हौसला:जिले के यशवंत व पल्लवी ने 16 डिग्री में 3800 मीटर ऊंची चोटी केदार काठां ट्रैक पर लहराया 280 फीट लंबा तिरंगा

बालोद16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

जिले के ग्राम डुड़िया निवासी यशवंत कुमार टंडन और तवेरा निवासी पल्लवी बारले ने -16 डिग्री सेल्सियस में 12500 फीट (3800 मीटर) ऊंची चोटी केदार काठां ट्रैक पर चढ़कर 280 फीट लंबा तिरंगा लहराया। इसके पहले दोनों ने उत्तराखंड में नैनीताल की सबसे ऊंची चोटी नैना पीक की चढ़ाई की थी।

इंडियन एडवेंचर फाउंडेशन की ओर से दूसरी बार उत्तराखंड के देहरादून जिले से 200 किलोमीटर दूर सकरी में नेशनल केदार कांठा विंटर ट्रैक का आयोजन किया गया था। जिसमें 8 राज्य राजस्थान, मध्यप्रदेश, उत्तरप्रदेश, हरियाणा, दिल्ली, महाराष्ट्र, ओडिशा और छत्तीसगढ़ के 26 प्रतिभागी शामिल हुए।

छत्तीसगढ़ के 10 प्रतिभागी में बालोद जिले के पल्लवी बारले, यशवंत टण्डन, बिलासपुर, के निशा यादव, विशाल यादव, दंतेवाड़ा के कमलेश टंडन, राजनांदगांव के विवेक गणेश राहमतक, भुवाल सिंह वर्मा, अभय मिश्रा और प्रशांत शामिल थे।

हाथ-पैर सुन्न हो गए थे लेकिन हार नहीं मानी यशवंत और पल्लवी ने बताया कि जब चढ़ना शुरू किए तो पीछे मुड़कर नहीं देखा। ठंड इतनी थी कि हाथ-पैर सुन्न पड़ गए थे। किसी भी समय कुछ हो जाता लेकिन हमने हिम्मत नहीं हारी। दृढ़ इच्छाशक्ति, संकल्प और विश्वास के साथ लगातार चढ़ाई करते रहे और आखिरकार अपने लक्ष्य को हासिल किया।

बर्फीले रास्तों से घिरा हुआ था पूरा ट्रैक पर्वतारोही रोहित, यशवंत, पल्लवी ने बताया कि ट्रैक बर्फीले रास्तों से घिरा हुआ था। इसके बाद भी टीम में शामिल सभी प्रतिभागियों ने हार नहीं मानी और 2 जनवरी को तिरंगा लहरा कर वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया।

लगाए जयकारे: चोटी पर पहुंचने के बाद भारत माता की जय, वंदे मातरम्, छत्तीसगढ़ महतारी की जय, छत्तीसगढ़िया सबले बढ़िया के जयकारे लगाए गए। राजनांदगांव से ललित भंसाली और उमेश ने 280 फीट का तिरंगा लेकर 28 दिसंबर को रेलवे स्टेशन राजनांदगांव से टीम को रवाना किया था।

खबरें और भी हैं...