पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

आमने-सामने:कांग्रेस ने दी चेतावनी, केंद्र बदले फैसला, बीजेपी ने निर्णय सहीं ठहराया

दुर्ग11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • कांग्रेस : देश की संपत्तियों को बेच रही केंद्र सरकार
  • बीजेपी:चिंतन शिविर में एकजुटता से डर गए कांग्रेसी

वर्ष 2023 में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर जिले सहित प्रदेश में राजनीतिक बिसात सजने लगी है। कांग्रेस और भाजपा के नेताओं में आरोप-प्रत्यारोप का दौर शुरू हो गया है। बीजेपी के नेता जहां राज्य की कांग्रेस सरकार की कार्यप्रणाली पर सवाल उठा रहे हैं, वहीं कांग्रेस के नेता केंद्र की नीतियों व निर्णयों को लेकर सड़क पर उतरकर विरोध दर्ज करा रहे हैं। सोमवार को प्रदेश कांग्रेस कमेटी के निर्देश पर सभी 36 जिला संगठनों में प्रेसवार्ता का आयोजन किया गया। प्रदेश महामंत्री राजेंद्र साहू ने कहा कि देश में बड़े पैमाने पर कांग्रेस ने कल कारखाने, उद्योग से संबंधित संपत्तियां विकसित की। आज बीजेपी की सरकार उसे बेचने की कोशिश कर रही है।

सड़क पर उतरकर दर्ज कराएंगे विरोध, कांग्रेस चलाएगी मुहिम
इधर भिलाई जिला कांग्रेस कमेटी की अध्यक्ष तुलसी साहू ने कहा कि संगठन केंद्र की बीजेपी सरकार के इस फैसले के विरोध में सड़क पर उतरकर विरोध दर्ज कराएगी। इस अवसर पर जिला प्रभारी लालजी चंद्रवंशी सहित अन्य मौजूद थे। ग्रामीण अध्यक्ष निर्मल कोसरे ने कहा कि यह जनता की कमाई का दुरुपयोग है। जनता ने सत्ता इसलिए नहीं सौंपी कि राष्ट्र की संपत्तियों को ही बेच दिया जाए।

चिंतन शिविर में बीजेपी ने दिखाई ताकत, कांग्रेस ने सत्ता में आने झूठ बोला: डॉ. तमेर
बीजेपी दुर्ग के जिला अध्यक्ष डॉ. शिव कुमार तमेर ने कहा कि कांग्रेस ने जनता से किए वायदों को पूरा नहीं किया। अपनी असफलता को छिपाने के लिए कई शिगूफे छोड़े जा रहे हैं। कांग्रेस नेताओं का काम सिर्फ झूठ बोलना है। प्रदेश के मुख्यमंत्री के पिता प्रदेश सहित देश में नफरत फैला रहे हैं। कांग्रेस की रीति-नीति को लेकर इससे बड़ा प्रमाण और क्या हो सकता है। कांग्रेस हमेशा से नफरत की राजनीति करते आई है। प्रदेश में 500 से ज्यादा किसान आत्महत्या कर चुके हैं। कर्ज के बोझ से मध्यम व गरीब किसान परेशान है। प्रदेश में बेरोजगारी चरम पर है। रोज हत्या, लूट, डकैती और दुष्कर्म के मामले सामने आ रहे हैं। सरकार ने शराबबंदी का वायदा पूरा नहीं किया। युवाओं को बेरोजगारी भत्ता अब तक नहीं बांटा।

खबरें और भी हैं...