पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बाइक गैंग के 8 सदस्य गिरफ्तार, 5 नाबालिग हैं:बेमेतरा जिले के गाडामोर सरपंच, पूर्व सरपंच और अन्य के साथ की थी लूट, आरोपियों से 3 बाइक, कैश और चाकू बरामद

बेमेतरा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बेमेतरा पुलिस के हत्थे बाइक गैंग के 8 आरोपी चढ़े हैं। इनमें 5 आरोपी नाबालिग हैं। - Dainik Bhaskar
बेमेतरा पुलिस के हत्थे बाइक गैंग के 8 आरोपी चढ़े हैं। इनमें 5 आरोपी नाबालिग हैं।
  • रप

छत्तीसगढ़ के बेमेतरा जिले की पुलिस ने बाइक गैंग के 8 आरोपियों को गिरफ्तार किया है। इनमें से 5 आरोपी नाबालिग हैं। इनके पास से 3 बाइक, 2 चाकू और नकदी बरामद की गई है। सभी आरोपी रायपुर व आस-पास जिले के रहने वाले हैं। अक्सर यह नजदीक के जिलों में अपने गैंग के माध्यम से लूट की वारदात को अंजाम देते थे। शिकायत के बाद दुर्ग रेंज के IG विवेकानंद सिन्हा की मॉनिटरिंग में करीब 8 पुलिस अधिकारियों की टीम बनाकर इस गैंग को पकड़ने में कामयाबी मिली है।

गिरफ्तार आरोपियों में बाइक गैंग का मुख्य आरोपी शाबीर खान (21 वर्ष), विक्की पाल उर्फ गोपेश पाल (18 वर्ष) और शुभम घृतलहरे (21 वर्ष) समेत 5 अन्य नाबालिग शामिल हैं। दरअसल आरोपियों ने पिछली 28 अप्रैल को कंडरका चौकी क्षेत्र के गाडामोर गांव के सरपंच और पूर्व सरपंच पर चाकू से हमला कर घायल कर दिया था। घटना के बाद से आरोपी फरार थे। मामले की शिकायत कंडरका चौकी में की गई थी, जिसके बाद से पुलिस इन सभी आरोपियों की तलाश कर रही थी।

SP ने कहा- आगे की कार्रवाई जारी

SP दिव्यांग पटेल ने बताया कि इन आरोपियों ने जिले के अलग-अलग क्षेत्रों में कई वारदातों को अंजाम दिया था। इस ग्रुप में 8 लोग शामिल हैं, जो बाइक से लूट की वारदात को अंजाम देते थे। लेकिन पुलिस को जब इसकी जानकारी मिली। उसके बाद एक पुलिस टीम बनाकर इनको पकड़ा गया है। फिलहाल इनके खिलाफ संबंधित धाराओं के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है और आगे की कार्रवाई की जा रही है।

बाइक गैंग सूनसान इलाके में लोगों को बनाते थे निशाना
बड़े ही शातिर ढंग से बाइक गैंग लूट की वारदात को अंजाम दे रहा था। पिछले 3 से 4 महीनों से बेमेतरा और अन्य क्षेत्रों की पुलिस को इस गैंग की तलाश थी। सभी मुंह में गमछा बांधकर पहले पूरी तैयारी करते थे, फिर बाइकों पर सवार होकर बेमेतरा व रायपुर जिले के आस-पास के क्षेत्रों में वारदातों को अंजाम देते थे। ज्यादातर सूनसान सड़कों पर लोगों को अपना निशाना बनाते थे। पुलिस को लगातार इसकी शिकायत मिल रही थी।