पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

स्कूली इंफ्रास्ट्रक्चर का हाल:सरकारी स्कूल में 61714 विद्यार्थी, क्लासरूम सिर्फ 1016 प्रोटोकॉल का पालन किया तो 3 दिन बाद अगली क्लास

दुर्ग7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • एक शिक्षक को 40 बच्चों का टार्गेट, पर 117 छात्रों को पढ़ाना पड़ेगा

2 अगस्त से हाई व हायर सेकंडरी स्कूल व सभी कॉलेज खुल जाएंगे। स्कूलों में नवमी से लेकर बाहरवीं तक कक्षाएं लगेंगी। वहीं कॉलेज में सेकंड व थर्ड ईयर की क्लास लगेगी। जिले के 177 हिन्दी व इंग्लिश मीडियम स्कूलों में 61714 और 351 निजी हाई व हायर सेकंडरी स्कूलों में 45843 विद्यार्थी पढ़ रहे हैं। प्रोटोकॉल के हिसाब से 50 प्रतिशत क्षमता के साथ स्कूलों में पढ़ाई करवानी है।

जिले के 32 सरकारी स्कूल ऐसे हैं जहां कमरे कम हैं और दर्ज संख्या ज्यादा है। रिसाली, बोरी, सेक्टर 6, कुम्हारी, पाटन कन्या, धमधा स्कूल में इंग्लिश मीडियम स्कूल इस साल ही शुरू हुआ है। इन स्कूलों में 800 से लेकर 1200 विद्यार्थी हैं। इसलिए हिन्दी माध्यम में वाले विद्यार्थी 500 से ज्यादा है। ऐसे में अगली क्लास का नंबर तीन दिन बाद आएगा।

डेढ़ साल से नहीं खुले स्कूल, दर्ज संख्या बढ़ी

यह तस्वीर शासकीय उच्चतर माध्यमिक शाला रिसाली की है। इस स्कूल में इंग्लिश मीडियम स्कूल की कक्षाओं में 400 बच्चे दर्ज हैं। 8 कमरे हैं, उनका भी रिनोवेशन हो रहा है। रिनोवेशन कार्य की वजह से कुर्सियां-टेबल सभी बाहर पड़े-पड़े कबाड़ हो रहे हैं। हिन्दी माध्यम की हाई व हायर सेकंडरी स्कूल के 190 बच्चे अध्ययनरत हैं। इन बच्चों के लिए एक भी कमरे नहीं है। 13 कमरे की जरूरत है जो प्रस्तावित है। आदर्श कन्या दुर्ग और जेआरडी स्कूल में संधारण कार्य चल रहा है। 114 साल पुराना यह स्कूल छप्पर में संचालित है। बारिश के दिनों छत से पानी टपकता है।

50 प्रतिशत क्षमता के साथ क्लास में दिया जाएगा प्रवेश

कोविड के संभावित खतरे को देखते हुए प्रोटॉकॉल तय किया गया है। इसमें एक क्लास में कमरे में बैठक क्षमता से आधे छात्रों की ही कक्षाएं लगाई जानी है। इसके अलावा छात्रों की कुल संख्या से आधे बच्चों को ही बुलाया जाना है। इस हिसाब से स्कूल व कॉलेज में दिक्कतें सामने आ रही है।

सभी स्कूलों की रिपोर्ट मंगवाई है, इसके अनुसार क्लास लगेगी

हमने सभी स्कूलों से रिपोर्ट मंगवाई है। कमरे कितने हैं। विद्यार्थियों की कक्षावार स्थिति क्या है। संसाधान क्या हैं। उसके हिसाब से प्राचार्यों को रणनीति बनानी है कि वे कितनी पाली में स्कूल लगाएंगे। इसे लेकर भी बैठक में तय किया जाना है। जल्द ही बैठक बुलाई जाएगी।

-प्रवास सिंह बघेल, डीईओ दुर्ग

खबरें और भी हैं...