नीलक्रांति योजना:तालाब बनाकर मछली पालन कर कमा रहे मुनाफा

बेमेतरा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

नीलक्रांति योजना के तहत विवेक कुमार तिवारी पिता रामकुमार तिवारी, ग्राम कुसमी, बेमेतरा मछली पालन कर रहे हैं, जिससे उनको फायदा हुआ है। उन्होंने बताया कि वकालत की शिक्षा प्राप्त करने के बाद भी उन्होंने अपना पेशा छोड़कर कृषि कार्य को रोजगार के रूप में चुना। कृषि कार्य के अंतर्गत वे धान, चना, गेहूं, अरहर व गन्ना की फसल का उत्पादन वर्तमान में कर रहे हैं।

उन्होंने अपने खेत के लगातार गिरते जल स्तर को सुधारने के उद्देश्य से 35 डिसमिल में एक छोटे तालाब का निर्माण किया। निर्मित तालाब में कामनकार्प, मेजरकार्प व पंगेसियस मत्स्य बीज संचयन किया। एक वर्ष के बाद तालाब में मत्स्याखेट कार्य करने पर 550 किलोग्राम मछली का उत्पादन हुआ। मछली पालन से प्रेरित उत्साहित होकर उन्होंने मछली पालन विभाग बेमेतरा के अधिकारियों से संपर्क किया। इसके बाद साल 2020-21 में 0.93 हेक्टेयर में तालाब निर्माण का निर्णय किया।

तालाब निर्माण के बाद 2.63 लाख रुपए तालाब निर्माण के लिए व 56472 रू. परिपूरक आहार के लिए विभाग ने अनुदान दिया। साथ ही मत्स्याखेट के लिए जाल भी दिया। वर्तमान में तालाबों से 2 क्विंटल मछली का उत्पादन व विक्रय किया जा चुका है।

वर्तमान में नवनिर्मित तालाब में लगभग 4 टन मछली निकलने की संभावना है। भविष्य में मत्स्याखेट होने के बाद कुल 6.60 लाख रुपए आय की संभावना है। जिसमें लागत खर्च के बाद लगभग 3.80 हजार रुपए की शुद्ध आय होने की संभावना है।

खबरें और भी हैं...