सुराग तक नहीं:धान खरीद 22 गांवों के किसानों से धोखाधड़ी, 3 में से 2 व्यापारी फरार

बालोदएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • 11 महीने बाद भी कोचिए को पुलिस नहीं कर पाई गिरफ्तार

जिले में 11 माह के अंदर धान खरीदकर 22 गांव के 100 से ज्यादा किसानों को व्यापारियों की ओर से पैसा नहीं देने के दो मामले सामने आ चुके है। दोनों मामले में पुलिस ने तीन आरोपियों के खिलाफ 420, 409, 34 के तहत अपराध तो दर्ज कर लिया है लेकिन अब तक एक की भी गिरफ्तारी नहीं हो पाई है।

हाल ही में ग्राम परसुली में ऐसा मामला सामने आने के बाद यह मुद्दा जिले में चर्चा का विषय बना हुआ है, क्योंकि बालोद थाने में 10 माह पहले दर्ज मामले में अब तक आरोपी फरार है और पुलिस सिर्फ जांच जारी होने की बात कह रहे हैं। दोनों मामले में किसानों ने रबी सीजन का धान बेचा है क्योंकि रबी सीजन में सरकार धान नहीं खरीदती इसलिए मजबूरी में किसान कोचियों के पास बेचते है। बालोद व गुरूर के टीआई का कहना है कि किसानों की शिकायत के बाद व्यापारियों के खिलाफ अपराध दर्ज हो गया है लेकिन मोबाइल नंबर बंद होने से लोकेशन ट्रेस नहीं कर पा रहे हैं। इसलिए गिरफ्तारी की कार्रवाई अटकी हुई है। वहीं धान बेचने के बाद व्यापारी से मिले पर्ची को लेकर किसान अब तक थाने का चक्कर लगा रहे है‌ं।

खुलासा: इन गांवों के सरपंचों को भी नहीं छोड़ा
ग्राम परसुली में पूरन लाल साहू और बिरेन्द्र कुमार ने सरपंच मोतीराम देवांगन के अलावा जितेन्द्र सिंह राजपूत, इन्दलराम साहू, दिनदयाल देवांगन, आनंद देवांगन, दारा सिंह, राम सिंह साहू, थानू राम साहू, श्रीराम साहू,प्रकाश सिन्हार व अन्य 30-40 किसानों व गगोरीपार के किसान खुमान देवेन्द्र यादव ग्राम कंवर के किसान छगन लाल साहू, ईश्वर लाल साहू व ग्राम डढारी, खोरदो, अकलवारा सहित अन्य गांव के कई किसानों से भी धान खरीदी कर पैसा न देकर धोखाधड़ी की है।

जगतरा के किसान कर रहे भुगतान की मांग
जगतरा क्षेत्र में धान खरीदने के बाद धोखाधड़ी का मामला दिसंबर 2020 में आया था। तब से अब तक किसान पैसा मिलने का इंतजार कर रहे हैं लेकिन यह इंतजार खत्म तभी होगा, जब व्यापारी को पुलिस गिरफ्तार करेगी। दिसंबर में ग्राम जगतरा के किसानों ने बालोद थाने पहुंचकर धान व्यापारी अनिल कुमार लड्ढा के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज कराने आवेदन दिया था। जिसके बाद अपराध दर्ज किया गया लेकिन अब तक व्यापारी फरार ही है। अब तक कोई सुराग तक नहीं मिल पाया है।

धान बेचने वाले 10 गांवों के लोग कर रहे इंतजार
जगतरा के अलावा धान व्यापारी अनिल के पास आसपास के 10 गांवों के किसान धान बेचे हैं। देवसिंग बघेल ने 43 क्विंटल, हुबलाल यादव 67 क्विंटल, कृष्ण कुमार यादव 50 क्विंटल, अली राम पटेल 25 क्विंटल, गिरवर धनकर 28 क्विंटल, दुखुराम बघेल 35 क्विंटल, धनराज निषाद 6 क्विंटल, राणु यादव 53 क्विंटल, रोहित बघेल 8 क्विंटल धान बेचा है।

व्यापारी ने मोबाइल को बंद कर दिया है: टीआई
बालोद टीआई मनीष शर्मा ने बताया कि मेरी ज्वाइनिंग के पहले का मामला है। जिसमें व्यापारी की तलाश को लेकर जरूरी प्रक्रिया, जांच चल रही है। धान व्यापारी अनिल कुमार लड्ढा के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज होने के बाद से उसकी तलाश कर रहे हैं लेकिन अब तक नहीं मिल पाया है। मोबाइल को बंद कर दिया है। तलाश अब भी जारी है। परिजनों ने उनकी गुमशुदगी का मामला भी दर्ज कराया है।

खबरें और भी हैं...