पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

परेशानी:गोंदिया मेडिकल कॉलेज की नर्सें हड़ताल पर कहा- डॉक्टरों का काम भी हमसे ले रहे हैं

गोंदिया10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

गोंदिया मेडिकल कॉलेज में कार्यरत 40 से अधिक नर्सों ने अपनी मांगों को लेकर 15 सितंबर से मेडिकल कॉलेज के सामने हड़ताल शुरू कर दी है। इससे एक ओर जहां मरीजों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। वहीं मेडिकल कॉलेज प्रशासन भी सकते में आ गया है। हड़ताली नर्सों का कहना है कि कोविड-19 के मरीजों को डाक्टरों के अभाव में सेवा नहीं मिल रही है। यहां कार्यरत नर्सें 15 से 18 घंटों तक लगातार काम कर रही है। 9 नर्स कोरोना पॉजिटिव भी हो चुकी है। कार्यरत नर्सों ने मांग की है कि मेडिकल कॉलेज में डाक्टरों व कर्मचारियों के रिक्त पद भरकर नर्सों की समस्या सुलझायी जाए।
गोंदिया मेडिकल कॉलेज में कोविड-19 मरीजों के साथ अन्य मरीजों का भी उपचार जारी है। कोविड-19 वार्ड में कार्यरत नर्साें का कहना है कि डॉक्टरों का काम भी हमें ही करना पड़ रहा है।
यह भी बताया कि 26 नर्सों को अन्य स्थानों पर नियुक्ति दी गई है। जिस वजह से यहां कार्यरत शेष नर्सों को 15 से 18 घंटों तक काम करना पड़ रहा है और उनके लिए न तो भोजन की व्यवस्था है ना ही निवास की। मरीजों को समय पर उपचार नहीं मिलने के कारण मरीज तथा मरीजों के परिजन नर्सों के साथ विवाद कर रहे है। कम्प्यूटर ऑपरेटर का काम भी नर्सों को ही करना पड़ रहा है।
दो दिनों में समस्या होगी हल: गोंदिया विधायक विनोद अग्रवाल ने कहा कि हड़ताल की जानकारी मिलते ही हमने ने मेडिकल कॉलेज पहुंचकर हड़ताली नर्सों के साथ चर्चा कर उनकी समस्याओं की जानकारी ली है। उनकी समस्याएं वास्तव में गंभीर है। कर्मचारियों के रिक्त पद भरने तथा उनकी भोजन एवं निवास की व्यवस्था करने के लिए अभी वैद्यकीय शिक्षण संचालक, जिलाधिकारी, डीन से चर्चा कर हड़ताली नर्सों की समस्याएं सुलझाने की बात कहीं है। दो दिनों में उपरोक्त आंदोलनकारियों की समस्या सुलझाई जाएगी।
समस्या सुलझाने का प्रयास: डीन, गोंदिया मेडिकल कॉलेज वीपी रूखमोडे ने कहा किउपरोक्त हड़ताल करने वाली परिचारिकाओं की समस्या जल्द ही हल की जाएगी। इस संदर्भ में वैद्यकीय अधीक्षक एवं स्वास्थ्य संचालक से चर्चा की गई है। मेडिकल कॉलेज की 26 नर्सों की कोविड-19 के 100 बेड के शुरू होने वाले अस्पताल के लिए नियुक्ति की गई है। जिसके कारण उपरोक्त समस्या निर्माण हुई है।

डॉक्टर नियुक्त नहीं, एक नर्स पर 25 मरीजों की जिम्मेदारी
इस संबंध में अधिपरिचारिका, मेडिकल कॉलेज गोंदिया मीनाक्षी बिसेन ने बताया कि मेडिकल कॉलेज के कोविड वार्ड में डॉक्टर नहीं आ रहे हैं। उनका काम भी हमें ही करना पड़ रहा है। इसके अतिरिक्त कोविड-19 के 100 बेड का दूसरा अस्पताल केटीएस में शुरू किया जा रहा है, जिसके लिए मेडिकल कॉलेज में कार्यरत 26 नर्सों की नियुक्ति की गई है। अभी तक वहां डाक्टरों की नियुक्ति नहीं होने से वह अस्पताल शुरू नहीं हो पाया है। मेडिकल के कोविड वार्ड में नर्सों की कमी है। एक नर्स पर 25 मरीजों की जिम्मेदारी आ गई है। 9 नर्सेस कोरोना पॉजिटिव हो चुकी हैं।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आप भावनात्मक रूप से सशक्त रहेंगे। ज्ञानवर्धक तथा रोचक कार्यों में समय व्यतीत होगा। परिवार के साथ धार्मिक स्थल पर जाने का भी प्रोग्राम बनेगा। आप अपने व्यक्तित्व में सकारात्मक रूप से परिवर्तन भ...

और पढ़ें