सार्थक पहल / बालोद में सैकड़ों शादियां टलीं, वर-वधु के परिजन बोले- पहले कोरोना को हराना है

प्रतीकात्मक तस्वीर। प्रतीकात्मक तस्वीर।
X
प्रतीकात्मक तस्वीर।प्रतीकात्मक तस्वीर।

  • अधिकांश लोगों ने कार्ड भी छपवा लिए थे। कई ने कार्ड भी बांट भी दिए थे, क्योंकि शादी आज से शुरू होने वाली थी लेकिन अब इनका कोई औचित्य नहीं है
  • बालोद क्षेत्र के यशवंत साहू ने बताया कि नाती नीरज साहू की शादी अगले माह तय थी। लड़की पक्ष से चर्चा करने के बाद शादी कैंसिल करना पड़ा

दैनिक भास्कर

Mar 27, 2020, 06:35 AM IST

बालोद. कोरोनावायरस के चलते जिले के 8 शहरी क्षेत्र बालोद, दल्लीराजहरा, डौंडी, डौंडीलोहारा, अर्जुन्दा, गुंडरदेही,चिखलाकसा, गुर व 435 ग्राम पंचायत क्षेत्र में 1800 से ज्यादा शादियां टल गई है। यह न्यूनतम आंकड़ा है। जो 27 मार्च से 15 अप्रैल के बीच होने वाली थी। कोरोना के ग्रहण के चलते हर गांव में 2 से 3 शादी टालना पड़ा। ऐसा गांव प्रमुख ही कह रहे हैं। जिले में 700 से ज्यादा गांव है।

इस लिहाज से लगभग 1500 शादियां 27 मार्च से 15 अप्रैल के बीच होना प्रस्तावित था। वहीं शहरी क्षेत्र में 300 शादियों पर कोरोना का ग्रहण लगा। जिसके चलते टालना मजबूरी बना। अधिकांश लोगों ने कार्ड भी छपवा लिए थे। कई ने कार्ड भी बांट भी दिए थे, क्योंकि शादी आज से शुरू होने वाली थी लेकिन अब इनका कोई औचित्य नहीं है।


बघमरा के जनपद पंचायत सदस्य सीता यशवंत साहू, सरपंच गजेंद्र ठाकुर ने बताया कि गांव में 4 शादी कैंसिल हुआ है, जंवारा विसर्जन भी इस बार नहीं होगा। कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव व रोकथाम के लिए शासन व प्रशासन की ओर से प्रतिबंध लगाया गया है। सभी गांवों से आना-जाना मना है, इसलिए लोगों ने शादी को कैंसिल करना ही उचित समझा।


लोगों की सुरक्षा पहले: 27 मार्च से 15 अप्रैल के बीच तय हुई थी कई शादियां
केस 1- बघमरा निवासी विमल निषाद ने बताया एक दिन बाद शादी होने वाली थी। कार्ड छप गया था, गांव व रिश्तेदारों, दोस्तों को बांट चुके थे। कोटली दुर्ग क्षेत्र में बारात जाने वाले थे, जिसे कोरोना के चलते सभी की सहमति से कैंसिल करना पड़ा। अभी कोरोना को हराने सभी पहल कर रहे है, शादी कैंसिल कर सहभागिता दे रहे हैं।

कार्ड नया छपवाएंगे या मोबाइल से देंगे सूचना
जिन घरों में शादी की तैयारियां चल रही थी, वहां अब वीरानी का आलम है। रिश्तेदारों को मोबाइल से सूचना दे दी गई है कि तय तिथि में शादी नहीं कर पाएंगे। कर भी लेंगे तो आप नहीं आ पाएंगे। इसलिए शादी ही कैंसिल करने में भलाई है, नई तिथि मिलने का इंतजार करें, तभी गांव पहुंचना। इसके लिए सूचना देंगे।


केस 4- गुरूर क्षेत्र के तेजकुमारी ने बताया कि मेरी शादी रामनवमी लगन में 2 अप्रैल को तय थी। इस दिन बारात आने वाली थी लेकिन कोरोना वायरस के संक्रमण से लागू की गई लॉक डाउन के चलते अब ऐसा नहीं हो पाएगा। दोनों पक्षों के सहमति के बाद आगे तिथि तय करेंगे। शादी के लिए कार्ड छपाई से लेकर सभी तैयारी पूरी हो चुकी थी।


केस 2- बालोद क्षेत्र के भुनेश्वर दास मानिकपुरी ने बताया कि बेटे पवनदास मानिकपुरी की शादी 15 अप्रैल को तय हो चुकी थी, कुम्हारी क्षेत्र में बारात जाना है लेकिन तय समय में नहीं जा सकेंगे, क्योंकि लॉक डाउन चल रहा है। सभी की रजामंदी से शादी की तिथि को आगे बढ़ाना पड़ रहा है। तैयारियां चल रही थी।


केस 3- बालोद क्षेत्र के यशवंत साहू ने बताया कि नाती नीरज साहू की शादी अगले माह तय थी। लड़की पक्ष से चर्चा करने के बाद शादी कैंसिल करना पड़ा। कार्ड छापने के बाद कई रिश्तेदारों को बांट भी चुके थे। 31 मार्च तक प्रशासन की ओर से शादी, समारोह नहीं करा पाने की जानकारी मिली थी, जो अब बढ़ गया है। इसलिए कैंसिल किया गया।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना