पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

पानी की जरूरत बढ़ी:खरखरा से छोड़े गए पानी की रफ्तार हो गई धीमी, नहीं भरे एनीकट, एसई से मिले वोरा

दुर्ग15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
विधायक अरुण वोरा ने निगम में अधिकारियों से भी चर्चा की। - Dainik Bhaskar
विधायक अरुण वोरा ने निगम में अधिकारियों से भी चर्चा की।

गर्मी के आते ही पानी की जरूरत बढ़ गई है। पिछले दिनों जिले के तीन प्रमुख एनीकट में जलभराव के लिए खरखरा जलाशय से पानी छोड़ा गया। अब छोड़े गए पानी की रफ्तार धीमी हो गई है।

इधर अब तक महमरा एनीकट 4 इंच, कोनारी-भरदा ढाई फीट व चंगोरी एनीकट 9 इंच तक खाली है। इस पर शहर विधायक अरुण वोरा जल संसाधन विभाग के एसई समीर जार्ज से मिले। उन्होंने तत्काल इन एनीकट को भरने केे लिए निर्देशित किया। वोरा ने निस्तारी तालाबों को भरे जाने के बारे में भी जानकारी ली। एसई ने बताया, जिले के 500 से अधिक तालाबों को भरा जाना है। दुर्ग ब्लॉक में 12 तालाबों में पानी पहुंचना भी शुरू हो गया है। करीब 72 तालाब दुर्ग केे भरे जाने हैं।

पेयजल एवं निस्तारी की व्यवस्था करना हमारी जिम्मेदारी

वोरा ने कहा कि शहर के 24 तालाबों का जल स्तर बढ़ती गर्मी के साथ ही कम होता जा रहा है। आधी आबादी निस्तारी के लिए तालाबों पर निर्भर है। पेयजल एवं निस्तारी की व्यवस्था सुनिश्चित करने की जिम्मेदारी हमारी है। इसलिए विभाग इसे गंभीरता से ले।

उन्होंने कहा कि ग्रीष्म काल में आम जनता को निस्तारी की समस्या नहीं होनी चाहिए। निगम की डिमांड के अनुरूप सिंचाई विभाग द्वारा लेबल डाउन होने के पहले ही पानी छोड़ा जाए। वोरा ने कैलाश नगर, शक्ति नगर, बोरसी, पोटिया, दीपक नगर, कातुल बोड के तालाबों में गंदगी होने की शिकायत से अवगत कराया। इस अवसर पर एल्डरमैन अंशुल पांडेय, पूर्व पार्षद राजेश शर्मा व अन्य मौजूद थे।

पेयजल के लिए खरखरा से निकायों का हुआ अनुबंध
दुर्ग-भिलाई में पेयजल आपूर्ति के लिए जल संसाधन विभाग व इन निकायों का अनुबंध हुआ है। इस अनुबंध के तहत ही प्रतिवर्ष गर्मी के दिनों में खरखरा जलाशय से 0.94 एमक्यूएम पानी छोड़ा जाता है। औसतन तीन बार पानी छोड़ा जाता है। छोड़े जाने वाले पानी को जिले के महमरा एनीकट, कोनारी-भरदा व चंगोरी एनीकेट में जलभराव रखा जाता है।

जरूरत के हिसाब से गर्मी के दिनों में इसे खोलकर महमरा एनीकट को भरा जाता है। जहां बने इंटकवेल के माध्यम से दुर्ग और भिलाई में पेयजल की आपूर्ति होती है। दुर्ग में जहां 77 एमएलडी की क्षमता है। वहीं भिलाई में 143 एमएलडी पानी फिल्टर करने की क्षमता है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- कहीं इन्वेस्टमेंट करने के लिए समय उत्तम है, लेकिन किसी अनुभवी व्यक्ति का मार्गदर्शन अवश्य लें। धार्मिक तथा आध्यात्मिक गतिविधियों में भी आपका विशेष योगदान रहेगा। किसी नजदीकी संबंधी द्वारा शुभ ...

    और पढ़ें