पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Chhattisgarh
  • Bhilai
  • Balod
  • Team Of Doctors Reaching Villages Of Balod District, Corona Infected And Treatment In Vananchal Area, Relief To 371 Patients In Last 18 Days,chhattisgarh

गांवों तक पहुंच रही प्रदेश की इकलौती मोबाइल मेडिकल टीम:18 दिनों में बालोद के 371 मरीजों को मिला सीधा लाभ, यूनिट में महिला समेत दो डॉक्टर और पैरामेडिकल स्टाफ की टीम शामिल

बालोद4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बालोद की मोबाइल मेडिकल यूनिट इस संक्रमण काल में घर तक पहुंचकर मरीजों का इलाज कर रही है। जिसका सबसे ज्यादा फायदा ग्रामीण क्षेत्र के मरीजों को मिल रहा है। - Dainik Bhaskar
बालोद की मोबाइल मेडिकल यूनिट इस संक्रमण काल में घर तक पहुंचकर मरीजों का इलाज कर रही है। जिसका सबसे ज्यादा फायदा ग्रामीण क्षेत्र के मरीजों को मिल रहा है।

प्रदेश की इकलौती मोबाइल मेडिकल यूनिट (MMU) बालौद जिले के ग्रामीण इलाकों में पहुंच कर काम कर रही है। पिछले 18 दिनों में 371 मरीजों को सीधा लाभ पहुंचाया गया है। यह यूनिट होम आइसोलेशन में रहने वाले लोगों के लिए दवाएं व परामर्श देने का काम कर रही है। इसके साथ ही साथ कंटेनमेंट जोन में संक्रमितों के लिए दवाई व काउसलिंग का काम भी किया जा रहा है। इसे खासकर प्रेग्नेंट महिलाओं व आदिवासी वनांचल क्षेत्रों में रहने वाले लोगों के इलाज के लिए बनाया गया है। जिसका उपयोग इस महामारी के दौर में अच्छे से किया जा रहा है।

यूनिट में महिला समेत दो डॉक्टर और पैरामेडिकल स्टाफ शामिल

इस यूनिट में हमेशा दो डॉक्टर एक पुरूष व एक महिला व अन्य पैरामेडिकल का स्टाफ साथ रहते हैं। कलेक्टर जन्मेजय महोबे ने बताया कि मुख्यमंत्री हाट बाजार क्लीनिक योजना के तहत ही इस यूनिट को तैयार किया गया। लेकिन इसमें विशेष सुविधाओं को अलग से जोड़ा गया है। जैसे पैथोलॉजी (सेमी ऑटो एनालाईजर), CBC, सेन्ट्रीफ्यूज मशीन, ECG मशीन समेत अन्य जांच के उपकरण मौजूद हैं। कोरोना संक्रमण काल में यह यूनिट विशेष तौर पर ग्रामीण क्षेत्रों में काम कर रही है।

आदिवासी क्षेत्र के लोगों का इलाज किया जा रहा है और उन्हें कोरोना संक्रमण व अन्य बीमारियों के बारे में जागरुक किया जा रहा है।
आदिवासी क्षेत्र के लोगों का इलाज किया जा रहा है और उन्हें कोरोना संक्रमण व अन्य बीमारियों के बारे में जागरुक किया जा रहा है।

MMU में मौजूद उपकरण
इस विशेष यूनिट की पैथोलॉजी में लिवर फंक्शन टेस्ट, किडनी फंक्शन टेस्ट और हृदय की जांच के अलावा समस्त रक्त सेंपल के माध्यम से मानक यूनिट के आधार पर जांच सेमी ऑटो एनालाईजर के माध्यम से किया जाता है।

  • CBC इस उपकरण का उपयोग हिमोग्लोबिन, TLC, DSC, प्लेटलेट, MCB, PCV, NCH और NCHC, एक्सूलेट काउंट और डिफेन्सीयल काउंट, एक्सलूट काउंट, हिमेटोलांजी से संबंधित पूरे रक्त के सैंपल से जांच की जाती है।
  • सेन्ट्रीफ्यूज मशीन रक्त में पाए जाने वाले सीरम और प्लाज्मा को रक्त से अलग करने की उपयोग में लाया जाता है।
  • ECG मशीन हृदय संबंधी जांच की जाती है।
  • अन्य सुविधाओं में फ्रीज में ब्लड सैंपल एंटीजन रियेजन और रियेजन किट को निर्धारित तापमान पर सुरक्षित रखने के लिए मौजूद है।
  • यूनिट में डॉक्टरों का दल और मरीज के बैठने के लिए कुर्सियों की सुविधा भी है।
  • इसमें दो डॉक्टर (महिला व पुरुष) एक स्टाफ नर्स, एक फार्मासिस्ट, एक लेब टेक्नीशियन और वाहन चालक सहित एक वार्ड ब्वॉय भी रहता है।
MMU में जांच करने के उपकरण जिसे शामिल किया गया है।
MMU में जांच करने के उपकरण जिसे शामिल किया गया है।

ग्रामीण क्षेत्र के 371 से अधिक मरीज को मिला उपचार
जिले में लॉकडाउन 17 मई तक लगा है। लिहाजा MMU का लाभ ग्रामीणों को मिल रहा है। टेकापार गांव के रहने वाले कन्हैया लाल यादव, खंभन साहू, किशोरी नेताम व उर्मिला बाई ने बताया कि उनको इस चलित अस्पताल के माध्यम से दवाइयां व परामर्श मिला है। जिसे हमें अस्पताल जाने की जरूरत नहीं पड़ी।

ग्रामीण क्षेत्र की प्रेग्नेंट महिलाओं व अन्य गांव के लोगो तक इलाज पहुंचाया जा रहा है।
ग्रामीण क्षेत्र की प्रेग्नेंट महिलाओं व अन्य गांव के लोगो तक इलाज पहुंचाया जा रहा है।

वहीं जिले के सभी विकासखंडों में कोरोना संक्रमित क्षेत्रों में जाकर गर्भवती माताओं, गंभीर मरीजों, बच्चों व महिलाओं को स्वास्थ्य संबंधी जानकारी व दवाइयां ‌निशुल्क दी जा रही है। इसके साथ ही साथ ग्रामीण क्षेत्रों में 18+ वैक्सीनेशन कराने के लिए जागरूक किया जा रहा है।

खबरें और भी हैं...