पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बेकाबू हो गया संक्रमण:हफ्ते भर में 5885 लोग संक्रमित, 37 लोगों की गई जान; गांवों में बढ़ी मरीजों की संख्या

दुर्ग6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • कोरोना की रफ्तार ग्रामीणों इलाकों में भी तेज, ढौर में अभी तक 130 मरीज
  • ढौर के पड़ोसी गांव रवेलीडीह में भी कोरोना ने दी दस्तक, यहां 12 संक्रमित

दुर्ग जिले में कोरोना के संक्रमण की रफ्तार कम नहीं हो रही है। अब ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना ने अपने पांव पसारने शुरT कर दिए हैं। मुख्यालय से लगे हुए ढ़ौर और रवेलीडीह गांव में संक्रमण तेजी से फैला है। ढौर गांव को तो कंटेनमेंट जोन बना दिया गया है। वहीं रवेलीडीह गांव में अभी तक 12 लोग संक्रमित पाये गए हैं।

ग्रामीण क्षेत्र में कोरोना की एंट्री

कोरोना संक्रमण शहरी क्षेत्रों के अलावा ग्रामीण क्षेत्रों में भी पहुंचने लगा है। ढौर गांव में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या 130 हो गई है। फिलहाल अभी नए मरीज नहीं मिले हैं। दुर्ग SDM विनय पोयाम ने बताया कि पूरे गांव को कंटेनमेंट जोन बनाकर 7 दिनों के लिए सील किया गया था। नए मरीज नहीं मिल रहे हैं तो गांव से कंटेनमेंट जोन को हटाने की कार्रवाई की जा सकती है। लेकिन ढौर के पास के गांव रवेलीडीह में भी 12 कोरोना पॉजिटिव मरीज मिले हैं। गांव में सैनिटाइजर का छिड़काव किया गया है और पूरे गांव के लोगों का सैंपल कलेक्ट किया जा रहा है। अधिकारियों के मुताबिक स्थिति नियंत्रण में है।

जिले में एक हफ्ते में कोरोना संक्रमण का ग्राफ तेजी से बढ़ा

जिला प्रशासन के सामने सबसे बड़ा सवाल यही खड़ा हो रहा है कि जब कोरोना संक्रमण को लेकर सभी एहतियात बरती जा रही है तो फिर आखिर कोरोना कैसे बढ़ रहा है। शहरी क्षेत्रों में कंटेनमेंट जोन बनाए जा रहे हैं। अभी तक जिले में 45 से ज्यादा कंटेनमेंट जोन बनाए जा चुके हैं। लेकिन मरीजों की संख्या कम नहीं हो रही है। 24 मार्च से लेकर 30 मार्च तक के स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी आंकडों को देखें तो हालात लगातार खराब होते जा रहे हैं। हफ्तेभर में 5885 लोग संक्रमित हुए और 37 लोगों की जान गई।