शिक्षिका हत्याकांड का खुलासा:सामूहिक दुष्कर्म का राज न खुले इसलिए पूर्व सरपंच सहित तीन ने दबाया था गला

बालोद22 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • प्रेमी पूर्व सरपंच और शिक्षिका के बीच 12 साल से था अवैध संबंध

डौंडीलोहारा ब्लॉक के ग्राम कोसमी में 11 जून की रात 48 वर्षीय शिक्षिका की हत्या के मामले में पुलिस ने तीन आरोपियों को धरदबोचा। पुलिस ने कोसमी गांव के ही शिक्षिका को ब्लैकमेल करने वाले उत्तम कुमार रावटे (35), कमलेश श्रीवास (30) और प्रेमी पूर्व सरपंच कमल नारायण साहू (60) को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।

तीनों ने शिक्षिका के साथ बारी-बारी से शराब के नशे में कई बार शारीरिक संबंध बनाए। इस दौरान मुंह को हाथ में दबाए रखा ताकि वह चिल्ला ना सके। मुंह दबाने के चक्कर में नशे में आरोपियों ने सीना भी दबा दिया और इसी दौरान शिक्षिका की सांसें थम गई। जिसके बाद तीनों ने अंदर का दरवाजा बंद किया और छत के सहारे बिजली पोल से नीचे उतरे फिर अपने-अपने घर चले गए। 12 जून की सुबह घटना की जानकारी हुई।

पुलिस और पीएम रिपोर्ट अनुसार आरोपियों ने शिक्षिका की मौत के बाद भी शारीरिक संबंध बनाए। मृतिका जिले की मंत्री की रिश्तेदार थी। जिलेभर में चर्चित रहे इस हत्याकांड का खुलासा करते हुए एसपी सदानंद कुमार ने बताया कि प्रथम दृष्टया घटनास्थल का निरीक्षण, शव निरीक्षण से मामला दुष्कर्म एवं हत्या का प्रतीत होने और विशेषज्ञों के राय लेने के बाद थाना डौंडीलोहारा में मर्ग कायम कर धारा 450,302 भादवि के दर्ज कर जांच शुरू की गई। इसी दौरान ग्रामीणों के बयान से पता चला कि शिक्षिका व पूर्व सरपंच के बीच अवैध संबंध थे। इसके बाद पूर्व सरपंच से पूछताछ की गई। तब उसने जुर्म करना कबूल लिया।

तीनों पर शक, ठोस सबूत मिलने का था इंतजार
पुलिस के अनुसार ठोस सबूत न मिल पाने की वजह से आगे की कार्रवाई अटक गई थी। लिहाजा प्रकरण में विवेचना के दौरान 28 सितंबर को तीनों संदेही का डीएनए परीक्षण के लिए रक्त नमूना (सैम्पल) लेकर विधि सम्मत कार्यवाही करते हुये राज्य न्यायालयिक विज्ञान प्रयोगशाला रायपुर भेजा गया। जांच के बाद रिपोर्ट 3 नवंबर को मिली। जिसमें यह पूर्णतः प्रमाणित हो गया कि तीनों ने मृतिका के साथ दुष्कर्म कर हत्या की वारदात को अंजाम दिया है। डीएनए रिपोर्ट के आधार पर तीनों आरोपियों को साइबर सेल प्रभारी रोहित मालेकर व पुलिस ने हिरासत में लेकर जांच के दौरान मिले तथ्यों के आधार पर पूछताछ किया। जिसके बाद तीनों ने जुर्म करना स्वीकार किया। तीनों आरोपियों के खिलाफ धारा 450, 302, 376 घ, 120 बी भादसं का अपराध दर्ज किया गया। जिसके बाद गिरफ्तारी और जेल भेजने की कार्रवाई की गई।

