अब गांवों में भी ड्रेनेज वॉटर होगा साफ:दुर्ग के घुघवा गांव में ट्रीटमेंट प्लांट लगाने से शुरुआत, 159 घरों को जोडेंगे ड्रेनेज सिस्टम से

दुर्ग2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
वाटर ट्रीटमेंट प्लांट का चल रहा है काम। - Dainik Bhaskar
वाटर ट्रीटमेंट प्लांट का चल रहा है काम।

दुर्ग जिले के गांव में भी अब वाटर ट्रिटमेंट प्लांट देखने को मिलेगा। महानगरों बनाए जाने वाले ट्रीटमेंट प्लांट के छोटे रूप को तैयार कर गांव में नया कॉन्सेप्ट लाया जा रहा है। ऐसा करके गांवों में ड्रेनेज सिस्टम को ठीक कर वहां के ईकोसिस्टम दुरुस्त किया जाएगा। ग्राम घुघुवा में ग्रे वाटर ट्रीटमेंट प्लांट का काम पूरा हो गया है। इस प्लांट के तैयार होने के बाद यहां के बोहरी तालाब का पानी पहले से काफी साफ हो गया है। यह प्लांट स्वच्छ भारत मिशन एवं वाटर एड संस्था के द्वारा तैयार किया जा रहा है। इसके निर्माण में मात्र 7 लाख रुपए की लागत आ रही है।

स्वच्छ भारत मिशन के अधिकारी गिरीश माथुर ने बताया कि गांव में ड्रेनेज की अच्छी प्लानिंग नहीं होने की वजह से सारा गंदा पानी तालाब में जाता था। इससे तालाब का पानी दूषित हो जाता था। ऐसा होने से भूमिगत जल की गुणवत्ता भी प्रभावित हो रही थी। वाटर ट्रीटमेंट प्लांट से पानी का स्तर काफी सुधरेगा। घुघुवा में जो वाटर ट्रीटमेंट प्लांट तैयार किया गया है, उससे 154 घरों का ड्रेनेज जोड़ा गया है। इसके साथ ही कुछ घरों में सोख्ता गड्ढे बनाए जाएंगे। यहां वाटर ट्रीटमेंट का कार्य पूरा हो जाने के बाद बेहतर ड्रेनेज के मामले में घुघुवा आदर्श गांव कहलाएगा।

बताया जा रहा किचन गार्डन का महत्व

गांव के लोगों को अब नरवा घुरवा बारी के बाद किचन गार्डन का महत्व बता कर उन्हें उस ओर जाने के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है। इसके साथ ही उन्हें सिंगल यूज प्लास्टिक से दूर रहने के लिए भी प्रोत्साहित किया जा रहा है।

खबरें और भी हैं...