोद जिले के ग्रामीण क्षेत्रों में कंटेनमेंट जोन में लापरवाही जारी है। यहां पर किसी प्रकार की प्रशासनिक देखरेख नहीं हो रही। - Dainik Bhaskar
बालोद जिले के ग्रामीण क्षेत्रों में कंटेनमेंट जोन में लापरवाही जारी है। यहां पर किसी प्रकार की प्रशासनिक देखरेख नहीं हो रही।

छत्तीसगढ़ के बालोद जिले में कोरोना संक्रमण शहरी और ग्रामीण दोनों क्षेत्रों में फैल रहा है। जिला प्रशासन ने लॉकडाउन के अलावा करीब 20 गांवों को कंटेनमेंट जोन भी घोषित किया है। लेकिन गांवों में बने कंटेनमेंट जोन बस दिखावा मात्र बनकर रह गए हैं। लोग बैरिकेड्स को तोड़कर बेधड़क इधर-उधर से निकल रहे हैं। इन बैरिकेड्स पर किसी प्रकार की प्रशासनिक पहरेदारी नहीं दिखाई देती है।

ग्रामीण क्षेत्रों में एक गांव से दूसरे गांव आना-जाना कर रहे है। इन्हें रोकने वाला कोई नहीं है।
ग्रामीण क्षेत्रों में एक गांव से दूसरे गांव आना-जाना कर रहे है। इन्हें रोकने वाला कोई नहीं है।

यह लापरवाही लोगों के लिए पड़ सकती है भारी
बालोद जिले में कलेक्टर जनमेजय महोबे ने 6 मई सुबह 6 बजे तक लॉकडाउन जारी रखने के आदेश पहले ही जारी किए थे। ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोनावायरस का संक्रमण बढ़ने की वजह से ग्रामीण क्षेत्रों में करीब 20 कंटेनमेंट जोन भी घोषित किए। कंटेनमेंट जोन में हर तरह की पाबंदियां रहती है। इसलिए जिला प्रशासन ने इस तरह के जोन बनाए थे। लेकिन गांव में बनाए गए कंटेनमेंट जोन का खुलेआम माखौल उड़ाया जा रहा है। बैरिकेड्स को कूदकर इधर-उधर से लोग निकल रहे हैं।

यहां किसी प्रकार की निगरानी रखने के लिए कोई प्रशासन का कर्मचारी तैनात नहीं है। इसी फायदा उठाकर ग्रामीण कंटेनमेंट जोन में आना-जाना कर रहे है। पिछले दिनों तो कंटेनमेंट जोन में शादी समारोह कार्यक्रम भी हो रहा था, हालांकि प्रशासन के अधिकारियों की टीम ने बाद में रुकवा दिया। लेकिन इस तरह की लापरवाही इन क्षेत्रों में देखी जा रही है। जिला प्रशासन ने डौंडीलोहारा, गुंडरदेही और बालोद ब्लॉक के गांवों में कंटेनमेंट जोन घोषित किए हैं।

गांवों में कंटेनमेंट जोन में लोग इस तरह लापरवाही कर रहे हैं।
गांवों में कंटेनमेंट जोन में लोग इस तरह लापरवाही कर रहे हैं।

जिले में कोरोना संक्रमण
बालोद जिले में चार ब्लॉक हैं जिसमें गुंडरदेही ब्लॉक में कोरोना के मरीज ज्यादा मिल रहे हैं। पिछले साल 14 मई से 30 अप्रैल तक डौंडी ब्लॉक में सबसे ज्यादा संक्रमित मिलने की पुष्टि विभाग ने की थी। लेकिन रविवार को मिले केस के आधार पर अब गुंडरदेही ब्लॉक में सबसे ज्यादा संक्रमित मिलने की पुष्टि की गई है। संक्रमित ब्लॉकों में डौंडी दूसरे नंबर पर है। जबकि बालोद ब्लॉक तीसरे नंबर पर बरकरार है। वहीं अगर जिले के पिछले 7 दिनों के कोरोना संक्रमित मरीजों के आंकड़े देखे तो 2924 लोग संक्रमित हुए और 64 की मौत हुई है, जो औसतन देखा जाए तो हर दिन 9 लोगों की मौत हो रही है।

क्या है कंटेनमेंट जोन

कंटेनमेंट जोन का मतलब पूरी तरह से क्षेत्र को सील कर दिया जाना। कोई भी व्यक्ति घर से बाहर नहीं निकल सकता। उन्हें आवश्यक वस्तुएं सब्जी, अनाज, तेल, शकर, नमक और दूध घर तक पहुंचाने का जिम्मा प्रशासन कर रहता है।

  • चिह्नांकित क्षेत्र के अंतर्गत सभी दुकानें और अन्य व्यापारिक प्रतिष्ठान बंद।
  • प्रभारी अधिकारी द्वारा कंटेनमेंट जोन में घर पहुंच सेवा के माध्यम से आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति की जाती है।
  • कंटेनमेंट जोन के अंतर्गत सभी प्रकार के वाहनों पर प्रतिबंध रहता।
  • मेडिकल इमरजेंसी को छोड़कर अन्य किसी कारणों से बाहर निकलना प्रतिबंधित रहता है।
  • जिला चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी द्वारा संबंधित क्षेत्र में स्वास्थ्य की निगरानी और निर्देश के अनुसार सैंपल जांच के लिए लिये जाते है।
  • कंटेनमेंट जोन की निगरानी लगातार पुलिस पेट्रोलिंग की जाती है।
खबरें और भी हैं...