ग्राम कोसमी के ग्रामीणों ने दी थी अवैध संबंध होने की जानकारी
पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक घटनास्थल का निरीक्षण, गवाहों के बयान एवं पीएम रिपोर्ट के बाद ग्राम कोसमी निवासी कमल नारायण साहू जिसका मृतका शिक्षिका के साथ पिछले 10-12 साल से प्रेम संबंध था। उनके संबंध में ग्रामीणों ने जानकारी दी। कमल नारायण साहू ने भी खुद बताया कि शिक्षिका के साथ उसके नाजायज संबंध थे। इस वजह से अनुमान लगा रहे थे कि कमल ने ही हत्या की वारदात को अंजाम दिया होगा और ऐसा ही हुआ। इसके अलावा ग्राम कोसमी के ही उत्तम कुमार रावटे एवं कमलेश श्रीवास के उपर भी शक की सुई घूम रही थी, क्योंकि गांव वाले एवं गवाह यह कह रहे थे कि घटना के पहले दोनों दोस्त शिक्षिका के घर के आसपास घूम रहे थे। कई लोगों ने दोनों को प्रत्यक्ष देखे भी थे लेकिन रात होने की वजह से स्पष्ट कोई भी इसकी पुष्टि नहीं कर पा रहा था। मृतिका के शव के पोस्टमार्टम के बाद विसरा एवं मृतिका के आंतरिक अंगों के स्लाइड, स्वॉब, ब्लड सैम्पल को डॉक्टर ने परीक्षण के लिए प्रिजर्व किया था। जिसे परीक्षण रासायनिक विज्ञान प्रयोगशाला रायपुर भेजा गया। 23 जुलाई को जब्त आर्टिकल्स का परीक्षण रिपोर्ट प्राप्त हुआ। प्राप्त रिपोर्ट में मृतिका के डीएनए प्रोफाइल के साथ अन्य अलग-अलग डीएनए प्राप्त हुए।

कमल नारायण साहू
यह गांव का पूर्व सरपंच है। जांच के घेरे में शुरू दिन से था क्योंकि इनके और शिक्षिका के बीच अवैध संबंध थे। 11 जून की रात दरवाजा खोलकर घर में सबसे पहले घुसा। शराब पीकर अनैतिक कार्य किया। पत्नी की मौत के बाद अक्सर शिक्षिका के घर जाता था। जिसकी भनक ग्रामीणों को लग गई थी। जिसके चलते शिक्षिका चाह रही थी कि दोनों की शादी जल्द हो जाए लेकिन पूर्व सरपंच ऐसा नहीं चाह रहे थे इसलिए समझौता करना चाह रहा था।

कमलेश श्रीवास
इन्होंने एक बार शिक्षिका और पूर्व सरपंच कमल को आपत्तिजनक हालात में देख लिया था। तब से शिक्षिका के साथ शारीरिक संबंध बनाना चाह रहा था। इसी बात को लेकर शिक्षिका ने डांट फटकार लगाकर दूर रहने की नसीहत दी थी। जिसके चलते बदला लेने के लिए मौका मिलने का इंतजार कर रहा था। जब कमल 11 जून की रात शिक्षिका के घर गया तो अपने दोस्त के साथ दोनों भी चले गए और बारी-बारी से मुंह दबाकर दुष्कर्म किया।

उत्तम कुमार रावटे
कमलेश का दोस्त है। जो पेशे से कृषि मजदूरी कार्य करता है। यह भी अपने दोस्त की तरह शिक्षिका के साथ शारीरिक संबंध बनाना चाह रहा था लेकिन शिक्षिका इन्हें और कमलेश को महत्व नहीं दे रही थी। इसी बात को लेकर दोनों दोस्तों में प्लानिंग बनाई थी कि जब कमल घुसेगा तो दोनों भी शिक्षिका के घर घुसकर ब्लैकमेल करेंगे। इन्होंने दोस्त के साथ बारी-बारी से दुष्कर्म किया और मुंह, सीने को भी दबाए रखा। जिससे शिक्षिका को सांस लेने में तकलीफ हुई लेकिन सभी शराब के नशे में इतने चूर थे कि होश ही नहीं था। पुलिस के अनुसार इन्होंने अपने बयान में बताया है कि मारने का इरादा नहीं था नशे में उस रात क्या हुआ समझ ही नहीं आया।

खबरें और भी हैं...