पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

राहत:ट्रीटमेंट प्लांट में टेस्टिंग शुरू: तांदुला डेम के पानी से बुझेगी प्यास, अप्रैल-मई में शुरू होगी सप्लाई

बालाेद6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • 8 साल इंतजार के बाद अब शहर को मिलेगा साफ व शुद्ध पानी

8 साल का इंतजार 2021 में खत्म हो जाएगा इस वर्ष शहरवासियों को नए साल का तोहफा मिलेगा। बालोद, दुर्ग, बेमेतरा जिले की जीवनदायिनी तांदुला डेम के पानी से शहरवासियों की प्यास बुझेगी। इस साल अप्रैल-मई में साफ पानी मिलने का दावा पीएचई के ईई आरके धनंजय, नपाध्यक्ष विकास चोपड़ा, सभापति योगराज भारती कर रहे हैं। डेम का पानी संपवेल, ट्रीटमेंट प्लांट से साफ होकर नलों में आएगा। गुरुवार को टेस्टिंग कर देखा गया कि डेम का पानी किस तरह एरेटर से प्लगवेटर, इंटेकवेल तक किस गति से आ रहा है। यूं कहें कि नववर्ष 2021 में साफ पानी के लिए बालोदवासियों की इंतजार की घड़ी समाप्त होगी, क्योंकि 2013 से जारी जल आवर्धन योजना का काम व टेस्टिंग पूरा होगा। वर्तमान में शहरवासियों को पेयजल संकट का सामना करना पड़ रहा है, क्योंकि रोजाना नलों में गंदा पानी आ रहा है। केनाल से होकर संपवेल में आएगा पानी: तांदुला का पानी केनाल से होकर संपवेल में आएगा। यहां से ट्रीटमेंट प्लांट से शुद्ध होकर टंकी फिर पाइप से होते हुए घर में लगे नल तक आएगा।

जुर्रीपारा टंकी

  • 2.80 - लाख लीटर क्षमता
  • सप्लाई: जुर्रीपारा क्षेत्र के सभी घरों में।

बूढ़ापारा टंकी

  • 3.00 - लाख लीटर क्षमता
  • सप्लाई: पाररास, बूढ़ापारा, मधु चौक, रेलवे कॉलोनी में।

जयस्तंभ चौक टंकी

  • 3.80 - लाख लीटर क्षमता
  • सप्लाई: नए बस स्टैंड, कुंदरुपारा, सदर रोड के घरों में।

तांदुला जलाशय में पर्याप्त पानी इसलिए कोई दिक्कत नहीं
पिछले 18 साल के रिकाॅर्ड में बारिश का 15 से 18 फीट पानी डैम में भरता है। यहीं के पानी को शुद्ध करके शहरवासियों को मांग अनुरूप उपलब्ध कराया जाएगा। गर्मी में न्यूनतम 15 करोड़ लीटर पानी स्टोरेज ही रहता है। जो पर्याप्त है। 3 करोड़ 99 हजार लीटर पानी देने के लिए सिंचाई विभाग ने सहमति जताई है। मांग अनुरूप बढ़ाया जाएगा। फिलहाल जवाहरपारा टंकी व कचहरी चौक टंकी से शहर के वार्डों व सार्वजिनक स्थानों में पानी की सप्लाई की जा रही है।

खबरें और भी हैं...