पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कोरोना पर आस्था भारी:प्रथम देवमड़ई में पहुंचे लाेग, दंतेश्वरी माई मंदिर में दर्शन भी किए

डौंडी2 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • मंदिर में देवी दर्शन के लिए जाने वाले भक्ताें के लिए समिति ने 3 स्थानों पर सैनिटाइजर की व्यवस्था भी की थी

रविवार को आदिवासी क्षेत्र डौंडी ब्लॉक की प्रथम देवमड़ई ग्राम ठेमाबुजुर्ग के दंतेश्वरी माई मंदिर प्रांगण में हुई। डौंडी ब्लाॅक की पहली मड़ई होने की वजह से काफी संख्या में महिला, पुरुष शामिल होकर देवी दर्शन किए। जिससे कोरोना पर आस्था भारी पड़ता नजर आया। मंदिर समिति ने शासन के नियमों का पालन करते हुए दुकानें दूर-दूर लगाने की बात कही थी, परंतु अधिक दुकान आ जाने की वजह से ऐसा संभव नहीं हुआ। मंदिर में देवी दर्शन के लिए जाने वाले भक्ताें के लिए समिति ने 3 स्थानों पर सैनिटाइजर की व्यवस्था की थी। सभी व्यक्तियों को सैनिटाइज करने के बाद ही प्रवेश दिया जा रहा था। मंदिर में नारियल फोड़ने की मनाही थीं। केवल देवी दर्शन की ही अनुमति दी गई। ब्लॉक मुख्यालय डाैंडी से 7 किलोमीटर दूर ग्राम पंचायत ठेमाबुजुर्ग की मड़ई में आसपास के 17 गांव गंगोलीडीह, कुरुटोला, भर्रीटोला, ढोरीठेमा, मड़ियाकट्टा, परसोदा, कुंजकन्हार, लैंनकसा, बांधापारा, पटेली, बोरगांव, लखमाटोला, होदेकसा, भीमाटोला, ठेमाबुजुर्ग, कामता, पचेड़ा, कांड़े, पचेड़ा, घोरदा, ठेमाखुर्द आदि गांव के देवी देवता डांग डोरी के रूप में शामिल हुए। मंदिर समिति के पदाधिकारी शिवप्रसाद बारला, भरत विश्वकर्मा, मनीराम ग्यारी, पंचम कोसमा, रामकुमार राजपूत, तुलाराम साहू, अर्जुन कुमेटी, दीनानाथ ने बताया कि देवी माता डेढ़ सौ साल से यहां पर स्थापित हैं, जो कि ब्लॉक के लोगों के लिए धार्मिक आस्था का केंद्र है। पहले देवी-देवताओं की मूर्ति घासफूस की झोपड़ी के रूप में थी। धीरे-धीरे लोगों की मनोकामना पूर्ण होने के बाद मध्यप्रदेश के तत्कालीन उद्योग व वित्त मंत्री और क्षेत्रीय विधायक झुमुकलाल भेड़िया व पूर्व विधायक लाल महेंद्रसिंह टेकाम ने मंदिर जीर्णोंद्धार के साथ विकास में सहयोग दिया। जिसे मंदिर ठेमाबुजुर्ग के विशाल वट वृक्ष की छाया में मूर्त रूप लेकर आस्था का केंद्र बना है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- परिस्थिति तथा समय में तालमेल बिठाकर कार्य करने में सक्षम रहेंगे। माता-पिता तथा बुजुर्गों के प्रति मन में सेवा भाव बना रहेगा। विद्यार्थी तथा युवा अपने अध्ययन तथा कैरियर के प्रति पूरी तरह फोकस ...

और पढ़ें