ट्रेन के यात्रियों की होगी जांच:रिपोर्ट निगेटिव आने पर ही वे जा सकेंगे घर; कोरोना के कारण हालात को देखते हुए कलेक्टर ने जारी किया आदेश

बालोद8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

ट्रेन में सफर कर जिले में एंट्री करने वाले यात्रियों कोरोना टेस्ट कराना होगा। रिपोर्ट निगेटिव आने पर घर जा सकेंगे। अब टिकट के साथ कोरोना टेस्ट की निगेटिव रिपोर्ट भी जरूरी है। संक्रमण का खतरा है इसलिए यह व्यवस्था लागू की गई है। इस संबंध में कलेक्टर जनमेजय महोबे ने आदेश जारी कर स्थिति स्पष्ट कर दी है। रेलवे के अफसर, सीएमएचओ को यात्रियों का कोरोना जांच करने जरूरी व्यवस्था करने निर्देश दिए हैं।

कोरोना संक्रमण की रोकथाम एवं नियंत्रण के लिए अन्य राज्यों, जिलों से ट्रेन के माध्यम से जिले में आने वाले सभी यात्रियों के लिए आदेश जारी किए गए है। जिसमें उल्लेख किया गया है कि जिले अंतर्गत स्थित सभी रेलवे स्टेशन में ट्रेन के माध्यम से आने वाले यात्रियों का कोरोना टेस्ट अनिवार्य रूप से किया जाएगा। इसी तरह ट्रेन के माध्यम से आने वाले यात्रियों के द्वारा 72 घंटे के अंदर के आरटी-पीसीआर निगेटिव रिपोर्ट दिखाने पर उन्हें गंतव्य स्थान में जाने की अनुमति होगी।

रिपोर्ट नहीं दिखाने पर कोरोना टेस्ट किया जाएगा। जिसके बाद निगेटिव आने पर ही गंतव्य स्थान में जाने की अनुमति दी जाएगी। यदि किसी यात्री कोरोना टेस्ट रिपोर्ट पॉजिटिव आती है तो जिले में स्थापित कोविड सेंटर में भर्ती किया जाएगा। सभी एसडीएम, तहसीलदार, मुख्य स्टेशन मास्टर, जनपद सीईओ, आरटीओ, निकाय सीएमओ को पत्र भेजकर आदेश अनुसार कार्रवाई करने निर्देश दिए है।

फिलहाल लॉकडाउन का असर- सिर्फ 24 यात्रियों ने सफर किया: सोमवार को केंवटी-रायपुर ट्रेन में बालोद रेलवे स्टेशन से 20 टिकट कटाने के बाद सिर्फ 24 यात्रियों ने सफर किया। बालोद सहित दुर्ग व रायपुर में लगे लॉकडाउन के चलते यह हालात बन रहे है कि कम यात्री ही ट्रेन में सफर कर रहे है। इसके पहले 60 से ज्यादा सफर कर रहे थे। चीफ स्टेशन मास्टर पीके वर्मा ने बताया कि कलेक्टर के आदेश अनुसार स्वास्थ्य विभाग के अफसरों के साथ कोरोना जांच की जाएगी।

खबरें और भी हैं...