मिलेगा अनुदान:भूमिहीन कृषि मजदूर न्याय योजना, जिले में अब तक दस हजार लोगों ने किया आवेदन

बेमेतरा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जिले के ग्रामीण क्षेत्रों में विशेष शिविर का आयोजन कर आवेदन ले रहे हैं। - Dainik Bhaskar
जिले के ग्रामीण क्षेत्रों में विशेष शिविर का आयोजन कर आवेदन ले रहे हैं।
  • ग्राम पंचायत में शिविर के माध्यम से लिए जा रहे आवेदन, 30 नवंबर अंतिम तारीख
  • लोगों में उत्साह: जिलेभर में सबसे ज्यादा साजा ब्लॉक में 3 हजार 218 आवेदन

जिले में भूमिहीन कृषि मजदूरों को राजीव गांधी ग्रामीण भूमिहीन कृषि मजदूर न्याय योजना के तहत लाभ दिलाने के लिए पंजीयन तेजी से किया जा रहा है। पंजीयन शुरू होने से 27 सितंबर तक बेमेतरा जिले के कुल 10 हजार 08 हितग्राहियों ने भूमिहीन कृषि मजदूर के रूप में पंजीयन के लिए आवेदन किया है। शासन की इस जनहितकारी योजना का लाभ लेने के लिए भूमिहीन मजदूर काफी उत्साह के साथ पंजीयन कराने ग्राम पंचायत कार्यालयों में आवेदन प्रस्तुत कर रहे हैं।

राज्य सरकार की इस योजना के तहत प्रत्येक भूमिहीन परिवार को छह हजार रुपए की अनुदान सहायता राशि दी जाएगी। हितग्राही परिवार के चिह्नांकन के लिए पंजीयन का कार्य एक सितंबर से जारी है। योजनांतर्गत बेमेतरा ब्लॉक से 3 हजार 183, बेरला ब्लॉक से एक हजार 659, नवागढ़ ब्लॉक से एक हजार 948, साजा ब्लॉक से 3 हजार 218 आवेदन प्राप्त हो चुके हैं। राज्य शासन द्वारा वित्तीय वर्ष 2021-22 के लिए योजना में भूमिहीन कृषि मजदूर परिवारों का पंजीयन 30 नवंबर तक करेंगे।

ग्राम पंचायतों में ले रहे फॉर्म, दे रहे पावती

भूमिहीन कृषि मजदूरों के रूप में पंजीयन के लिए हितग्राहियों को आवेदन फॉर्म ग्राम पंचायत कार्यालय में प्रस्तुत करना होगा। आवेदन में मुखिया का नाम, गांव का पता, पटवारी हल्का नंबर, सदस्यों का विवरण, बैंक खाता, आधार कार्ड आदि का विवरण दर्ज करना होगा। पंचायतों में पंजीयन की प्रक्रिया चल रही है। हितग्राही परिवार को जरूरी दस्तावेज के साथ आवेदन करने के बाद पावती भी पंचायत सचिव से प्राप्त होगी। पंचायत सचिवों द्वारा प्राप्त आवेदनों को ग्रामवार सीईओ जपं कार्यालय में जमा करना होगा। ऑनलाइन पोर्टल में प्राप्त आवेदनों की एंट्री भी की जाएगी।

जनपद और जिपं कर रही मॉनिटरिंग

जिला प्रशासन ने राजीव गांधी ग्रामीण भूमिहीन कृषि मजदूर न्याय योजना का लाभ हितग्राहियों को ज्यादा से ज्यादा मिल सके,इसे लेकर ग्राम पंचायतों में विशेष शिविर का आयोजन किया जा रहा है। इस शिविर में पटवारी, कोटवार, पंचायत सचिव समेत अन्य कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई गई है। प्रतिदिन आवेदन जमा करने के बाद जनपद व जिला पंचायत द्वारा मॉनिटरिंग की जा रही है। अफसरों के अनुसार आने वाले समय में आवेदन की संख्या बढ़ेगी। वर्तमान में 27 सितंबर की स्थिति में 10 हजार से अधिक आवेदन आ चुके है।

राजस्व विभाग करेगा प्रविष्टियों की जांच

आवेदन की अंतिम तारीख 30 नवंबर है। वहीं राजस्व अधिकारियों द्वारा भुइयां रिकार्ड के आधार पर इन प्रविष्टियों का परीक्षण किया जाएगा। पोर्टल में प्रदर्शित नियमों के अनुसार जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी द्वारा पंजीयन की कार्रवाई की जाएगी। भूमिहीन कृषि मजदूर के अंतर्गत जिले के ऐसे व्यक्ति को चिह्नांकित किया जाएगा, जिनके पास कोई कृषि भूमि या वन अधिकार पट्टा नहीं है।

ग्रामीण भूमिहीन कृषि मजदूर परिवार के अंतर्गत चरवाहा, बढ़ई, लोहार, मोची, नाई, धोबी, पौनी पसारी व्यवस्था से जुड़े परिवार तथा अन्य वर्ग आएंगे जिनके पास कोई कृषि भूमि ना हो। योजना में चयनित हितग्राही परिवार के मुखिया को 1 या 2 किस्तों में 6 हजार रुपए अनुदान सहायता राशि सीधे उनके बैंक खातों में डीबीटी के माध्यम से प्रदान की जाएगी।

खबरें और भी हैं...