पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

राहत:ढेंकी से धान कूटेंगे, छिलकायुक्त दाल मिलेगा

बेमेतराएक दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • नवागांव, भनसुली व मुलमुला में बनेगा गांधी सेवा आश्रम, महिलाओं को मिलेगा रोजगार
Advertisement
Advertisement

जिले के ग्राम पंचायत नवगांव, भनसुली और मुलमुला को गांधी सेवा आश्रम की स्थापना के लिए चयनित किया गया है। इससे आसपास के 300 से भी अधिक ग्रामीण महिलाओं को पूरे 365 दिन रोजगार मिल सकेगा। गांधी सेवा आश्रम में परंपरागत ढेंकी से धान कूटकर चावल निकाला जाएगा, जो स्वाद और स्वास्थ्य की दृष्टि से सर्वोत्तम माना गया है। जिला पंचायत सदस्य प्रज्ञा निर्वाणी ने बताया कि नवगांव, भनसुली और मुलमुला को गांधी सेवा आश्रम की स्थापना के लिए चयनित किया गया है। इसके लिए स्थानीय विधायक व संसदीय सचिव गुरुदयाल सिंह बंजारे ने कहा कि यह पहल स्वागत योग्य है। उन्होंने उद्घाटन में आने सहमति दी। राइस मिलों द्वारा बने चावल में पौष्टिकता कम और स्टार्च ही ज्यादा मिलता है। छिलका युक्त अरहर दाल खाने से पाचन संबंधी बीमारी नहीं होती थी।

पायलट प्रोजेक्ट का हिस्सा होंगे तीन गांव
मानव श्रम का अधिकाधिक उपयोग कर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के ग्राम स्वराज्य के सपने को साकार करने ये तीन गांव पायलट प्रोजेक्ट का हिस्सा होंगे। आश्रम के उत्पादों को खादी ग्रामोद्योग के साथ अनुबंध के तहत विक्रय किया जाएगा। साथ ही साथ इन तीनों ग्रामों में गांधी सेवा आश्रम से सीधे भी उत्पादों को क्रय किया जा सकेगा। अगर कोई चाहे तो अनाज या तिलहन देकर गांधी सेवा आश्रम से अपने लिए हाथ कुट्टी चावल, दाल, दलिया, मसाला या तेल प्राप्त कर सकता है, जिसे सेवा आश्रम में नगद के बदले अनाज या तिलहन के रूप में ही पारिश्रमिक देना पड़ेगा। गांव के स्कूली छात्र और छात्राओं द्वारा प्रत्येक रविवार को ऐच्छिक श्रम सहायता का प्रावधान होगा। जिससे उन्हें अपनी परम्पराओं का ध्यान भी रहेगा। गांधी सेवा आश्रम में कोल्हू से मूंगफली, सरसों तेल की पेराई कर घानी तेल निर्माण किया जाएगा, जिसमें किसी भी प्रकार की अशुद्धता और मिलावट की गुंजाइश नहीं रहेगी।

Advertisement
0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव - आज रिश्तेदारों या पड़ोसियों के साथ किसी गंभीर विषय पर चर्चा होगी। आपके द्वारा रखा गया मजबूत पक्ष आपके मान-सम्मान में वृद्धि करेगा। कहीं फंसा हुआ पैसा भी आज मिलने की संभावना है। इसलिए उसे वसूल...

और पढ़ें

Advertisement