प्रेरणास्रोत को किया याद:भारतीय संस्कृति के संस्थापक थे विवेकानंद

दल्लीराजहरा3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • बंगाली समाज के लोगों ने मनाई स्वामी विवेकानंद की जयंती

बंगाली समाज ने सादे समारोह में कोविड नियमों का पालन करते हुए स्थानीय रविन्द्र ग्रंथागार के हाॅल में समाज के अध्यक्ष व सीजीएम माइंस एवं रावघाट तपन सूत्रधार के मुख्य आतिथ्य में स्वामी विवेकानंद की जयंती मनाई। सचिव गौतम बेरा ने स्वामी जी की जीवनी का उल्लेख करते हुए कहा कि उन्होंने बहुत कम समय में हिन्दू धर्म व भारत की संस्कृति तथा धार्मिक भावनाओं को पूरी दुनिया मैं फैलाया। उसके लिये पूरा बंगाली समाज हमेशा कृतज्ञ व ऋणी रहेगा। वरिष्ठ सदस्य गगनचंद्र पंड्या ने स्वामी भारतीय संस्कृति के संस्थापक व महान आध्यात्मिक गुरु बताया। 130 वर्ष पूर्व अमेरिका के शिकागो शहर में हुए धर्म संसद में भारतीय संस्कृति व हिन्दू धर्म के लिए जो विचार दिए उससे उन्होंने पूरे विश्व में भारत का नाम ऊंचा किया।

समाज के मुखिया तपन सूत्रधार ने बताया कि उस कठिन समय में भी स्वामी ने किस प्रकार सभी न परीक्षाओं को पास करते हुए, समाज में फैली कुरीतियों व छुआछूत से लड़ते हुए गरीब तबके के लोगों का उद्धार किया। उन्होंने अपने जीवन के कम समय में ही पूरी दुनिया में स्वामी के नाम से हिन्दू धर्म के संस्थापक के नाम से प्रसिद्ध हो गए।,

उन्होंने कहा था कभी भी हिम्मत मत हारो, जीत अवश्य मिलेगी। इस कार्यक्रम को सफल बनाने में सपन चक्रवर्ती, रूपककुमार दास, तरूण चन्द्रा, एससी सरकार, चन्द्रशेखर मंडल, गौतम मायती, पिकूंडे, अशोक आईच, बाबूजाना, मदन मायती, सुशांत का सहयोग रहा।

खबरें और भी हैं...