पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

परेशानी:किसानों काे उपज का भुगतान 10 दिन बाद, लेकिन कर्ज वसूली तुरंत हो रही

दुर्ग3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • 21.91 करोड़ रुपए का भुगतान अटका, सॉफ्टवेयर में खराबी से नहीं मिल रहा हिसाब

प्रशासन धान खरीदी का पैसा किसानों को रोज 10 से 12 करोड़ रुपए भुगतान का दावा कर ही है लेकिन हकीकत अलग है। किसानों से कर्ज की तत्काल वसूली हो रही है, लेकिन उनका पैसा 72 घंटे के बाद भी उनके खातों में ट्रांसफर नहीं हो रहा। बेचे गए धान का पैसा खातों तक पहुंचने में उन्हें 10 दिनों का इंतजार करना पड़ रहा है। हाल यह है कि जिले के 90 धान खरीदी केंद्रों में धान बेचने वाले किसानों का 21.91 करोड़ रुपए का भुगतान अटका हुआ है। किसानों को बैंक और सोसाइटी के चक्कर काटने पड़ रहे हैं। इधर खरीदी सॉफ्टवेयर में चार दिनों से तकनीकी खराबी आ गई है। इसकी वजह से यह भी पता नहीं चल रहा है कि किस खरीदी केंद्रों में कितना धान कितने किसानों से खरीदा गया है। कितना धान का परिवहन हो रहा है और कहां जा रहा है यह भी जानकारी नहीं मिल रही।

अब तक कितना पैसा आया और कितना भुगतान हुआ, जानिए
सरकार से जिला केंद्रीय सहकारी बैंक को 562.62 करोड़ रुपए किसानों को धान बेचने के एवज में भुगतान के लिए मिले हैं। बैंक का दावा है कि इनमें से 540.71 करोड़ रुपये का भुगतान किसानों को किया जा चुका है। ये करीब 72 हजार किसानों को भुगतान करने के लिए हैं। वहीं जिले में वर्तमान में 73750 किसान अपनी उपज बेच चुके हैं।

खाते में पैसे आते ही कर्ज के वसूल लिए गए 197 करोड़ रुपए
जिला केंद्रीय सहकारी बैंक ने जिले के 72468 किसानों को 294 करोड़ रुपये कर्ज दिए थे। इसलिए जैसे ही किसान धान बेचने पहुंचते हैं सॉफ्टवेयर में उनका बकाया कर्ज निकाला जाता है। धान का तौल हुआ और तत्काल जितना रकम कर्ज में लिया गया है उसे काट देते हैं। धान खरीदी के दौरान अब तक 197 करोड़ रुपए बतौर कर्ज वसूली बैंक ने कर ली।

सॉफ्टवेयर में खराबी होना बता लौटाए जा रहे किसान
अचानकपुर के किसान रोहित साहू, सतीश कुमार, बोरीगारका निवासी हिरेश कुमार, गनियारी के किसान रमेश बंजारे ने बताया कि सोसाइटी में धान का पैसे की जानकारी लेने के लिए जा रहे हैं, तो वहां सॉफ्टवेयर खराब होना बताकर लौटाया जा रहा है। कब तक सुधरेगा इसे भी नहीं बताते। इसलिए चक्कर काटना पड़ रहा है।

दिक्कत हमारे यहां से नहीं
"जैसे ही हमें सोसाइटी से धान बिक्री की फाइल मिलती है, हम उतने किसानों का पैसा दूसरे दिन ही समितियों को रिलीज कर देते हैं। यही फाइल एनआईसी हो हम भेजते हैं। वहां से सेंट्रल और मुंबई टीसीएसपी कंपनी मंजूर करती है। किसानों के खाते में पैसा जाता है। दिक्कत हमारे यहां से नहीं है।"
-पंकज सोढ़ी, सीईओ जिला केंद्रीय सहकारी बैंक दुर्ग

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज कई प्रकार की गतिविधियां में व्यस्तता रहेगी। साथ ही सामाजिक दायरा भी बढ़ेगा। आप किसी विशेष प्रयोजन को हासिल करने में समर्थ रहेंगे। तथा लोग आपकी योग्यता के कायल हो जाएंगे। कोई रुकी हुई पेमेंट...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser