पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

सेंटरों से ज्यादा घरों में मरीज:कोरोना के मरीजों ने कहा- रिस्क नहीं लेना चाहते सेंटरों तक जाने में देरी, इसलिए हम घर में ही सुरक्षित

बालाेदएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • अफसर ने कहा- घर पर ही इलाज कराना चाह रहे संक्रमित, इसलिए सेंटरों में खाली है बेड

सरकारी कोविड केयर सेंटरों से ज्यादा मरीज घरों में रहकर इलाज करा रहे हैं। आलम यह है कि सेंटरों में 300 से ज्यादा बेड खाली है। अधिकांश लोग कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद घर में इलाज कराने की अनुमति अफसरों से ले रहे हैं। जिसकी पुष्टि जिला स्वास्थ्य विभाग भी कर रहा है। सीएमएचओ डॉ. एस. देवदास के मुताबिक रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद अधिकांश लोग अपनी सुविधा अनुसार घर में ही इलाज कराना चाह रहे हैं इसलिए सेंटरों में बेड खाली है। यह अच्छा ही है क्योंकि केस बढ़ रहे है तो जितने सीटें खाली रहेगी, मरीजों को आसानी से भर्ती करा सकेंगे। वहीं होम आइसोलेशन में इलाज करा रहे मरीजों का कहना है कि लगातार केस मिलने से स्वाभाविक है, देरी से मरीजों की भर्ती हो रही होगी इसलिए घर ही सुरक्षित है। सेंटरों में पहुंचने तक देरी और आगे हालात को देखते हुए रिस्क नहीं लेना चाहते। आंकड़ों के मुताबिक बालोद जिले में 993 में से 473 संक्रमित घर में इलाज करा रहे हैं। कोविड सेंटरों के 644 में से 312 बेड खाली हैं, 332 मरीज भर्ती हैं।

यह भी एक कारण- कोविड अस्पताल में लक्षण वाले मरीजों को ही है एंट्री
जिला मुख्यालय के 100 बिस्तर के कोविड अस्पताल में उन्हीं मरीजों को एंट्री दी जा रही है। जिसमें सर्दी, खांसी, बुखार, सांस लेने में तकलीफ जैसे लक्षण या जिन्हें गंभीर बीमारी है। सामान्य यानी जिनमें किसी प्रकार के लक्षण नहीं है, उनको आइसोलेशन सेंटरों में भर्ती किया जा रहा है। इसकी जानकारी होने के बाद लोग खुद ही चाह रहे हैं कि घर में रहकर इलाज कराएं। ताकि परेशानियों का सामना न करना पड़े। पहले कोविड अस्पताल में अधिकांश मरीजों को भर्ती कर रहे थे।

स्वास्थ्य विभाग ने स्वीकारा- कोरोना से अब तक 4 मरीजों की हो चुकी है मौत
जिला स्वास्थ्य विभाग के अनुसार रायपुर मेकाहारा, एम्स, माना कोविड अस्पताल रायपुर, राजनांदगांव, शंकराचार्य भिलाई सहित अन्य स्थानों में भी जिले के मरीज भर्ती हैं। यहां से जांच कराकर अपनी सुविधा अनुसार मरीज दूसरे स्थानों में भी भर्ती होते हैं। जिले में 1918 मरीजों में से 993 एक्टिव हैं। कोविड सेंटरों से ज्यादा लोग इलाज के लिए घर को सुरक्षित मान रहे हैं। विभागीय रिकॉर्ड में अब मृत मरीजों की संख्या 4 हो गई है। अब तक 2 की ही जानकारी दी जा रही थी।

188 संक्रमित दूसरे जिलों के अस्पतालों में भर्ती
जिला स्वास्थ्य विभाग की ओर से बुधवार को जारी मेडिकल बुलेटिन अनुसार जिले में कोरोना मरीजों को रखने के लिए कोविड अस्पताल व 4 आइसोलेशन कोविड केयर सेंटरों में कुल 644 बेड की व्यवस्था है। जिसमें 312 बेड खाली है। 332 बेड में मरीज भर्ती है। जबकि 473 घर पर रहकर अपना उपचार करा रहे हैं। इस तरह सेंटरों व घरों में रहने वाले 805 मरीजों का इलाज जारी है। वहीं 188 मरीज दूसरे अस्पतालों में भर्ती है।

होम आइसोलेशन में रहकर ले रहे दवा
केस 1- डुडिया के संक्रमित शिक्षक ने बताया कि हमारे परिवार में तीन लोगों की कोरोना जांच रिपोर्ट 2 दिन पहले पॉजिटिव आई है। घर में ही इलाज की सुविधा दी गई है। इसलिए जरूरी कार्रवाई कर यही होम आइसोलेशन गाइडलाइन का पालन कर दवा ले रहे हैं। सेंटर में पहुंचने में देरी और आगे अन्य परेशानियों को देखते हुए यह निर्णय लिए है।

केस 2- दल्लीराजहरा क्षेत्र के संक्रमित शासकीय विभाग के अधिकारी ने बताया कि सेंटर में जो दवा मिलेगी व रुटीन चेकअप से लेकर अन्य जरूरी कार्रवाई होगी, वह घर में भी हो सकती है इसलिए यहीं रहकर इलाज कराना ठीक समझा। 5 दिन तक लगातार दवा खाने से स्वस्थ हो गया हूं। सेंटर में जाता तो भोजन समय में मिल पाता या नहीं यह तय नहीं था।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आप अपने विश्वास तथा कार्य क्षमता द्वारा स्थितियों को और अधिक बेहतर बनाने का प्रयास करेंगे। और सफलता भी हासिल होगी। किसी प्रकार का प्रॉपर्टी संबंधी अगर कोई मामला रुका हुआ है तो आज उस पर अपना ध...

और पढ़ें